“बालों के झड़ने की जानकारी हिंदी आवश्यक तेलों और बाल regrowth”

ट्रांसप्लांटेशन. प्रत्यारोपण के दौरान, एक प्लास्टिक सर्जन पीठ या खोपड़ी की ओर से त्वचा के एक छोटे पैच लेता है. प्रत्येक इन पैच की एक करने के लिए कई बाल होते. टोपी फिर सफेद सिर के अनुभागों में प्रत्यारोपित कर रहे हैं और ऑपरेशन किया है. कोई भी समस्या किसी एकल कार्रवाई में उम्मीद करनी चाहिए. कि कई सत्र ट्रांसप्लांटेशन के सभी लक्षणों में सुधार करने के लिए आवश्यक हो सकता है यही कारण है कि.

सुंदर और कोमल त्वचा के रूप में मुश्किल हो रही एक के रूप में आम तौर पर सोचता है कि यह हो सकता है नहीं है. यह किसी भी रंग हो, यहां तक ​​कि एक सादे त्वचा एक चमक और स्वस्थ लग रहे हो सकता है. अब, आप कितने रुपये आप करने के लिए यह बहुत खूबसूरत लग पाने के लिए खर्च करना होगा के रूप में सोच किया जाएगा? जवाब नहीं है! आश्चर्य, यह नहीं है? बस exfoliating और घर पर अपने त्वचा मॉइस्चराइजिंग, आप कोई कीमत पर एक चमक स्वस्थ त्वचा, प्राप्त कर सकते हैं.

इस साइट पर सभी जानकारी और लेख केवल जानकारी और शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेशग्य की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा निदान और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

अगर आपके परिवार में कोई भी एलोपेसिया का शिकार हुआ है तो आपके बाल झड़ने की संभावना इससे बढ़ जाती है महिलाओं में हम एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया नहीं देख पाते जिससे कि पूर्ण गंजापन होता है, परन्तु आप उनके बाल पतले होते महसूस कर सकते हैं।

आयरन बालों को उगाने में काफी फायदेमंद है और यह काले गुड, पत्तेदार सब्ज़ियों, हरे प्याज, काजू, सूखे मेवों, अंजीर एवं बेर में पाया जाता है। इन भोजनों से आपके शरीर को आयरन मिलता है जिससे आपके बाल भी स्वस्थ होते हैं। सिलिका और जिंक भी बालों के बढ़ने में काफी कारगर हैं। दिन में दो बार 500 मिलीग्राम सिलिका तथा 30 मिलीग्राम ज़िंक का सेवन करें।

इस रोग से पीड़ित रोगी को अपने सिर को दही से धोना चाहिए और फिर नारियल के दूध से खोपड़ी की मालिश करनी चाहिए। इसके बाद सिर को धोना चाहिए और कुछ समय बाद बथुए के पानी से सिर को धोना चाहिए। ऐसा करने से रोगी के बाल झड़ना रुक जाते हैं।

Dr Garima Sancheti is a Ph.D. in Radiation and Cancer Biology, and a contributing author for popular magazines such as American Chronicle, Positive Health, Suite101.com, Greenkind, Essential Herbal, Disabled world and Midwifery Today. Currently writing on herbs and health as freelancer…

लहसुन आपके दिल का स्वास्थ्य सही रखने में काफी बड़ी भूमिका निभाता है। इसके अलावा लहसुन का रस बालों के झड़ने की स्थिति में भी काफी बड़ी भूमिका निभाता है। सिर के झड़ चुके बालों को वापस लाने में इसकी बड़ी भूमिका होती है। घरेलू विधियां वह होती हैं जो केमिकल से बिलकुल मुक्त होती है। केमिकल्स से आपके बालों को काफी ज़्यादा नुकसान पहुँचता है। बाल झड़ने की दवा, लहसुन के रस में मौजूद प्रभावी गुणों की मदद से आपके बालों से डैंड्रफ और खुजली की समस्या बिलकुल गायब हो जाती है। क्योंकि लहसुन में कैल्शियम तथा जिंक होता है, यह आपके बालों की जड़ों तक जाता है तथा इसे काफी स्वस्थ बनाता है। लहसुन का रस निकालें तथा रात में सोने से पहले बालों में लगा लें। अगली सुबह शैम्पू लगाकर धोएं तथा अच्छे से सुखा लें।

आज के दौर में स्वस्थ बाल होना एक वरदान के समान ही है। हममें से कई लोग बाल झड़ने की छोटी या बड़ी समस्या का शिकार हुए हैं। एक हद तक बालों का झड़ना आपको परेशान नहीं करता, पर अगर यह समस्या आपको गंजेपन की तरफ ले जाती है तो आपको कुछ कदम उठाने की आवश्यकता है।

लौकी के बीज protein से भरे होते हैं और इनमें minerals की मात्रा भी काफी अधिक होती है। इस वजह से ये बीज बालों के लिए काफी अच्छे होते हैं। इस बीज का प्रयोग करना शुरू करने पर आपको बाल झड़ने की समस्या में कमी आती दिखना शुरू हो जाएगा। इस बीज के इस्तेमाल से मर्द Prostatic Hyperplasia की स्थिति से भी बच सकते हैं।

प्रदूषण की वजह से भी काफी बाल झड़ते हैं। ऐसी स्थिति में एलोवेरा बालों को झड़ने से रोकने का तथा बालों को दोबारा बढ़ाने का काफी कारगर नुस्खा है। एलोवेरा के बालों पर प्रयोग से बालों के झड़ने की तथा सिर खुजलाने की समस्या कम होती है। एलोवेरा में मौजूद एल्कलाइन गुण बालों के ph स्तर को बढ़ाते हैं जिससे बालों के बढ़ने में मदद मिलती है। एलो वेरा जेल से डैंड्रफ से निपटा जा सकता है। एलोवेरा की एक पत्ती लें तथा उससे जेल निकालें। इसे बालों पर लगाएं और कुछ घंटे ऐसे ही रखने के बाद गर्म पानी से बाल धो लें। अच्छे परिणामों के लिए इस पद्दति का प्रयोग हफ्ते में 3 से 4 बार करें।

आजकल खून की कमी महिलाओं में बहुत बड़ी समस्या बन गयी है। 20 में से 10 महिलाएं एनीमिया का शिकार होती हैं। शरीर में आयरन की कमी के कारण एनीमिया होता है। ऐनीमिया से पीड़ित लोगों के बाल नाजुक और पतले होते हैं। शरीर में आयरन की कमी के कारण लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है। ये लाल रक्त कोशिकाएं बालों के रोम सहित पूरे शरीर में ऑक्सीजन को पहुंचाने का काम करती हैं। पर्याप्त ऑक्सीजन के बिना बालों के विकास और मजबूती के लिए जरूरी आवश्यक पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं जिसके कारण बाल झड़ने की समस्या पैदा हो जाती है। द जर्नल ऑफ़ द अमेरिकन अकादमी ऑफ़ डर्मेटोलॉजी में प्रकाशित 2006 के एक अध्ययन में कहा गया है कि आयरन की कमी बालों के झड़ने का मुख्य कारण होता है। इसके कारण एलोपेशीया एरेटा, पुरूषों में गंजापन और डिफ्यूज हेयर लॉस संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं। यदि आप में आयरन की कमी है तो आप आयरन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें या अपने डॉक्टर से परामर्श के बाद आयरन के पूरक लें। (और पढ़ें – बालों के लिए किस हेयर आयल का इस्तेमाल करें और कैसे, जानिए फेमस हेयर एक्सपर्ट जावेद हबीब से)

गत 60 वर्षों से, 3 में से 2 पुरुष बाल झड़ने की समस्या का सामना कर रहे हैं। कई बार तो यह पुरुषों में सेक्स हॉर्मोन में परिवर्तन के कारण होता है। कभी कभी यह इतना प्रबल होता है कि गंजेपन का कारण बन जाता है। पुरुषों में बाल झड़ने के अन्य कारण निम्नलिखित हैं :

डॉक्टरों लगता है कि, अन्य संभावित कारणों, उम्र बढ़ने, आनुवंशिकी, और पुरुष हार्मोन, या एण्ड्रोजन के स्तर में परिवर्तन, रजोनिवृत्ति के बाद बीच में क्या महिला पैटर्न गंजापन पर लाता है का हिस्सा हो सकता है। (यही कारण है कि महिला पैटर्न गंजापन भी androgenetic खालित्य कहा जाता है)।

हेयर स्टाइलिंग (केश विन्यास): गंजेपन को ढँकने के लिए हेयर स्टाइल को भी बदला जा सकता है। अपनाए गए सर्वाधिक आम स्टाइल को ‘कॉम्ब ओवर’ कहा जाता है – इसमें सिर के किनारे के बालों को लंबा बढ़ाना तथा इन्हें गंजे भाग को ढँकने के लिए एक किनारे की तरफ खींचा जाता है। यह गंजेपन के शुरूआती चरणों में बहुत प्रभावी हो सकता है। लेकिन गंजेपन में वृद्धि के साथ, कॉम्ब-ओवर भी स्पष्ट रूप से अप्राकृतिक और बाद में काफी मजाकिया लगने लगता है। जापानी इसे ‘बार कोड’ स्टाइल कहते हैं क्योंकि गंजी खोपड़ी में बालों की लटें एक बार कोड की तरह लगती हैं। हताशा के बाद, बहुत से पुरुष अपने बालों को बहुत छोटे, केवल कुछ मिलीमीटर लंबाई के रखते हैं। यह गंजेपन पर ध्यान दिए बिना व्यक्ति को एक पूरी तरह से अलग अपीयरेंस प्रदान करते हुए बहुत प्रभावी भी हो सकता है, क्योंकि वास्तव में व्यक्ति को यह अपीयरेंस पूरी तरह अपनाने में सक्षम होना चाहिए। कुछ लोग अपने सिर को पूरी तरह से मुड़वा लेने का विकल्प अपनाते हैं और जो बिलकुल सफाचट दिखाई देता है जिसे अपनाने का आपमें साहस होना चाहिए।

विटामिन ए युक्त खाद्य पदार्थ या दवाओं का अत्यधिक सेवन भी बाल टूटने का कारण बन सकता है। अमेरिकी अकादमी के त्वचाविज्ञान के अनुसार, विटामिन ए की प्रतिदिन की खपत 5000 आईयू (इंटरनेशनल यूनिट) वयस्कों के लिए और 2500-10,000 आईयू चार साल से बड़े बच्चों के लिए होनी चाहिए। 

इसे बनाने के लिए गेहूं के पत्ते, दूर्वा घास, अरबी के पत्ते, गुड़हल के पत्ते, नीबू के छिलके, संतरे के छिलकों को थोड़ा-थोड़ा लें और पानी में उबाल लें। पानी को छानकर बालों की जड़ों में हल्के हाथों से लगाएं और धीरे-धीरे मसाज करें। पांच मिनट के लिए लगा रहने दें और पानी से सिर धो लें।

बालों के झड़ने की समस्या पुरुषों में काफी सामान्य होती है। इसके पीछे कई कारण होते हैं। पुरुषों के हेयर फलिकल के गायब होने में पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन की भी अहम भूमिका होती है। बाल झड़ने का एक मुख्य कारण एधिक तनाव से भरा जीवन भी है। गंजेपन को चिकित्सकीय भाषा में एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया कहते हैं। हालांकि कुछ घरेलू उपचारों की मदद से पुरुष बाल झड़ने की समस्या से बच सकते हैं। चलिये जानें कौंन से हैं वे उपचार….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *