“केमो समयरेखा के बाद बाल वृद्धि |बालों के झड़ने आहार ebook”

सर्वप्रथम, लागत अपनाई गई प्रक्रिया के प्रकार के अनुसार भिन्न होती है। एफ़यूई, पट्टी (स्ट्रिप) विधि की तुलना में अधिक महंगी है, चूँकि इसके अधिक लाभ हैं और केवल कुछ सर्जन ही इसकी पेशकश कर सकते हैं। एफ़यूई में पट्टी विधि की तुलना में सर्जन का समय भी अधिक लगता है।

हेयर ट्रांसप्लांट के बाद पहले एक बार बाल झड़ते हैं जो सामान्य हैं। लेकिन दो-तीन महीने के बाद बाल सही तरह से उगना शुरू हो जाते हैं। इसलिए पूरा परिणाम आने में कम से कम 6 महीने का समय लगता है। कई लोगों को पूरी तरह से बाल ना आने की शिकायत रहती है, जिसकी वजह खराब तकनीक, विशेषज्ञ सर्जन (प्लास्टिक सर्जन या डर्मेटोलॉजिस्ट ) से इलाज न लेना और ऑटोइम्यून डिजीज होती है। हेयर प्लांट दूसरी सर्जरी जितनी ही जटिल होती है और इसे अपनाने से पहले प्रशिक्षित चिकित्सक ( प्लास्टिक सर्जन या डर्मेटोलॉजिस्ट ) स्पेशलिस्ट क्लीनिक और इमरजेंसी केयर का होना बेहद जरुरी है।

As a Nourkrin® Club member you are kept up to date on the latest Nourkrin® brand activity with newsletters, special offers and promotions as well as key hair-related news and events – helping you get the most out of your hair.

एक उपाय के प्रति प्रारंभिक कार्रवाई शुरू करने के लिए, जानें अपने बालों के झड़ने का वर्गीकरण. आप नीचे दिए गए Norwood वर्गीकरण पैमाने की तरह एक साधारण आरेख का उपयोग कर सकते. केवल, चित्र है कि सबसे अच्छा अपने वर्तमान बाल स्थिति का प्रतिनिधित्व करता है पर देखने के, और वर्गीकरण के बगल में प्रतीक ध्यान दें.

अन्यं आवश्येकताओं की तरह बालों को विडामिन डी की भी आवश्यचकता होती है । ये भी एक तरह का निशुल्क नुस्खा है और बालों को गिरने से रोकता है। असल में विटामिन डी बालों को बढ़ने में काफी मददगार साबित होता है और बालों को बढ़ने के लिए यह बहुत ज़रूरी भी है। यह अपने आप में आयरन और कैल्शियम को सोख लेता है। आयरन की कमी भी बालों के गिरने की वजह होती है। लेकिन जब आप अपने शरीर पर कम से कम 15 मिनिट के लिए भी सूर्य की किरणें पड़ने देते हैं, तो आपको उस दिन के लिए ज़रूरी मात्रा में विटामिन डी की खुराक मिल जाती है। लेकिन एक बात याद रहे, जब बहुत ही ज्यादा गर्मी हो तो आप अपने सिर और त्वचा को सूर्य की किरणों से बचाकर रखिये। बहुत ज्यादा गर्मी या तपती धूप आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। तो बेहतर यही होगा की आप सूर्य की किरणों का फायदा या तो सुबह उठाइए या शाम को।

विटामिन ई (Vitamine E) – विटामिन ई बालो के लिए सबसे जरुरी है| शरीर में विटामिन ई की कमी होने पर बालो की जड़े कमजोर हो जाती है, जिसके कारण बाल रूखे और बेजान होकर झड़ने लगते है| विटामिन ई की कमी के कारण स्कैल्प में ब्लड संचार सही तरीके से नहीं हो पाता , इसके साथ ही विटामिन ई की कमी के कारण बालो की नमी खो जाती है| जिसके कारण बाल कमजोर होकर झड़ने लगते है| बालो को झड़ने से रोकने के लिए विटामिन ई को अपनी डाइट में शामिल करे|

चीनी प्राचीन सूत्र के अनुसार निर्मित है। SUNBURST तरल पौष्टिक बाल चीनी प्राचीन सूत्र के अनुसार कीमती हर्बल दवाओं का बना है। यह ginseng, मूलांक salviae militiorrhizae, angelica sinensis और खारा cistanche आदि शामिल हैं। उत्पादन की प्रक्रिया अनिवार्य जड़ी बूटियों से निकालने के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकी को रोजगार और बेहतर प्रभावशीलता की गारंटी करने के लिए एक अप-वर्गीकृत सूत्र को गोद ले।

बालों को झड़ने से रोकने के घरेलू नुस्‍खों में सबसे पहला नुस्‍खा ऑयल है। ऑयल बालों का आहार है इसलिए हमें हफ्ते में दो से तीन बार बालों में तेल जरूर लगाना चाहिए। सिर की मसाज ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाता है और बालों की जड़ों को मजबूत बनाता है। तो बालों को झड़ने से बचाने के लिए सिर की मालिश जरूर करें। बाल तनाव के कारण भी झड़ते हैं, और हैड मसाज से आप तुरंत रिलैक्‍स होगें। नारियल, बादाम और आंवले का तेल यह सभी मजबूत बालों के लिए जाने जाते हैं। इसलिए सिर की मसाज के लिए इसमें से कोई भी एक तेल इस्‍तेमाल करें। दूसरा नुस्‍खा हेयर पैक है। शिकाकाई पाउडर और दही लेकर उसे अच्‍छे से मिक्‍स कर लें और बालों की जड़ों में लगाये। 15 मिनट के बाद बालों को धो लें। तीसरा नुस्‍खा आहार है। अपने आहार में ओट्स को शमिल करें। ओट्स में आयरन, फाइबर, मिनरल, जिंक, ओमेगा-3, फैटी एसिड मौजूद होते हैं जो बालों को बढ़ता और  

प्याज और लहसुन रस को रूई में भिगों कर बाल तोड़ फुंसी के चारों तरफ लगायें।  प्याज और लहसुन रस रूई में भिगो कर फुंसी के इर्द-गिर्द लगाकर पट्टी करें। यह प्रक्रिया दिन में 2-3 बार करें, पट्टी बदलें। प्याज और लहसुन में सल्फर गुण होता है। जोकि बाल तोड़ विकार को जल्दी ठीक करने में सहायक है। प्याज और लहसुन का रस फोड़े के लिए खास Boils home remedy है।

आजकल लोगों का रहन-सहन और खान-पान इतना अनियमित होता जा रहा है कि आए दिन किसी न किसी नई बिमारी का नाम सुनने को मिलता ही रहता है। देखा जाए तो कहीं न कहीं, इसका सीधा संबंध हमारे खान-पान से भी होता है। शुद्ध और पौष्टिक भोजन की कमी से लोगों के स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड रहा है। इसका असर सबसे पहले व्यक्ति को, त्वचा और बालों पर ही देखने को मिलता है। इसीलिए आजकल बाल झड़ने की समस्या भी बेहद आम हो गई है।

यह आंशिक रूप से आत्म लगाया और आंशिक रूप से सामाजिक दृष्टि से लगाया अलगाव कारण है कि बालों के झड़ने और बाल विकास इसके विपरीत है तो इतने सारे लोगों के लिए महत्वपूर्ण असली है। यदि आप एक व्यक्ति के रूप में अच्छी तरह से बालों के झड़ने से पीड़ित है जो कर रहे हैं, तो तुम्हें पता होगा कितना आसान यह ऐसे लोगों के लिए लगभग बाल विकास समाधान के साथ जुनून सवार हो गया है।

चर्बी रहित मीट (चिकन और टर्की) का ही सेवन करें जिसमें प्रोटीन भरपूर मात्रा में, कम चर्बी वाले दुग्ध उत्पाद, प्रोटीन युक्त सब्ज़ियाँ (बीन्स) शामिल हैं। बाल प्रोटीन के अणु से बने होते हैं जिन्हें हम केराटिन कहते हैं, और इसी लिए बालों को पोषित करने के लिए हमें प्रोटीन भरपूर मात्रा में ग्रहण करना चाहिए।[१८]

हमेशा जोश और जुनून से सराबोर रहने वाली युवा पीढ़ी देश की सबसे बड़ी पूंजी होती है| लेकिन अाज हमारी युवा पीढ़ी कई बीमारियों का शिकार हो रही है | जिसका कारण भी उन्हें नही पता चलता और समय के साथ वो बढ़ जाती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *