“महिलाओं में बालों को पतला करने के लिए उपाय बालों के झड़ने डॉक्टर फीनिक्स एजी”

विटामिन ई (Vitamine E) – विटामिन ई बालो के लिए सबसे जरुरी है| शरीर में विटामिन ई की कमी होने पर बालो की जड़े कमजोर हो जाती है, जिसके कारण बाल रूखे और बेजान होकर झड़ने लगते है| विटामिन ई की कमी के कारण स्कैल्प में ब्लड संचार सही तरीके से नहीं हो पाता , इसके साथ ही विटामिन ई की कमी के कारण बालो की नमी खो जाती है| जिसके कारण बाल कमजोर होकर झड़ने लगते है| बालो को झड़ने से रोकने के लिए विटामिन ई को अपनी डाइट में शामिल करे|

मिनोक्सिडिल (minoxidil) बालों पर दो तीन महीने तक लगाएँ। मिनोक्सिडिल सर्वप्रथम बहुत महीन बालों को बनाता है और डाई करने से बाल और सर के रंग में फ़र्क़ नही दिख़ता है और नए बालों का हिस्सा घना दिखने लगता है। यह बालों के झड़ने के इलाज के दौरान लोगों द्वारा अपनाया गया एक आम तरीक़ा है।

बाल बढ़ाने के उपाय, जटमानसी आमतौर पर पाया जाने वाला एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो कि बालों को बढ़ने में मददगार है। यह खून में से अशुद्धियों को दूर करता है और बढ़ती रंगत देता है। यह बालों की कई तरह से बढ़ने में मदद करता है। आप इसे दवा के रूप में ले सकती हैं या बालों पर सीधे भी लगा सकते हैं। याद रखें कि दवा की तरह इस्तेमाल करते वक्त कैप्सूल 6mg से ज्यादा न  हो।

बाल झड़ना कैसे रोके, अगर आप काफी मात्रा में बाल झड़ने से परेशान हैं तो प्याज का रस आपकी सहायता कर सकता है। प्याज में मौजूद सल्फर बालों की जड़ों में रक्त संचार को बढ़ाता है। प्याज के रस में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं जो हर तरह के कीटाणुओं का नाश करते हैं। अपने सिर में प्याज का रस लगाएं और आधे घंटे के लिए छोड़ दें। बाद में शैम्पू कर लें।

बालों के झड़ने के लिए चिकित्सा कार्यकाल खालित्य है. वहाँ एक जनसंख्या लक्ष्य जो इस हालत से ग्रस्त है. पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के एक जैसे बालों के झड़ने का अनुभव कर सकते हैं. अलग-अलग लोगों में अलग अलग तरीके इस शर्त को स्वीकार. कुछ लोगों का यह शर्म नहीं कर रहे हैं और उनके गंजापन बताने के लिए पसंद करते हैं इलाज नहीं है और यह छिपा नहीं. दूसरों के अलग-अलग उपचार बालों के झड़ने के लिए प्रयास करें और बाल शैलियों के साथ अपने गंजे हिस्से को कवर, मेकअप, टोपी या स्कार्फ.

हाल में हुए एक शोध में यह पाया गया है कि पल्मेट्टो नामक एक दवा के सेवन से लोगों में बालो का बढ़ना ज़्यादा होता है। जिन लोगों ने 400 मिलीग्राम पल्मेट्टो तथा 100 मिलीग्राम बीटा साइटोस्टेरॉल रोज़ाना लिया उनके बालों में वृद्धि हुई। प्राचीन काल से पल्मेट्टो का प्रयोग बाल उगाने के लिए किया जाता है।

महिलाओं में भी गंजापन विकसित होता है, किन्तु यह पुरुषों की तुलना में बहुत कम होता है। यद्यपि महिलाओं में गंजेपन का पैटर्न भिन्न होता है। महिलाओं में एक विशेष पैटर्न के बजाय पूरे सिर में बालों की कमी होने लगती है। इसे महिला पैटर्न गंजापन कहा जाता है। महिला पैटर्न गंजापन भी जेनेटिक होता है, किन्तु सीधे हार्मोंस से संबंधित नहीं होता।

अब आपके पास दो आवश्यक चीजें हैं जो आप केवल निष्पादित करने के लिए कुछ मिनट ले जाएगा इस परम उपाय के रूप में बाल regrowing शुरू करने के लिए अनुमति दे सकते हैं किया है, लेकिन अपने समाप्त हो गया जो वास्तव में एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपाय सुनिश्चित करें कि पिछले दो उपायों से काम करने की संभावना है कर देगा कि है.

 चिकित्सकीय बीमारी के लक्षणः बालों का झड़ना चिकित्सा बीमारी का लक्षण हो सकता है जैसे कि अवटुग्रंथि(थाइरॉयड) विकृति, सेक्स हार्मोन में असंतुलन या गंभीर पोषाहार समस्या विशेषकर प्रोटीन, लौह, जस्ता या बायोटीन की कमी। यह कमी खान-पान में परहेज करने वालों और जिन महिलाओं को मासिक धर्म में बहुत ज्यादा रक्त स्राव होता है उनमें यह आम है।

खोपड़ी में कमी का आमतौर पर पुरुष-पैटर्न गंजापन के लिए उपयोग नहीं किया जाता है, लेकिन यह स्लेरिंग खालित्य वाले लोगों के लिए उपलब्ध है। किसी भी अंतर्निहित स्थितियों से साफ हो जाने के बाद ही सर्जरी किया जाना चाहिए।

Minoxidil topically लागू करने के लिए खोपड़ी ही अगर आपके बालों के झड़ने के एक परिणाम offemale पैटर्न गंजापन और न किसी अन्य शर्त है काम करता है, Clarissa यांग, एमडी, ब्रिघम और बोस्टन में महिला अस्पताल में एक त्वचा विशेषज्ञ कहते हैं।

वह दिन लद गए जब पुरुषों के शरीर के बाल को पसंद किया जाता था लेकिन आधुनिक विज्ञापन और फिल्मों की दुनिया अब युवाओं को शरीर से बाल हटाने के लिए के प्रेरित कर रहा है। इसलिए देखा गया है कि जो काम कुछ साल पहले महिलाएं किया करती थी वह काम आज पुरुष भी कर रहे हैं। आज बाजार ऐसे कई सारे उपकरण मौजूद है जिसके जरिए छाती, पीठ, हाथ और पैरों के बाल हटाए जा सकते हैं।

अस्पताल में हर हफ्ते हल्के चिकित्सा (फोटो-चिकित्सा) के दो से तीन सत्र दिए जाते हैं त्वचा पराबैंगनी (यूवीए या यूवीबी) किरणों से उजागर होती है कुछ मामलों में, आपकी त्वचा को यूवी प्रकाश से उबरने से पहले आपको सोलन नामक दवा दी जा सकती है, जो आपकी त्वचा को प्रकाश के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है।

हालांकि, स्टेम सेल थेरपी अभी भी चिकित्सकीय कुशल निष्पादन के साथ प्रतिबंधित है। जहां रक्त स्टेम सेल थेरेपी का  प्रयोग रक्त स्टेम सेल कोशिकाओं अन्य गंभीर रोगों के निदान के लिए किया जाता है। इस थेरेपी से कुछ हड्डी ,त्वचा और कॉर्निया बीमारियों का भी इलाज होता है। जो एक स्टेम सेल के ऊतक कलम बांधने काम के द्वारा ही संभव है। स्टेम सेल चिकित्सा, इन उपचारों को दुनिया भर में सुरक्षित और व्यापक प्रशंसा प्राप्त हुई है स्टेम सेल थेरेपी बहुत होनहार उभरकर बहार आयी है।

इस तेल को नियमित रूप से बालों में लगाने पर, बालों का झड़ना भी कम होगा और झड़ चुके बालों की वजह से, यदि सिर की त्वचा दिखाई देने लगी है, तो वहां नए बाल भी आ जायेंगे। इसके अलावा बालों को घना करने में भी यह तेल बेहद फायदेमंद साबित होगा।

हेयर ट्रांसप्लांट के बाद पहले एक बार बाल झड़ते हैं जो सामान्य हैं। लेकिन दो-तीन महीने के बाद बाल सही तरह से उगना शुरू हो जाते हैं। इसलिए पूरा परिणाम आने में कम से कम 6 महीने का समय लगता है। कई लोगों को पूरी तरह से बाल ना आने की शिकायत रहती है, जिसकी वजह खराब तकनीक, विशेषज्ञ सर्जन (प्लास्टिक सर्जन या डर्मेटोलॉजिस्ट ) से इलाज न लेना और ऑटोइम्यून डिजीज होती है। हेयर प्लांट दूसरी सर्जरी जितनी ही जटिल होती है और इसे अपनाने से पहले प्रशिक्षित चिकित्सक ( प्लास्टिक सर्जन या डर्मेटोलॉजिस्ट ) स्पेशलिस्ट क्लीनिक और इमरजेंसी केयर का होना बेहद जरुरी है।

सिर और बालों में नारियल का तेल लगाएं। इससे बेहतर और जल्द परिणाम दिखने लगेंगे। आप इसमें रोजमेरी की कुछ बूंदे मिला सकते हैं। अपनी उंगलियों से सिर का मसाज करें। इस 30 मिनट या इससे अधिक समय तक सिर में भींगने के लिए छोड़ दें। उसके बाद शैंपू से धो दें। ऐसा सप्ताह में एक बार करें।

4. रोज़ाना कुछ मिनट के लिए अपनी खोपड़ी को गुनगुने तेल से मालिश करें। मालिश के लिए आप किसी भी तेल का प्रयोगकर सकते हैं जैसे नारियल, लैवेंडर, बादाम, सरसों या जोजोबा का तेल। अगर आपके बाल डैंड्रफ की वजह से झड़ रहे हैं तो जोजोबा का तेल इसका काफी अच्छा इलाज है। जोजोबा के तेल में मौजूद सीबम सिर को पोषण देता है। तेल से मालिश करें और १ घंटे बाद शैम्पू कर लें।

साठ दिनों बाद इन लोगों की प्रोस्टेट ग्रंथि हटा दी गई. जिन लोगों को विटामिन डी की गोलियां दी गई थीं, उनके कैंसर के ट्यूमर घट गए थे. जिनको नक़ली दवाएं दी गई थीं, उनके साथ ऐसा नहीं हुआ. साफ़ है कि गंजे लोगों को प्रोस्टेट कैंसर होने का ख़तरा ज़्यादा है. वैसे गंजेपन का प्रोस्टेट ग्रंथि के कैंसर से सीधा ताल्लुक़ अभी तक साबित नहीं हो सका है.

नीम- असमय बालों के पकने और बालों के झड़ने के क्रम को रोकने के लिए पातालकोट के आदिवासी नीम के बीजों से प्राप्त तेल को रात में सिर पर लगा लेते हैं और सुबह सिर को धो लिया करते हैं। माना जाता है कि नीम के बीजों का तेल बालों में एक माह तक लगातार इस्तेमाल करने से बालों का झड़ना रुक जाता है। डेंड्रफ होने पर 100 मिली नारियल तेल में नीम के बीजों का चूर्ण (20ग्राम) अच्छी तरह से मिलाकर सप्ताह में दो बार रात में मालिश की जाए तो आराम मिल जाता है।

ट्रांसप्लांटेशन के ऐसे स्प्रेड आउट सत्रों का एक लाभ यह भी होता है कि बालों की वृद्धि बहुत नाटकीय एवं नोटिसेबल नहीं होती है। लगातार लाइमलाइट में रहने वाले सेलेब्रिटीज एवं अन्य व्यक्ति प्रायः ऐसे वितरित सत्रों में जाने को वरीयता देते हैं, ताकि अपीयरेंस में कोई ऐसा अचानक बदलाव न हो, जो टिप्पणी का कारण बन सकता है।

तनाव बाल झड़ने का प्रमुख कारण होता है। तनाव की वजह से तीन तरीके से बाल झड़ते हैं जैसे ट्रिकोटिलोमेनिया,एलोपेसिया एरियाटा तथा टेलोजेन एफ्लुवियम। वैसे तनाव की वजह से अस्थायी रूप से बाल झड़ते हैं और आप योग शारीरिक व्यायामों द्वारा इस परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं।

आज हम आपको बालों को झड़ने से रोकने और फिर से नए बाल उगाने के घरेलु उपाय के बारे में बताएँगे। ज्यादातर लोग इस समस्या से परेशान हैं और झड़ते बालों को रोकने के लिए कई घरेलू और मेडिकल इलाज कर चुके हैं लेकिन उनके झड़ते बाल रुकने का नाम ही नहीं लेते हैं। ऐसी कई समस्या उनके बालों में होती है लेकिन वह इसे कम कर नहीं पाते हैं और धीरे-धीरे उनके बाल झड़ने लगते हैं। झड़ते बालों को रोकने के लिए और फिर से नए बालों को उगाने के लिए आज हम आपसे एक आसान सा घरेलु उपाय शेयर करने वाले हैं।

अगर आपकोMale Patterned Baldness कि समस्या है तो आप अपने डॉक्टर कि सलाह लेकर Minoxidil (1-10%) युक्त तेल का उपयोग कर सकते है। इसकी 1 ml मात्रा सुबह और रात में जहा बाल कम हो वह लगाए। ह्रदय और किडनी रोग के रोगी इसका इस्तेमाल न करे।

एलोवेरा, बालों की देखभाल के लिए सबसे उपयोगी पौधा है। आप इसे अपने घर में, गार्डन में, छत पर कहीं भी आसानी से गमले में लगा सकते हैं। एलोवेरा की पत्तियों में पाया जाने वाला जैल बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। मार्केट में एलोवेरा पाउडर भी मिलता है जिसे बालों में लगाने से लाभ मिलता है। इस पाउडर के पेस्‍ट को बालों में 15 – 20 मिनट के लिए लगाना होता है। इसे लगाने से बाल मजबूत हो जाते है और टूटते नहीं है। एलोवेरा को लगाने से बालों में कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *