“बालों के झड़ने और भोजन -बालों के झड़ने के डॉक्टर न्यू यॉर्क”

बालों का गिरना सबके लिए आम समस्या हो गयी है। बालों का गिरना अगर बंद ना किया जाए तो आगे जाकर गंजापान हो सकता है। बाल गिरने का कारण, बालों के गिरने के कई कारण हैं जैसे हॉर्मोन का असंतुलन, थाइरोइड ग्रंथि की समस्या, सर की त्वचा में संक्रमण, तैलीय बाल और रुसी। बालो का झड़ना रोकने के उपाय :-

# 1 – Provillus अंक संभव 100 एक बाहर के 95 रैंक सर्वोच्च के साथ. Provillus महिला बाल आपके शरीर है, जो एक महिला बालों के झड़ने के प्रमुख कारणों में से एक है को पाने से झड़ने उपचार ब्लॉक DHT (dihydrotestostrone). Provillus महिला बालों के झड़ने उपचार की सफलता के लिए फार्मूला DHT ब्लॉक और अपने विशेष रूप से सिलवाया बालों के झड़ने को रोकने के लिए मदद से आप स्वाभाविक रूप से regrow बाल शरीर को उचित पोषक तत्वों की आपूर्ति डिजाइन किया गया था. मजबूत, स्वस्थ बालों के समुचित पोषण इमारत ब्लॉकों के साथ शुरू होता है.

दोस्तों गंजेपन व बाल झड़ने के कारण और उपचार, Hair fall ke karan (reason) in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास महिलाओं और पुरुषों में गंजापन व बालों के झड़ने का कारण क्या है, किस विटामिन की कमी से हेयर फॉल होता है से जुड़े सुझाव है तो हमारे साथ साँझा करे।

नारियल आपके बालों के लिए कई फायदे हैं। यह न केवल बाल को बढ़ावा देने में बल्कि बसा खनिज और प्रोटीन की अधिकता की वजह से बाल टूटना को कम करता है बाल गिरने को रोकने के लिए नारियल के तेल या दूध का उपयोग कर सकते हैं।

होने के नाते है कि आपके बालों के झड़ने के प्राथमिक मुद्दा एक विशिष्ट हार्मोन DHT कहा जाता है की से अधिक उत्पादन की वजह से है उस पर इस मुद्दे को सिर पर हमला करने के एक समझदार कदम आइए. ऐसा करने के लिए बेहतरीन और सबसे सुरक्षित विधि एक जड़ी बूटी कहा जाता है के उपयोग देखा Palmetto बनाने के लिए है. यह वास्तव में एक रणनीति है कि प्राकृतिक है और यह आपको यह वह राशि होती है चलाया है रखकर DHT के निर्माण के आदेश की अनुमति के लिए जा रहा है.

एलोवेरा, बालों की देखभाल के लिए सबसे उपयोगी पौधा है। आप इसे अपने घर में, गार्डन में, छत पर कहीं भी आसानी से गमले में लगा सकते हैं। एलोवेरा की पत्तियों में पाया जाने वाला जैल बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। मार्केट में एलोवेरा पाउडर भी मिलता है जिसे बालों में लगाने से लाभ मिलता है। इस पाउडर के पेस्‍ट को बालों में 15 – 20 मिनट के लिए लगाना होता है। इसे लगाने से बाल मजबूत हो जाते है और टूटते नहीं है। एलोवेरा को लगाने से बालों में कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होता है।

But it must be said that pain is not an important factor at all in hair transplant. Although patients are very worried about pain before the procedure, they will find that the pain during and after the procedure was not at all difficult to get through and all their worry was misguided.

फाइनस्टरइड, प्रोस्कर और प्रोपियाशिया के नाम पर ब्रांड नाम के तहत बेच दिया जाता है, यह एक दवा है जो कि सौम्य प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया (बढ़े हुए प्रोस्टेट) और नर पैटर्न के बालों के झड़ने के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। FZBIOTECH, मोनोमर के निर्माता के रूप में, सर्वोत्तम मूल्य के साथ दुनिया भर में सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले बेंज़ोथोफेन पाउडर की आपूर्ति करने के लिए समर्पित है।

The last option that is recommended is the Capilus82 Laser Cap ($799) It is more expensive than most laser combs. Although the technology is the same, the cost differs in the application of it. If you prefer a hands-off type of laser treatment instead of meticulously running a comb over your scalp, all you have to do is place a cap on your head for 30 minutes a day. This can be a huge relief and much easier; because many patients get discouraged with the effort, it takes to use the comb and stop doing it long before it can make a difference. The Capillus82 Laser Caps stand out from other hair caps on the market because of its ease of use and its secretive nature, it is designed to be worn under a sports cap. However, if you get it make sure you love it because there is not a return policy.

The material in this site is intended to be of general informational use and is not intended to constitute medical advice, probable diagnosis, or recommended treatments. See the Terms of Use and Privacy Policy for more information. Submit an article

बाल उगाने के उपाय : आजकल बाल झड़ना और बाल टूटना एक गंभीर समस्या बनी हुई है जो धीरे धीरे गंजापन का रूप ले लेती है। कुछ साल पहले गंजापन समस्या उम्र दराज लोगो में ही देखने को मिलती थी पर अब नौजवानों में भी ये समस्या देखने को मिल रही है। बाल झड़ने से महिला और पुरुष दोनों ही परेशान है।

इस रोग का कोई इलाज नहीं है लेकिन कई उपचार विकल्प हैं जो आपके बालों को तेजी से बढ़ने में मदद कर सकते हैं और भविष्य में बालों को झड़ने से रोक सकते हैं। उपचार की जानकारी लेने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

पुरुष हो या महिलाएं, दोनों ही झड़ते बालों को लेकर, हमेशा परेशान रहते हैं। इसके लिए वह तरह-तरह की दवाइयां भी खाते हैं और यहाँ तक कि मंहगी सर्जरी भी करवाते हैं। ऐसे में ज्यादातर लोगों को सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है। ऐसे व्यक्ति जो बाल तेजी से बाल झड़ने की समस्या से जूझ रहें उनके लिए सबसे पहले यह समझने की जरूरत है कि उनके बाल झड़ने का कारण क्या है। यदि यह कारण ऐसा है, जिसे आप थोड़े-बहुत ट्रीटमेंट के बाद सुधार सकते हैं तो निसंदेह आपके बालों की समस्या भी हल हो जाएगी। लेकिन यदि यह ऐसी समस्या है, जिसका समाधान आपके हाथ में नहीं है, तो आपके पास हेयर ट्रांसप्लांट का तरीका है जिससे बालों की समस्या से निजात पा सकते हैं। उदाहरण के तौर पर; हेरीडेट्री (अनुवांशिक) कारण।

बहुत ज़्यादा रासॉय्निक पदार्थो के उपयोग जैसे बालो को रंगना(कलरिंग),बालो को सीधा करना(इस्टयटनीग),घुघराला करना(परमिंग) करने से बाल रूखे और बेजान हो जाते है और कारण बनते है रूसी और झड़ने का। जितना हो सके रसायनों के उपयोग से बचे।

बालों की हर तरह से देखभाल के लिए मुल्तानी मिट्टी एक प्राकृतिक और सरल उपाय है. इसे बालों की सुरक्षा और देखभाल के लिए कई वर्षों से महिलाएं इस्तेमाल करती आ रही हैं. मुल्तानी मिट्टी को पानी में भिगोकर रखें और इसे नर्म हो जानें दें. अब इसमें एक अंडे का सफ़ेद हिस्सा और दही मिलाकर पैक बना लें. इसे बालों की जड़ों और पूरे बालों में 1 घंटे तक लगा के रखने के बाद धोकर साफ़ करें. यह बालों को प्राकृतिक रूप से लम्बा करने का तरीका है जो इसे बढ़ने में मदद करता है.

ये समझना ज़रूरी है कि मर्दों में गंजापन कैसे होता है: एंड्रोजेनिक अलोपीशीया (Androgenic alopecia) का सम्बंध सीधे ऐंड्रॉजेन (male sex hormones) की उपस्थिति से होता है, परंतु इसके होने का सही कारण का अभी तक पता नहीं चला है।[२]

डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा, “फाइब्रॉएड का उपचार लक्षणों, आकार, उम्र और रोगी के सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। यदि कोई कैंसर पाया जाता है, तो यह रक्तस्राव अक्सर हार्मोनल दवाओं द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *