“बाल वृद्धि की महिला को प्रतिदिन +बाल बहाली सर्जरी की समीक्षा”

आज कई तकनीकी विकास है कि जीवन पहले की तुलना में आसान बनाने के हैं. स्वास्थ्य देखभाल भी पिछले कुछ वर्षों में विशाल बदलाव देखा गया है. तकनीक के साथ, इस उद्योग बीमारियों और शारीरिक स्थितियों के उपचार में अभिनव पहल पता लगाने के लिए अद्वितीय अवसर दिया जाता है. वर्तमान में, वहाँ पहले से ही आसान बना दिया उपचार के रूपों के असंख्य हैं, तेजी से और अधिक कुशल.

रसोई में मिलने वाले बीज बालों की अच्छे से देखभाल करते हैं। बालों को सही प्रकार से रखने के लिए ये एक सही माध्यम हैं। अगर रोज़ाना आप बालों की समस्याएं का सामना कर रहे हैं तो ये बीज आपके लिए काफी फायदेमंद हैं। ये प्राकृतिक उपाय बालों के स्वास्थ्य और बढ़त में बड़ी भूमिका निभाते हैं। Read about Balo ko Lamba karne ke Upay hair growth tips

यदि आप चाहते हैं कि आपके बाल झड़ने कम हो जाएं और बालों को मजबूत मिले तो स्कैल्प पर ऐलो जैल से मसाज करें। सप्ताह में दो बार ऐलोवेरा जैल से मालिश करने से बालों के झड़ने की समस्या से निजात मिलती है और संक्रमण भी दूर होता है।

रेक्वेग होम्योपैथी उत्पादों को उच्च आश्वासन के परिणाम के लिए जाना जाता है क्योंकि सामग्री शुद्ध होती है और फार्मूलों को ऑर्गोलीनैक्टिक, केमिकल, फिजिको-रसायन, सूक्ष्मजीवविज्ञानी और फार्माकोनिस्टिक जांच के अधीन होता है। वे जर्मन / यूरोपीय / भारतीय फार्माकोपिया से पुष्टि करते हैं। आप वास्तव में एक प्रभावी होम्योपैथी चिकित्सा प्राप्त करते हैं जो आपके शरीर को उत्तेजित करती है और बाल गिरने की प्रक्रिया को रोक देती है

महिलाओ में विशेष कर hair fall का प्रमुख कारण Hypothyroidism ही है। अगर आप Dandruff कि समस्या से परेशान है तो डॉक्टर से इसका इलाज करवाए। आप Dandruff से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार Ketoconazole युक्त shampoo का उपयोग हफ्ते में दो बार कर सकते है। 

Hair growth के लिए High Protein Diet लेना बेहद जरुरी है। भारतीय आहार में protein कि मात्रा कम होती है। प्रचुर मात्रा में protein लेने के लिए सुबह नाश्ते में अंकुरित अन्न, मुंग, flax seeds, दूध, सोयाबीन लेना चाहिए। भारतीय खाने में दाल का समावेश हमेशा रहता है पर दाल को पतला बनाने कि जगह दाल गाढ़ी बनानी चाहिए। Snacks में fast food कि जगह पर भुने हुए मूंगफली या चना लेना चाहिए। रोटी बनाने के लिए गेहू के आटे में 1/4 हिस्सा सोयाबीन का आटा मिलाकर रोटी बनाना चाहिए।

महिलाओं में एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया को फीमेल पैटर्न बाल्डनेस के नाम से भी जाना जाता है। इस समस्या से पीड़ित महिलाओं में पूरे सिर के बाल कम हो जाते हैं, लेकिन हेयरलाइन पीछे नहीं हटती। महिलाओं में एंड्रोजेनिक एलोपेसिया के कारण शायद ही कभी पूरी तरह गंजेपन की समस्या होती है। कुछ हर्बल नुस्खे और खान-पान के तरीके के अलावा दैनिक जीवन-शैली बालों की ग्रोथ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

अरण्डी- इसके बीजों के तेल के इस्तमाल से बालों का काला होना शुरू हो जाता है। सप्ताह में कम से कम दो बार अरण्डी का तेल बालों में अवश्य लगाना चाहिए। रात में तेल लगाकर सुबह इसे किसी शैम्पू से साफ किया जा सकता है।

हेयर ऑयल से मसाज करना:बालों को झड़ने से रोकने के लिए यह एक कारगर उपाय है। मालिश करने से सिर में रक्त संचरण बढ़ता है और तनाव कम होता है जिससे बाल कम झड़ते हैं। इसके लिए आप नारियल तेल या ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

डिसक्लेमर : Sehatgyan.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatgyan.com की नहीं है। sehatgyan.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

एफ़यूई प्रक्रिया का एक बड़ा लाभ यह है कि यह रोगी को कई चरणों में प्रक्रिया से गुजरने की अनुमति प्रदान करती है ताकि खर्च का बोझ एक ही समय पर न पड़े। यह पुरानी स्ट्रिप विधि में संभव नहीं था। उदाहरण के लिए एक व्यक्ति जिसे अपने गंजे भाग को ढँकने के लिए 1500 बालों की आवश्यकता होती है, एक सत्र में सिर्फ 500 बाल, फिर 3-6 माह के बाद अगले 500 बाल तथा फिर बाद में तीसरी बार में शेष बाल कर सकता है, और इस प्रकार खर्च को विभाजित कर सकता है। इस तरह वह बिना वित्तीय तनाव में आए ‘किश्तों में भुगतान’ के समान लाभ प्राप्त कर सकता है। 

उत्पाद जैसे postpartum खालित्य, खालित्य seborrheica, गरीब पोषण चयापचय से उत्पन्न होने वाले (बहाने) पुरुष हार्मोन असंतुलन खोने बाल बाल नुकसान की सभी प्रकार के लिए उपयुक्त है और बिना बाल। यह तेल नियंत्रण का प्रभाव पड़ता है; रोकने का आकार: 3 * 50 मिलीलीटर (sunburst) + 1 * 25 मिलीलीटर (नि: शुल्क sunburst) + 1 (मापने cup)+1(hairbrush)

फ्रिज़ी बालों का उपचार : बालों में निरंतर हानिकारक रसायनों और सौन्दर्य उत्पादों का प्रयोग करने पर आपके सिर पर फ्रिज़ी और रूखे बाल पैदा हो जाते हैं। आप अब इस स्थिति का नीम के तेल से आसानी से उपचार कर सकते हैं। आप इस तेल को या तो सीधे अपने सिर पर लगा सकते हैं, या फिर इसकी कुछ बूंदों का मिश्रण अपने शैम्पू (shampoo) में भी कर सकते हैं। अगर आप नीम के तेल को शैम्पू के साथ मिश्रित कर रहे हैं तो ऐसा निरंतर अपने रोजाना प्रयोग में लाये जा रहे शैम्पू की मात्रा को निकालकर करें। इस तरह इस शैम्पू से बालों को धोने पर आप पाएँगे कि एक बालों के सूख जाने पर वे किस तरह चमकदार बन जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *