“सस्ते -बालों के झड़ने की पीढ़ी की पूंछ के तेल”

स्कैल्प कमी एक प्रक्रिया है जो खोपड़ी कि खालित्य प्रेरित बाल से प्रभावित हैं के कुछ हिस्सों को दूर करता है नुकसान गोल गंजा त्वचा के क्षेत्र को कम किया जा सके। जब उन भागों हटा दिया गया है, स्वस्थ त्वचा फैला और उसका स्थान है, गंजेपन क्षेत्र के आकार को कम करने और यह आसान का प्रबंधन करने के लिए बना। स्कैल्प कमी cicatricial खालित्य के साथ उन लोगों और जो प्रत्यारोपण के लिए पर्याप्त स्वस्थ दाता बाल नहीं होते के लिए एक अनुकूल विकल्प है।

बालों की सही देखभाल न करने के कारण बालों में कई समस्?याएं हो सकती हैं जैसे कि डेंड्रफ या बालों का गिरना आदि। आप अपने थोड़ी सी देखभाल तथा घरेलू उपायों को अपना कर न सिफ बालों की समस्याओं को दूर कर सकते हैं बल्कि बालों का गिरना भी रोक सकते हैं। आज के युवावग में बाल गिरने की समस्या काफी आ रही हैं। बाल गिरना अगर इस कदर बढ़ गया है कि आप गंजेपन के कगार पर पहुंच गए हैं तो इसका प्रभावी उपचार संभव है।

एक और सिद्धांत है इंगित करता है कि DHT प्रभावों कूप के साथ ही कूप खुद को DHT करने के लिए काफी संवेदनशील हो जाते हैं. प्रमुख सवाल यह है कि, जब कूप संवेदनशील हो जाएगा? वास्तव में क्या चर इस का कारण बन रहे हैं? समय जिस पर बाल कूप DHT के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं एक पहेली बनी हुई है. यह बालों के झड़ने का सामना कर अपने सिस्टम में DHT की कम दर के लिए सामान्य के साथ रोगियों को देखने के लिए आश्चर्यजनक है, DHT का ऊंचा डिग्री के साथ अन्य रोगियों जबकि एक सिर के बाल से भरा है. यह दृढ़ता से इंगित करता है DHT की मात्रा बालों के झड़ने के लिए एक योगदान कारक पुरुष पैटर्न बालों के झड़ने के लिए आधार नहीं है, लेकिन बाल की संवेदनशीलता DHT के लिए खुद को रोम है.

Hair Loss ka ilaj in hindi – यानी बालों का झड़ना / गिरना, इस समस्या से पुरे विश्व के लोग परेशान है। मर्द हो या औरत सभी चाहते है की उनके बाल मजबूत और घने हो। जब आपके बाल घने और खुबसूरत होते है, तो आपके व्यक्तित्व में चार चाँद लग जाती है। हर व्यक्ति की इच्छा होती है, की उसके बाल लम्बे और घने हो। आज के युग में बालों का झाड़ना / Hair loss का होना आम बात है। हर घर में बाल झड़ने की समस्या है। हर उम्र के लोग इस Hair Fall की समस्या से जूझ रहे है।

शॉक-अचानक शारीरिक या भावनात्मक घटनाओं सदमे में शरीर रख सकते हैं, जो बालों के झड़ने का कारण बन सकती। अचानक उच्च बुखार, कठोर वजन घटाने, और एक प्यार करता था की मौत की घटनाओं है कि दोनों एक भावनात्मक और शारीरिक स्तर पर दर्दनाक हो सकता है के उदाहरण हैं।

केश प्रत्यारोपण (हेयर ट्रांसप्लांट) सर्जरी एक कॉस्मेटिक प्रक्रिया है, जिसकी मदद से सिर के पिछले व साइड वाले हिस्से से, दाढ़ी, छाती आदि से बालों को लेकर सिर के गंजे भाग में implant कर दिया जाता है। इसकी वजह यह कि सिर के पिछले हिस्से के बाल आमतौर पर नहीं झड़ते इस लिए सिर के पीछे के बाल ही implant किये जाते हैं।

मिनोक्सिडिल (minoxidil) रोगैने (rogaine) रोगैन इस्तेमाल कर के देखें: मिनोक्सिडिल (minoxidil) FDA से अनुमोदित है। यह झड़ते बालों के लिए सर पर लगाने वाली दवा है। बालों के जड़ में सीधे घोल लगाने से वह जड़ों को उत्तेजित कर, बालों के वर्धन में सहायता करता है।[६]

यदि हर बार जब आप अपने बालों को ब्रश करते हैं, तो आप बालों के टूटने से चिल्ला पड़ते हैं, आयुर्वेद बालों को झड़ने से रोकने और उन्हें  स्वस्थ रखने में बहुत ही उपयोगी है। आयुर्वेदिक में इसका उपचार जड़ी बूटियों के द्वारा किया जाता है जो आपके बालों को प्राकृतिक तरीके से बढ़ावा देती है.

लौकी के बीज protein से भरे होते हैं और इनमें minerals की मात्रा भी काफी अधिक होती है। इस वजह से ये बीज बालों के लिए काफी अच्छे होते हैं। इस बीज का प्रयोग करना शुरू करने पर आपको बाल झड़ने की समस्या में कमी आती दिखना शुरू हो जाएगा। इस बीज के इस्तेमाल से मर्द Prostatic Hyperplasia की स्थिति से भी बच सकते हैं।

चेतावनी: इस पृष्ठ मूल रूप से अंग्रेजी में इस पृष्ठ की एक मशीन अनुवाद है। के बाद से अनुवाद मशीनों द्वारा उत्पन्न नहीं कर रहे हैं कृपया ध्यान दें सभी अनुवाद बिल्कुल सही होगा। इस वेबसाइट और उसकी वेब पृष्ठों का अंग्रेजी में पढ़ा जा करने के लिए इरादा कर रहे हैं। इस वेबसाइट और उसकी वेब पृष्ठों का कोई भी अनुवाद में पूरे या हिस्से में imprecise और गलत हो सकता है। इस अनुवाद एक सुविधा के रूप में प्रदान की जाती है।

बालों को झड़ने और गंजेपन से बचाने के लिए कुसुम के तेल का प्रयोग किया जाता है। इस तेल में काफी मात्रा में फैटी एसिड होते हैं जो स्वस्थ बालों के लिए काफी आवश्यक होते हैं। बाज़ार में दो प्रकार के कुसुम के तेल मिलते हैं। कुसुम का तेल घुंघराले और सूखे बालों के लिये काफी फायदेमंद है। सिर की मालिश के लिए कुसुम के तेल से मालिश करें। इसे 1 घंटे के लिए छोड़ दें तथा बालों को धो लें। बालो को उगाने के उपाय,स्वस्थ बालों के लिए इसे हर हफ्ते प्रयोग करें।

अपने बालों की Style को हमेशा बदलते रहना यह आदत तो बहुत ही अधिक लोगो की होती है, खासकर युवाओ की. किसी पार्टी में जाने पर, किसी को date करने पर, किसी शादी में जाने पर या किसी को आकर्षित करने के लिए हम अपने बालों की स्टाइल निरंतर बदलते रहते है.

तनाव के कारण भी बाल कम और सफेद होते है इसलिए इन सब से बचने के लिए कोशिश करे की तनाव रहित रहे। तनाव से दूर रहने के लिए योगा , कसरत, ध्यान आदि कर सकते है। बालो को लंबा, काला और मजबूत बनाने के लिए उपर दी गई विधियो का पालन करे। जिसे आप ज़रूर ही अपने बालो मे एक बहतर फ़र्क महसूस करेगे।

बालों के झड़ने के इलाज के लिए गोलियां पुरुषों और महिलाओं के द्वारा बालों के झड़ने उम्र, हार्मोन, के साथ जुड़े और पुरुष गंजापन के नमूनों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता। कुछ सामयिक उत्पादों अक्सर बाल उपचार गोलियों के साथ एक ही किट में उपलब्ध कराई गई हैं। गोलियां एण्ड्रोजन जो बाल विकास ब्लॉक कर सकते हैं, को प्रतिबंधित करने के लिए काम करते हैं।

प्रक्रिया के पूर्ण होने के बाद, मरीज़ के सिर के पिछले हिस्से पर एक पट्टी बांधी जाती है, किन्तु ट्रांसप्लांट किए गए क्षेत्र को खुला रखा जाता है। ट्रांसप्लांट किए गए बालों को रगड़ने से बचाने जैसी न्यूनतम सावधानियों की सलाह दी जाती है। रोगी ट्रांसप्लांट किए गए क्षेत्र को ढँकने के लिए अगले दिन से एक टोपी पहन सकता है। पपड़ी को धुलने के लिए 4-7 दिनों के बाद या उससे पहले बालों में शैंपू करने की सलाह दी जाती है। अधिकाँश ट्रांसप्लांट किए गए बाल लगभग 20 दिनों में गिर जाएंगे, चूँकि बाल टेलोजेन फेज में चले जाते हैं, जैसे ही जड़ें ट्रांसप्लांटेशन के बाद सुषुप्त अवस्था में चली जाती हैं। यह ट्रांसप्लांट किए गए बालों का सामान्य चक्र है। इस बारे में चिंता न करें, लगभग 3 माह में जड़ों से वापस नए बाल उगना शुरू हो जाएंगे तथा 12 महीनों में पूरा घनत्व प्राप्त हो जाएगा। उत्तरजीविता की सफलता दर बहुत अधिक है तथा लगभग 98% बालों से जीवित रहने की उम्मीद की जाती है। यह दर आरोग्यम हेयर ट्रांसप्लांट क्लीनिक में नियमित रूप से प्राप्त की जा रही है। प्रक्रिया से पहले, रोगी का मनोवैज्ञानिक आकलन किया जाना चाहिए। उसकी आवश्यकताओं को समझा जाना चाहिए तथा प्रक्रिया की संभावनाओं एवं सीमाओं के बारे में बताया जाना चाहिए। रोगी को यह बताया जाना चाहिए कि उसे अपने मूल हेयर पैटर्न के वापस आने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए बल्कि एक प्राकृतिक हेयरलाइन प्राप्त करने के द्वारा उसे छिपाने और बालों का घनत्व बढ़ाने की उम्मीद करनी चाहिए। ट्रांसप्लांट किए गए बालों की मात्रा का निर्धारण हेयर लॉस की मात्रा, लागत, मरीज की उम्मीदों आदि जैसे कारकों के आधार पर किया जाता है। मरीज़ शुरुआत में एक छोटा ट्रांसप्लांट करा सकता है और फिर मूल बालों के गिरने के 3 या उससे अधिक वर्षों के बाद फिर आगे के इम्प्लांट के लिए वापस आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *