“बालों के झड़ने का इलाज कब तक _प्रोस्टेट सर्जरी के बाद बालों के झड़ने”

गंजेपन का इलाज वैसे तो दिन-ब-दिन बेहतर होता जा रहा है | हालांकि इसके उपचार की अन्य तकनीकें भी काफी एडवांस हो चुकी हैं लेकिन बहुत से लोगों के लिए Non Surgical Hair Replacement (नॉन सर्जिकल हेयर रिप्लेसमेंट) का मतलब नकली बाल, बिग होता है, लेकिन सच में यह ऐसा नहीं है | नॉन सर्जिकल हेयर रिप्लेसमेंट की टेक्निक इन दिनों काफी एडवांस हो चुकी है, खासतौर पर पुरुषों के लिए तो यह गंजेपन से छुटकारा पाने का एक असरदार तरीका बन गई है | यहां पार हम आपको डिटेल में बताएंगे कि नॉन सर्जिकल हेयर रिप्लेसमेंट क्या होता है और इसके साथ ही आपको इससे जुड़ी और भी जानकारियां और ट्रीटमेंट के Procedure के बारे में भी बताएंगे | साथ ही कुछ ऐसी परिस्थितियों के बारे में जानेंगे कि यह तकनीक कहां पर असरदार है, इसके साथ ही इससे होने वाले नुकसान के बारे में भी कुछ बताएंगे |

tips-health.com पर जो भी जानकारी दी गई है वो सिर्फ आपके ज्ञानवर्धन के लिए दिया गया है। किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने डॉक्टर या चिकित्सक से अवश्य संपर्क कर ले। आपके डॉक्टर या चिकित्सक आपको हमसे कहीं बेहतर सलाह और जानकारी दे सकते है।

कम से कम सप्ताह में एक दिन शंखपुष्पी से बना हुआ असली और शुद्ध चूर्ण थोड़े से पानी में मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं। इसके अलावा भृंगराज के चूर्ण में थोड़ा तिल मिलाकर खाएं। प्याज के रस बालो में लगाने से बालो का झड़ना कम होता है। इन आयुर्वेदिक उपचार से आपके बाल प्राकृतिक रूप से स्वस्थ एवं मजबूत बनेंगे।

परन्तु बहुत से चिकित्सकों का मानना है कि बालों की सफेदी वैसे तो जैनेटिक यानी अनुवांशिक होती है। किंतु फिर भी कुछ ऐसे कारण है जो समय से पहले बालों को सफेद बनाने में अहम भूमिका अदा करते है। इनमें न केवल दवा बल्कि अनीमिया, थाइराइड व एचआइवी-एड्स भी शामिल है। खाने में प्रोटीन व आयरन की कमी भी बालों की सफेदी का एक कारण है।

Baal to hamesha ugte aur jhadte rehte hai. Yeh dikhai tab deta hai jab baal jhaada hai aur un ke jagah par naye baal nahin ug aate hai. Har roj 50 baal jitne jhad jaate hai. Baal jhadne ke kaaran kai hai: 

वैसे बालों की समस्या के कई घरेलू उपचार हैं जो कुछ समय के लिए अापके लाभदायक होते हैं , लेकिन जैसे ही अाप इनका प्रयोग करना बंद करते है कुछ समय बाद बाल गिरना फिर से शुरू हो जाते हैं | और कुछ स्वास्थ्य संबधित समस्या जिसके कारण बाल झड़ रहे हैं, का इलाज अाप घरेलू उपचार से नही कर सकते !

Non Surgical Hair Replacement अधिकतर पुरुषों को ही सूट करते हैं | इसके फायदों के साथ कुछ नुकसान भी है (There are certain side effects to Non Surgical Hair Replacement)  । सबसे पहला नुकसान यह है कि समय-समय पर आपको इसका मेनटेनेंस करवानी पड़ती है, जिससे यह हमेशा Natural दिखे । अगर आपको हेयरकट करवाना है तो आप सीधे नाई के पास नहीं बल्कि आपने जहां से सर्जरी करवाई है वहां जाएंगे । इस दौरान आपकी मेंब्रेन हटाई जाएगी जिससे मौजूदा बालों को ट्रिम किया जा सके । साथ ही आपको मेंब्रेन में लगे बालों में भी नए सिरे से बदलाव करने होंगे जिससे यह आपके नए लुक के साथ मेल खाएं । समय के साथ मेंब्रेन में खराबी भी आएगी और आपको इसे बदलवाना पड़ेगा । आप इसके लिए कौन सा Material चुनते हैं, उसी आधार पर आपको खास प्रोडक्ट की जरूरत पड़ेगी । Non Surgical Hair Replacement की मेनटेनेंस पर आने वाला खर्च ट्रीटमेंट की cost को बढ़ा देते है । ऐसे में दूर से भले ही आपको Non Surgical Hair Replacement आकर्षक लगे, पर ध्यान रहे कि केवल इसे कराने से ही बात खत्म नहीं होती । अगर आप इसे बरकरार रखना चाहते है तो आपको पैसे खर्च करते रहने होंगे ।

आज एक अस्वस्थ जीवन शैली,प्रदुषण,वायुमंडलीय परिवर्तन ,हार्मोनल असंतुलन से अधिक झुकाव बालो को झड़ने, गंजापन और बाल गिरने को बढावा देने के कुछ कारण है। अच्छे बाल समस्त रंग रूप के लिए बहुत मायने रखते है और बाल बढने साथ ही साथ आपका आत्मविश्वास भी बढता है। हम सभी की इच्छा होती है की हमारे बाल लम्बे और चमकदार हो। लेकिन स्थिति बिगडती जा रही है कुछ दवा शरीर पर गलत असर कर रही है।

आयुर्वेदिक शरीर में पित्त दोष के कारण बालों को गिरने में मदद करता है। यह दोष आपके आसपास कि जलवायु में अत्यधिक गर्मी का कारण हो सकता है जो बालों के उगने कि प्रक्रिया को बाधित करता है और बालों को झड़ने में मदद कर सकता है। शराब, कॉफी, चाय, धूम्रपान, तेल, मसालेदार और अम्लीय खाद्य पदार्थों के सेवन को कम करके आपके पित्त दोष को रोकता है जिससे आपको पर्याप्त नींद मिलती है। एक अच्छी नींद, तनाव प्रबंधन और बाल विकास को बढ़ावा देने के लिए यह पहला कदम है।

बाल गिरने से पीड़ित लोगों के लिए अमला या भारतीय करौदा एक आशीर्वाद है। यह विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट है कि बालों के झड़ने रिवर्स कर सकते हैं अगर यह अपनी प्रारंभिक अवस्था में है के साथ पैक किया जाता है।

दौनी की जड़ी बूटियों से तैयार किया हुआ यह रस, बालों के झड़ने को कम करने का एक बेहतरीन तरीका है । यह कोशिका विभाजन को उत्तेजित करता है और रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है जिससे बालों को बढ़ने में मदद मिलती है । सामान मात्रा में शैम्पू और दौनी के तेल को लें और इससे बालों को धो लें । आप अपने खोपड़ी पर इस तेल से मालिश भी कर सकते हैं और फिर हलके शैम्पू से इसे धो लें ।

यह साबित होता है कि, चारों ओर 10 एक व्यक्ति की खोपड़ी पर बालों की प्रतिशत एक आराम चरण में है. इस चरण, टेलोजन effluvium भी कहा जाता है, के आसपास की अवधि है 2 करने के लिए 3 महीनों, उसके बाद आराम बाल गिर जाता है और नए बालों में अपनी जगह बढ़ने लगती है. इस बढ़ते चरण के लिए रहता है 2 करने के लिए 6 साल. और उसके बाद फिर आराम चरण शुरू होता है. लगभग प्रत्येक बाल बढ़ता है 1 सेंटीमीटर प्रति माह इस चरण के दौरान. लोगों के बहुमत के आम तौर पर खो 50 करने के लिए 150 बाल दिवस. जब कुछ लोग अत्यधिक बालों के झड़ने का अनुभव समस्याओं शुरू, सामान्य trateda के रूप में हो सकता है कि नहीं.

बाल बहाली सर्जरी की श्रेणी में आता (लगभग) तुरंत संतुष्टि. कुछ लोगों को वजन घटाने के लिए त्वरित समाधान की तलाश, व्यायाम कार्यक्रम, veneers और कॉस्मेटिक सर्जरी. बहाली सर्जरी करने के लिए एक ही रास्ता हो सकता है “बढ़ने” बाल अगर कूप लंबे मर चुके हैं और संभवतः लेजर कंघी प्रक्रिया द्वारा दोबारा से नहीं किया जा सकता. सर्जरी दुर्घटना के शिकार लोगों जिसका खोपड़ी ऊतक एक ऐसा क्षेत्र है और अन्य अक्षुण्ण में क्षतिग्रस्त हो गया था के लिए फायदेमंद हो सकता है. तथापि, औरत या पतले बालों के साथ आदमी के लिए एक हाथ लेजर उपकरण में एक अधिक सुरक्षित और कम खर्चीला है. कभी कभी सफलता के लिए सबसे अच्छा तरीका है सबसे तेजी से नहीं है, लेकिन यह अंत में अधिक प्रभावी है.

कैल्शियम एक और बाल विकास और समग्र शारीरिक स्वास्थ्य, जो है क्यों विटामिन डी विटामिन, पोषक कैल्शियम सहित की उचित अवशोषण के लिए आवश्यक है के लिए आवश्यक पोषक तत्व है। ये विटामिन में से कुछ के समयपूर्व पक्का हो जानेवाला बाल की रोकथाम के लिए जोड़ा गया है।

अमरबेल- अमरबेल के पौधे से रस तैयार किया जाए और सिर पर प्रतिदिन सुबह एक सप्ताह तक लगाया जाए तो सिर से डेंड्रफ नदारद हो जाएगी, साथ ही बालों का झडने का सिलसिला भी कम हो जाता है। माना जाता है कि आम के पेड पर चढी हुई अमरबेल को उबालकर उस पानी से स्नान किया जाए तो गंजापन दूर होता है।

बालों के झड़ने चिकित्सकीय इलाज किया जा सकता है. एफडीए को मंजूरी दी दवाओं से उपचार “लेजर कंघी” और नए नहीं स्केलपेल, कोई सिलाई न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी के लिए सीमा होती है. इन विकल्पों के दोनों पुरुषों और महिलाओं, जवान और बूढ़े के लिए मौजूद हैं.

कई आधुनिक शोधों से यह बात सामने आई है कि टेस्टोस्टेरॉन और गंजेपन में संबंध होता है। गंजे पुरुषों में सामान्यत: टेस्टोस्टेरॉन का स्तर अधिक होता है। हालांकि महिलाओं में भी टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन पाया जाता है, लेकिन उनमें इसका स्तर कम होता है, इसलिये उनमें गंजेपन की समस्या भी पुरुषों के मुकाबले कम होती है।

नई दिल्ली : जिन महिलाओं के बाल लगातार झड़ते हैं, उनमें गैर-कैंसर वाले ट्यूमर का खतरा बना रहता है। यह ट्यूमर गर्भाशय की दीवारों के भीतर होता है। सेंट्रल सेंट्रीफ्यूगल सिकेट्रिशियल एलोपेसिया (सीसीसीए) वाली महिलाओं में गर्भाशय के अंदर ट्यूमर का जोखिम पांच गुना अधिक होता है। एक नए शोध में यह पता चला है।

जबकि उनके बालों पर अलग अलग लंबाई रखने के पुरुषों और महिलाओं, एक बात है कि इनकार नहीं किया जा सकता है कि बाल किसी भी व्यक्ति का सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक हैं। भले ही महिलाओं के स्त्रीत्व अक्सर लंबाई या उनके बालों की सुंदरता के आधार पर मापा जाता है, पुरुष भी lushness और उनके बालों की राशि अपने पौरूष और मर्दानगी की निशानी के रूप में देखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *