“केमो के बाद बालों के विकास के लिए आवश्यक तेल |महिला के लिए बालों के झड़ने को रोकने के लिए कैसे”

कई लोग बालों के असामान्य झड़ने को रोकने के लिए शेम्पू या किसी विशिष्ट साबुन का इस्तेमाल करते है. आप उन लोगो की तरह यह गलती न करे. हम आपको यहाँ बालों को रोकने के लिए कुछ उपाय (Tips) बता रहे है जो आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होंगे.

एक और बात कि महंगे उपचारों को अपनाने से पहले यदि आप घरेलू नुस्खों को आजमा लें तो यह ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि देखा जाता है, कि कई बार बहुत से लोगों पर यह घरेलू नुस्खे बहुत अच्छे से काम करते हैं। साथ ही आप एक बार डॉक्टर से चेक अप करा कर बाल झड़ने के कारणों का भी पता कर लें।  

उपयोग करने के लिए, कच्चे आंवले के जूस को एक गिलास पानी में मिलाएं और इसे रोजाना पिएं। वैकल्पिक रूप से, यदि आप अपने बालों के लिए मेहंदी का उपयोग करते हैं, तो उसमें कुछ आंवले का रस मिलाएं और बालों पर लगाएं। दो कप पानी में एक मुट्ठी भर सूखे आंवले को रात भर भिगो कर रखें। सुबह में छान कर उपयोग करें। आंवला को पीसकर और मेहंदी पाउडर में मिक्स करें। इसके अलावा, मोटी पेस्ट बनाने के लिए चार चम्मच नींबू का रस, कॉफी, दो कच्चे अंडे और पर्याप्त आंवला पानी को मिक्स करके पेस्ट बनाएं। इसे बालों पर लगाएं और इसे करीब दो घंटे बाद पानी से धोने से लें।

आयुर्वेद बाल धोने के बाद तेल लगाने की हिमायत करता है। महाभृंगराज या ब्रा±मी तेल से बालों को अच्छा पोषण मिलता है। इसमें त्रिफला होता है, जो बालों की सेहत के लिए अच्छा है। महाभृंगराज तेल से बालों का कालापन भी बढ़ता है, हालांकि यह सफेद बाल काले नहीं कर सकता।आयुर्वेद के मुताबिक हफ्ते में एक-दो बार तेल लगाकर अच्छी तरह सिर की मसाज करें। मसाज किसी भी तेल से कर सकते हैं लेकिन आंवला, ऑलिव, नारियल या तिल का तेल अच्छा है। रात भर तेल रखकर सुबह किसी अच्छे हर्बल शैंपू से बाल धो लें। इसके बाद एक लोशन लगाएं।

भारतीय महिलाएं अपनी सेहत का ख्याल न रखने की आदत के लिए जानी जाती हैं। यहाँ पर जानें कि आपको वो कौन सी बातें मालूम होनी चाहिए जिससे आपकी सेहत सही रखी जा सके। Read women health tips hindi ( Mahilao ki Health ke Liye Tips).

हम में से अधिकांश लगता है कि केवल उम्र बढ़ने पुरुषों को अपने बालों को खो. लगभग हर आदमी अंत में नुकसान और सिर के शीर्ष पर एक एम के आकार का सिर के मध्य के गठन में जिसके परिणामस्वरूप बाल का पतला होना ग्रस्त, के रूप में भी पुरुष पैटर्न गंजापन के लिए भेजा. यह एंड्रोजेनिक एलोपेसिया है, DHT के रूप में जाना टेस्टोस्टेरोन का एक उपोत्पाद से शुरू हो रहा है जो. दोनों लिंगों उम्र के लोगों के रूप में, उनके बाल कूप छोटे पतले होने में जिसके परिणामस्वरूप / बाल के असमान विकास मिलता है. क्योंकि यह वह जगह है, जहां ज्यादातर हार्मोन के प्रति संवेदनशील कूप पाए जाते हैं कारण है कि आगे और सिर के ऊपर बाल thinning के लिए सबसे अधिक पीड़ित करने के लिए प्रकट होता है. पीठ पर बाल कूप और पक्षों DHT से प्रभावित नहीं हैं और इस तरह स्वस्थ रहने.

किसी भी प्रभाव को देखा जाने से पहले इसे आमतौर पर फाइनस्टेराइड का उपयोग करने में लगातार तीन से छह महीने लगते हैं। अगर उपचार रोक दिया जाता है तो बाल्डिंग प्रक्रिया आमतौर पर छह से 12 महीनों के भीतर शुरू होती है।

बाल तोड़ फुंसी कील को हल्का दबा कर पस गंदगी को रूई डिटोल / Dettol में भिगो कर अच्छे से साफ कर लें। गन्दा खून निकलने पर बाल तोड़ जल्दी ठीक होता है। बाल तोड़ फुंसी को तभी पिचकायें दबायें जब कील पस बन चुकी हो। शुरूआती साधारण बाल तोड़ फुंसी को न दबायें। शुरूआती साधारण बाल तोड पर गर्म पानी में चुटकी भर नमक मिलाकर Warm Salty Water सिकाई करना फायदेमंद है।

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

पपीते के ताज़ा पत्ते डेंगू रोगी के लिए महा औषधि का काम करते है। इसकी पत्तियों को पीसकर रस निकाल लें।  कड़वेपन को दूर करने के लिए इसमें संतरे का रस या शहद मिलाया जा सकता है। दिन में एक-दो बार इसका सेवन करे।

हेयर ट्रांस्प्लांटेशन – इस विधि से बालों को एक स्काल्प से दूसरे स्काल्प में स्थानांतरित किया जाता है। इस दौरान एक व्यक्ति के सिर से दूसरे के सिर में बाल इस तरह लगाए जाते हैं कि जिस हिस्से से बाल निकाले गए हों वे दूसरे के सिर में उसी हिस्से पर लगाए जाएं। इसके साथ-साथ बाल झड़ने की रोकथाम से जुड़े अन्य उपचारों को भी किया जाता है।

रोज़ाना कुछ मिनट के लिए अपनी खोपड़ी को गुनगुने तेल से मालिश करें। मालिश के लिए आप किसी भी तेल का प्रयोगकर सकते हैं जैसे नारियल, लैवेंडर, बादाम, सरसों या जोजोबा का तेल। अगर आपके बाल डैंड्रफ की वजह से झड़ रहे हैं तो जोजोबा का तेल इसका काफी अच्छा इलाज है। जोजोबा के तेल में मौजूद सीबम सिर को पोषण देता है। तेल से मालिश करें और 1 घंटे बाद शैम्पू कर लें।

१९. Safflower oil for hair: बालों को झड़ने और गंजेपन से बचाने के लिए कुसुम के तेल का प्रयोग किया जाता है। इस तेल में काफी मात्रा में फैटी एसिड होते हैं जो स्वस्थ बालों के लिए काफी आवश्यक होते हैं। बाज़ार में दो प्रकार के कुसुम के तेल मिलते हैं। कुसुम का तेल घुंघराले और सूखे बालों के लिये काफी फायदेमंद है। सिर की मालिश के लिए कुसुम के तेल से मालिश करें। इसे १ घंटे के लिए छोड़ दें तथा बालों को धो लें। स्वस्थ बालों के लिए इसे हर हफ्ते प्रयोग करें।

हफ्ते में १ बार तिल का तेल बालों में लगाये। इस तेल के प्रयोग से बालों का गिरना कम ही जाता है। दूध या दही में बेसन मिला कर घोल बना कर बालों पर लगाए। इससे बालों में चमक आती है और बाल झड़ना बंद हो जाते है।

इम्यूनोथेरेपी केवल विशेष केंद्रों में उपलब्ध है आपको सप्ताह में एक बार कई महीनों तक केंद्र का दौरा करना होगा। डीपीसीपी लागू होने के बाद, आपको 24 घंटे के लिए इलाज क्षेत्र में एक टोपी या स्कार्फ पहनना पड़ेगा क्योंकि प्रकाश रासायनिक पदार्थों के साथ बातचीत कर सकता है।

प्याज बहुत सारी दवाओं का काम करता है। प्याज बालों को झड़ने से रोकने में भी मददगार होता है. कुछ प्याज लेकर उसका रास निकल ले अब इस रस को अच्छी तरह अपने बालों में लगाए। कुछ देर इसे बालों में रखने के बाद साफ पानी से बालों को धो ले। ऐसा करने से बालों को झड़ने से रोकने में मदद मिलेगी।

आज के समय में बाल गिरने की समस्या बहुत आम हो गयी है। साथ ही एक और बात जो बेहद आम है वो है सही जानकारी की कमी होना। हम समस्याओं का निवारण करने के लिए बहुत उपचारों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन किस उपचार को किस तरह इस्तेमाल करना है, उसके क्या प्रभाव होंगे आदि जानकारी का हमेशा अभाव रहता है।

बालों के झड़ने से रोकने और घने बाल पाने का सबसे आच्छा तरीका है संतुलित आहार लेना। ऐसे आहार का सेवन करना चाहिए जिसमे की विटामिन और पौष्टिक तत्व जैसे विटामिन ए, सी, तांबा(कॉपर), लोहा(आयरन), ज़िंक मौजूद हो।हमेशा हाइड्रेटेड रहना चाहिये जो की बालो को घना बनाए रखता है इसलिए शरीर मे पानी कमी नही होने देना चाहिये और भरपूर मात्रा मे पानी का सेवन करना चाहिये।

होम्योपैथी चिकित्सा संवेदनशील खोपड़ी के लिए जो एक्जिमा से ग्रस्त होती है, यह बालों की जड़ों को मजबूत करती है. सामग्री – उस्तलागो मेदिस (बालों के नुकसान के लिए), वाइसबाडेन (बाल रेग्रोथ), काली फोस (थकान के कारण बालों के झड़ने), एसिड फोस (सिर पर, भौहें, जननांग में बालों का नुकसान,)

नमक का अधिक सेवन करने से गंजापन आ जाता है। पिसा हुआ नमक व काली मिर्च एक-एक चम्मच नारियल का तेल पांच चम्मच मिलाकर गंजेपन वाले स्थान पर लगाने से बाल आ जाते हैं। कलौंजी को पीसकर पानी में मिला लें। इस पानी से सिर को कुछ दिनों तक धोने से बाल झड़ना बंद हो जाते हैं और बाल घने भी होना शुरू हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *