“कैबोलिक कैरिटा बालों के झड़ने का इलाज की समीक्षा”

Minoxidil (Rogaine). इस दवा के उपचार खालित्य के दोनों प्रकार के लिए इस्तेमाल किया जा सकता. एक दिन में दो बार सिर की मालिश, और इस प्रकार बाल regrowth को बढ़ावा देने के लिए और आगे के नुकसान को रोकने के लिए तरल के रूप में प्रस्तुत किया गया है. इस दवा के केवल नकारात्मक पक्ष यह है कि आने वाले नए बाल, यह पतले और पिछले बालों से छोटा हो सकता है.

इस साइट पर सामग्री वैकल्पिक चिकित्सा और स्वास्थ्य रखरखाव के विकल्पों के बारे में केवल जानकारी प्रदान करने के लिए व सूचनात्मक और शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है. चिकित्सक / स्वास्थ्य विशेषज्ञ के परामर्श के बिना किसी भी सुझाव उपायों का पालन न करें.

आजकल हमारी लाइफस्टाइल तेजी से बदल रही है जिसकी वजह से हमारा खान पान भी अनियमित हो गया है, और यही कारण है की बहुत से लोग बाल झड़ने, बाल टूटने और गंजापन जैसी परेशानियों जूझ रहे है, इसलिए हेल्थी कहना खाये और अपने बालों की देखभाल करते रहे।

बालों से आपकी पर्सनैल्टी को और भी निखर कर सामने आने में मदद मिलती है, परतु गलत खान पान, ज्यादा केमिकल के इस्तेमाल, प्रदुषण और बालों की अच्छे से केयर न करने के कारण बाल झड़ना शुरू हो जाते है, और इनके कारण महिलाएं और पुरुष दोनों ही परेशान भी हो जाते है, और इस समस्या से निजत पाने के लिए मार्किट में आयें प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने लगते है, परतु क्या आप जानते है की उनमे और भी केमिकल होता है, और कोई भी हेयर प्रोडक्ट आपको किसी तरह की कोई गारंटी भी नहीं देता है, और कई बार तो ये आपके बालों पर उल्टा असर भी दिखाते है।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्श्री डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, “फाइब्रॉएड गर्भाशय की मांसपेशी के ऊतकों में शुरू होते हैं। वे गर्भाशय की कैविटी में, गर्भाशय की दीवार की मोटाई या पेट की गुहा में बढ़ सकते हैं। फाइब्रॉएड के लिए मेडिकल शब्द है- लेय्योमायोमा। फाइब्रॉएड शरीर में स्वाभाविक रूप से उत्पादित हार्मोन एस्ट्रोजन द्वारा उत्तेजना की प्रतिक्रियास्वरूप विकसित होते हैं। इनकी वृद्धि 20 साल की उम्र में दिख सकती है, लेकिन रजोनिवृत्ति के बाद ये सिकुड़ जाते हैं, जब शरीर एस्ट्रोजेन का बड़ी मात्रा में उत्पादन बंद कर देता है।”

के बाद से बालों के झड़ने का सबसे महत्वपूर्ण कारण है कुपोषण, इलाज के लिए बहुत मदद की हो सकता है एक उचित आहार. लोग हैं, जो बालों के झड़ने से पीड़ित हैं और अधिक खाद्य बीज के साथ खाना चाहिए, सूखे फल, अनाज, फल और सब्जियां, तब से वे सभी पोषक तत्वों की एक पर्याप्त राशि होते. यह भी डेयरी उत्पाद खाने के लिए महत्वपूर्ण है, शहद, वनस्पति तेल, जिगर और खमीर और उन्हें उपेक्षा नहीं करने के लिए, के बाद से वे भी उतना ही पौष्टिक भी होते हैं.

शरीर में किसी प्रकार के संक्रमण से भी बाल झड़ सकते हैं। दाद जैसा संक्रमण बाल झड़ने का मुख्य कारण हो सकता है क्योंकि ये दाद मुहांसों की तरह शुरू होते हैं और धीरे धीरे फैलकर गंजापन बढ़ाते हैं। प्राकृतिक रूप से कुछ संक्रमण ठीक हो जाते हैं पर आपको ध्यान रखना पड़ेगा कि कहीं ये संक्रमण ही तो आपके बाल झड़ने का कारण नहीं है।

प्राकृतिक और कुछ घरेलु तरिको से झड़ चुके बालों को फिर से उगाया जा सकता है। लेकिन इन तरिको से रातो रात या एक दो दिनो में बालों को नहीं उगाया जा सकता है। इसमें आपको महीना दो महीना या इससे अधिक दिनों का समय लग सकता है। घरेलु तरिको से बाल उगाने में आपको कुछ महीनो तक इंतजार करना पड़ेगा तभी इन उपायों का आपको पूरा पूरा फायदा मिल सकता है। तो आइये जानते है किन किन घरेलु और प्राकृतिक तरिको से झड़ चुके बालों को फिर से उगाया जा सकता है।

जीन्सेंग की खुराक लेने से बालों के रोम उत्तेजक द्वारा बालों के विकास को बढ़ावा मिल सकता है। जिन्सेंसाइड जींसेंग के सक्रिय घटक हैं और बालों पर इसके सकारात्मक प्रभाव के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसे हमेशा निर्देशित रूप में लें और किसी भी संभावित साइड इफेक्ट की जांच सुनिश्चित करें।

लाल, पीले, नारंगी रंग की फल और सब्ज़ियाँ खाएँ (जैसे की गाजर, शक्करकंद, शिमला मिर्च और ख़रबूज़ा) जिन में विटामिन A या बीटा कैरोटीन भरपूर मात्रा में होता है। इस पर किये गए अध्ययन से पता चलता है कि विटामिन A, कोशिकाओं को बढ़ने और उन्हें स्वस्थ्य रखने में सहायक है और इसके साथ बालों के जड़ को भी स्वस्थ रखता है।

महिलाओं में गर्भावस्था हॉर्मोन में परिवर्तन के कारण बालों का झड़ना बहुत ही आम समस्या है। यह भी एक प्रकार का टेलोजेन एफ्फ्लूवियम ही है और अगर आपके पूर्वजों में भी यह समस्या रही हो तो यह और भी प्रबल होता है। रजोनिवृत्ति के दौरान हॉर्मोनो में परिवर्तन के कारण भी बाल झड़ते हैं। इस समय बालों की फॉलिकल छोटी हो जाती हैं जिस कारण आपके बाल अधिक टूटते हैं। (और पढ़ें – दोमुंहे बालों का आसान इलाज हैं यह देसी नुस्खे)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *