“बालों के झड़ने का इलाज लागत घर का बना बाल विकास उपचार”

कुछ सालों पहले तक लोगों के सिर पर काफी बाल होते थे। यह वह समय था जब सौन्दर्य उत्पादों और रसायनों का प्रयोग ना के बराबर किया जाता था। तब रास्ते में प्रदूषण भी काफी कम होता था। पर आजकल चीज़ें काफी बदल गयी हैं। लोग अब निरंतर बालों के झड़ने और पतले होने की शिकायतें करते पाए जाते हैं।

बालों के झड़ने- गिरने और टूटने की बड़ी वजह तनाव है। यह माना जाता है कि तनाव की वजह से बालों के बढ़ने का जो सामान्य चक्र होता है वह रुक जाता है। तनाव बढ़ते ही बालों का चक्र टेलोजेन फेज में पहुंच जाता है़ जिसमें बाल झड़ने और गिरने की बीमारी शुरु हो जाती है। तनाव को कम करने का सबसे आसान उपाय है ध्यान। ध्यान लगाने और अच्छी नींद लेने से बालों के बढ़ने के लिए उत्तरदायी हार्मोन के स्राव की गति तेज हो जाती है।

अगर बालों का गुच्छा किसी स्थान से उड़ जाए तो गंजे के स्थान पर नींबू रगड़ते रहने से बाल दुबारा आने लगते हैं। जहां से बाल उड़ जाएं तो प्याज का रस रगड़ते रहने से बाल आने लगते हैं। बालों में नीम का तेल लगाने से भी राहत मिलती है।

हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी के तकरीबन २ हफ्ते बाद बाल उगने शुरू हो जाते हैं और पूरे बाल आने में 7-10 महीने का समय लगता है। शर्त यह है आपको डॉक्टर दुवारा दी गई हिदायतों का पालन करना होता है। यह बाल बिलकुल कुदरती बालों की तरह होते हैं जीने आप कटवा सकते हैं, कलर कर सकते हैं और अपना मनचाहा हेयर स्टाइल रख सकते हैं। आँखों की पलकों, भौहों या दाड़ी के बालों की समस्या को भी इस तकनीक से दूर किया जा सकता है।

नेचुरल हेयर मास्‍क से बालों का झड़ना बंद हो जाता है और इसके परिणाम भी बेहतर होते है। हेयर मास्‍क को सप्‍ताह में कम से कम एक बार बालों पर लगाएं। आप घर पर कई सामग्रियों को मिलाकर अच्‍छा सा हेयर मास्‍क तैयार कर सकते है जैसे – मेंहदी, एलोवेरा जैल, दही, नीम की पत्तियों का पाउडर आदि को मिलाकर एक पेस्‍ट तैयार करके बालों पर लगाएं। इससे बालों को बहुत लाभ मिलता है। इस प्रकार के पेस्‍ट को लगाने से बालों को पर्याप्‍त मात्रा में पोषण मिलता है।

यह साबित होता है कि, चारों ओर 10 एक व्यक्ति की खोपड़ी पर बालों की प्रतिशत एक आराम चरण में है. इस चरण, टेलोजन effluvium भी कहा जाता है, के आसपास की अवधि है 2 करने के लिए 3 महीनों, उसके बाद आराम बाल गिर जाता है और नए बालों में अपनी जगह बढ़ने लगती है. इस बढ़ते चरण के लिए रहता है 2 करने के लिए 6 साल. और उसके बाद फिर आराम चरण शुरू होता है. लगभग प्रत्येक बाल बढ़ता है 1 सेंटीमीटर प्रति माह इस चरण के दौरान. लोगों के बहुमत के आम तौर पर खो 50 करने के लिए 150 बाल दिवस. जब कुछ लोग अत्यधिक बालों के झड़ने का अनुभव समस्याओं शुरू, सामान्य trateda के रूप में हो सकता है कि नहीं.

बाल झड़ने की समस्या को रोकने में यह उपाय बहुत कारगर साबित होगा। तीन चम्मच दही के साथ काली मिर्च पाउडर के 2 चम्मच को मिलाएं। मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद इस पेस्ट की सिर पर हल्के से मसाज करें और फिर एक घंटे छोड़ने के बाद शैम्पू कर लें।

जब बात खासकर महिलाओं की हो रही हो तो घने बाल काफी खूबसूरत माने जाते हैं। पुराने ज़माने में शादियों के समय लड़के वाले लड़की के बाल की जाँच करते थे कि वे घने, काले तथा सुन्दर हैं या नहीं। अगर बाल सुन्दर हों तो लड़के के घरवाले भी लड़की का खुले दिल से स्वागत करते थे।

ज़्यादा दवाइयों का सेवन करने से भी बाल झड़ते हैं। कई अलग अलग प्रकार की बीमारियों से लड़ने के लिए है परन्तु इनका बालों पर भी काफी खराब असर पड़ता है। ज़्यादातर थाइरोइड की समस्याओं, सिर के संक्रमण, एलोपेसिया एरियाटा और अन्य त्वचा सम्बन्धी परेशानियों में दवा लेने से बाल झड़ते हैं।

Hair Transplant is one of the growing treatment nowadays. Because it is the only successful, permanent & established treatment of baldness. We present Visual representation about Hair Transplant in Indore at Marmm Klinik.

Hormonal Imbalance : शरीर में अचानक होनेवाले शारीरिक रसायन या Hormones के असामान्य बदलाव के कारण hair loss का प्रमाण बढ़ सकता है। महिलाओ में Thyroid Hormone कि कमी जिसे Hypothyroidism कहते है कि वजह से Hair loss होता है। महिलाओ में थकावट, बिना कारण वजन बढ़ना, उदासी, कमजोरी और त्वचा शुष्क होना जैसे लक्षण दिखाई देने पर Hypothyroidism के निदान हेतु डॉक्टर कि सलाह अनुसार Blood test ( Thyroid Profile ) करा लेना चाहिए। खून कि कमी (Anemia), Poly Cystic Ovarian Syndrome, Dandruff, Chemotherapy और Auto Immune Disorder इन कारणो से Hair loss अधिक होता है।   

सबसे पहले पूरे सिर को ट्रिम कर दिया जाता है उसके बाद मरीज के सिर को अचेत (सुन्न) कर दिया जाता है ताकी प्रक्रिया के दौरान मरीज को किसी तरह का दरद महसूस न हो। सिर के पीछे वाले भाग से एक एक कर के हेयर ग्राफ्ट्स (बाल की जड़) को विशेष उपकरणों की मदद से निकाला जाता है। अंत में हेयर ग्राफ्ट्स (बाल की जड़) को गंजे हिस्से में लगा दिया जाता है।

अपने बालों की Style को हमेशा बदलते रहना यह आदत तो बहुत ही अधिक लोगो की होती है, खासकर युवाओ की. किसी पार्टी में जाने पर, किसी को date करने पर, किसी शादी में जाने पर या किसी को आकर्षित करने के लिए हम अपने बालों की स्टाइल निरंतर बदलते रहते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *