“जमैकायन ब्लैक एरंडर ऑयल हेयर विकास परिणाम |विकिरण चिकित्सा के बाद बालों के झड़ने”

Ayurvedic Treatments For Hair Loss and Regrowth Ayurvedic treatment is being used widely nowadays not only in India but in other parts of the world too. In fact, this popularity gained by Ayurveda is well deserved because of the holistic and healthy approach it has towards healing a disease or disorder. Hair fall is a problem which is caused by the imbalance in Pitta dosha. There are many reasons for aggravation of this dosha like eating hot, fried and spicy food, over exposure to sun, stress etc…………..

Shimply.com आप बालों के झड़ने और regrowth के लिए आयुर्वेदिक उपचार लाता है। हम यह भी पेशकश करते हैं आयुर्वेदिक उपचार के लिए उच्च कोलेस्ट्रॉल , पित्ती आयुर्वेदिक उपचार, आयुर्वेद में बांझपन उपचार, वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा, साइनस के लिए आयुर्वेदिक समाधान, बहरापन आयुर्वेदिक उपचार, आयुर्वेदिक उपचार थकान आयुर्वेदिक चिकित्सा सोरायसिस, और अधिक ।

Provillus सिर्फ एक और लोगों द्वारा प्रयोग किया जाता बालों के झड़ने को समाप्त कर दिया और फिर से विकास और regrowth प्रोत्साहित करने के लिए उत्पाद है. Provillus अपनी सक्रिय संघटक के रूप में Minoxidil है, और इस बाल regrowing के लिए एफडीए द्वारा स्वीकार किया गया है. इसके साथ – साथ, यह रोकना DHT करने के लिए काम करता है, बालों का झड़ना रोकने और ब्रांड के नए के regrowth को प्रोत्साहित, स्वस्थ बाल.

चिमटी किसी भी आवारा कि बाल एपिलेशन याद किया हटाने के लिए किया जाता है. अंत में, शेष जघन बाल – “लैंडिंग पट्टी – या तो कैंची के साथ छंटनी की है, या बंद लच्छेदार अगर ग्राहक अनुरोधों यह. शेष बाल भी एक विशेष पैटर्न (दिल एक लोकप्रिय विकल्प हैं) में हो सकता है.

अन्य सामान्य बालों के झड़ने उपचार finasteride है, बेहतर Propecia के रूप में जाना जाता है. Propecia DHT ब्लॉक, जो कि क्यों यह परिणाम है. कुछ पुरुषों में – या सेक्स ड्राइव, कम अर्थात् एक प्रभाव लेकिन, यह भी पैदा अवांछनीय ओर सीधा होने के लायक़ रोग . हालांकि आप अपने बालों को पुनः प्राप्त करना चाहते हैं, Propecia के दुष्प्रभाव भी कई पुरुषों के लिए गंभीर हो सकता है.

अन्यं आवश्येकताओं की तरह बालों को विडामिन डी की भी आवश्यचकता होती है । ये भी एक तरह का निशुल्क नुस्खा है और बालों को गिरने से रोकता है। असल में विटामिन डी बालों को बढ़ने में काफी मददगार साबित होता है और बालों को बढ़ने के लिए यह बहुत ज़रूरी भी है। यह अपने आप में आयरन और कैल्शियम को सोख लेता है। आयरन की कमी भी बालों के गिरने की वजह होती है। लेकिन जब आप अपने शरीर पर कम से कम 15 मिनिट के लिए भी सूर्य की किरणें पड़ने देते हैं, तो आपको उस दिन के लिए ज़रूरी मात्रा में विटामिन डी की खुराक मिल जाती है। लेकिन एक बात याद रहे, जब बहुत ही ज्यादा गर्मी हो तो आप अपने सिर और त्वचा को सूर्य की किरणों से बचाकर रखिये। बहुत ज्यादा गर्मी या तपती धूप आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। तो बेहतर यही होगा की आप सूर्य की किरणों का फायदा या तो सुबह उठाइए या शाम को।

ज़्यादा दवाइयों का सेवन करने से भी बाल झड़ते हैं। कई अलग अलग प्रकार की बीमारियों से लड़ने के लिए है परन्तु इनका बालों पर भी काफी खराब असर पड़ता है। ज़्यादातर थाइरोइड की समस्याओं, सिर के संक्रमण, एलोपेसिया एरियाटा और अन्य त्वचा सम्बन्धी परेशानियों में दवा लेने से बाल झड़ते हैं।

बाल विकास को बढ़ावा देने और रक्तसंचार को बढ़ावा देने के लिए आप जीरियम तेल का उपयोग कर सकते हैं । एक वाहक तेल में कुछ बूंदों को मिलाएं और बाल मास्क बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करें। आप अपने शैम्पू और कंडीशनर में कुछ बूंदों को मिला भी सकते हैं। जेरानियम तेल बालों को मजबूत करने, हाइड्रेट, और बालों को उगाने में मदद कर सकता है।

अधिकतर Non Surgical Hair Replacement डिजाइन और कसंल्टेशन से शुरू होते हैं । डिजाइन और कंसल्टेशन से यह सुनिश्चित किया जाता है कि प्रोडक्ट आपके मौजूदा बालों के कलर और स्टाइल के अनुसार ही तैयार किया जाए । डिजाइन से लेकर मनमाफिक प्रोडक्ट तैयार करने में कई महीनों का वक्त लगता है । आप बाजार से ऐसे प्रोडक्ट भी ले सकते हैं जो पहले से तैयार हैं और सस्ते भी । हालांकि इससे समय तो बच जाएगा लेकिन आप क्वालिटी के साथ समझौता करेंगे ।

यह एक ऐसा फल है जो कि काफी लोगों का पसंदीदा है। आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि यह फल भी बालों को घना करने के काम आता है। इसमें विटामिन इ की मात्रा होती है जो बालों को स्वस्थ बनाती है। इसके लिए एक पाकी नाशपाती लें तथा इसे अपने हाथों से या किसी औज़ार से मैश कर लें। अब इसमें 1 चम्मच जैतून का तेल तथा थोड़ा सा मैश्ड केला मिलाएं। इसे हाथों से मसलकर अपने बालों पर लगाएं। 30 मिनट तक इसे छोड़ दें। अब बाल धो लें और सूखने के बाद फर्क देखें।

प्रत्येक व्यक्ति काले और घने बालों की चाहत रखता है। बालों का असमय झड़ना किसी को अच्छा नहीं लगता। बाल झड़ने का सीधा असर खूबसूरती पर पड़ता है। कम बालों के कारण इंसान उम्र में भी अधिक लगता है। वर्तमान समय में यह समस्या बहुत तेज़ी से बढ़ रही है। एक अध्ययन के अनुसार, पुरुषों में बाल झड़ने की समस्या महिलाओं की तुलना में अधिक पायी जाती है। लेकिन बालों का झड़ना और पतला होना महिलाओं में भी कम नहीं है लेकिन इसके कारण ज़रूर भिन्न भिन्न हो सकते हैं। बालों का झड़ना रोका भी जा सकता है लेकिन इसके लिए ज़रूरी है सही कारण का पता होना। तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही कारण जिनकी वजह आपके बाल झड़ रहे हैं। (और पढ़ें – बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय)

एक निवेदन – इस ब्लॉग में दिए गए सभी Beauty tips in Hindi, Skin Care tips in Hindi, Ayurvedic Treatment, Gharelu Nuskhe, Home Remedies, Homeopathy इत्यादि लेख को, लोगो के अनुभव के आधार पर तैयार किया गया है। किसी भी रोग में इन उपायों को अजमाने से पहले चिकित्सक (Doctor) की सलाह जरुर लें। ऊपर बताये गए उपाय और नुस्खे को अपने विवेक के आधार पर इस्तेमाल करें। कोई असुविधा होने पर इस ब्लॉग www.hindiayurveda.com की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।

महिलाओ में विशेष कर hair fall का प्रमुख कारण Hypothyroidism ही है। अगर आप Dandruff कि समस्या से परेशान है तो डॉक्टर से इसका इलाज करवाए। आप Dandruff से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार Ketoconazole युक्त shampoo का उपयोग हफ्ते में दो बार कर सकते है। 

लागतें क्षेत्र के अनुसार भी भिन्न होंगी – साधारणतया लागतें छोटे शहरों की तुलना में बड़े शहरों में अधिक होंगी। विभिन्न क्लीनिकों में व्यक्तिगत भिन्नताएं भी होती हैं – बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर वाले क्लीनिक कम ऊपरी खर्च वाले छोटे, एक डॉक्टर यूनिट वाले क्लीनिकों से अधिक चार्ज करते हैं (यद्यपि ऐसी इकाइयों में सुरक्षा, स्टरिलिटी, आदि के साथ भी समझौता किया जा सकता है)।

यहाँ हम बताने वाले है ऐसे इलाज जो कि रसायन या दवाओं के साइड इफेक्ट के बिना काम करता है, आप इन घरेलू उपचार की कोशिश करनी चाहिए बाल विशेषज्ञों के अनुसार हर दिन 50-100 बालों का गिरना सामान्य है जब आप उस से भी अधिक खोते है तो यह केवल चिंता का एक कारण है। लेकिन आप ये सरल घरेलू उपचार के साथ अपने बाल गिरने को रोकने कर सकते हैं।

मेंहदी, नीम और ग्रीन टी समेत ऐसे कई हर्ब्स हैं जिसे बालों पर लगाने से बाल घने और लंबे होते हैं। मेंहदी इसमें सबसे ज्यादा असरदार है, क्योंकि यह बालों की जड़ों यानि स्कैल्प को पोषण देता है। इससे बालों में चमक आती है।

केश प्रत्यारोपण (हेयर ट्रांसप्लांट) सर्जरी एक कॉस्मेटिक प्रक्रिया है, जिसकी मदद से सिर के पिछले व साइड वाले हिस्से से, दाढ़ी, छाती आदि से बालों को लेकर सिर के गंजे भाग में implant कर दिया जाता है। इसकी वजह यह कि सिर के पिछले हिस्से के बाल आमतौर पर नहीं झड़ते इस लिए सिर के पीछे के बाल ही implant किये जाते हैं।

बालों के झड़ने के अलग अलग तरीकों से क्या इस मुद्दे पर पैदा कर रहा है के आधार में दिखाई देगा। बालों के झड़ने भी अस्थायी या स्थायी कारण के आधार पर किया जा सकता। संकेत और लक्षण पुरुषों और महिलाओं ने देखाकी एक सूची:

पारिजात- आदिवासी हर्बल जानकारों के अनुसार पारिजात की पत्तियों और बीजों का चूर्ण तेल में मिलाकर प्रतिदिन रात को बालों की जडों में मालिश करने से बालों का पुन: उगना शुरू हो जाता है, साथ ही, बालों के झडने को रोकने में मदद करता है।

Finasteride (Propecia). यह दवा पुरुष पैटर्न गंजापन का इलाज करने का इरादा है. हर दिन आप एक गोली के रूप में होना चाहिए. इसका कार्य dihydrotestosterone के लिए टेस्टोस्टेरोन के रूपांतरण को बाधित करने के लिए है (DHT), के एक सक्रिय रूप टेस्टोस्टेरोन कि बाल कूप सिकुड़ता है और पुरुषों में बालों के झड़ने में एक महत्वपूर्ण कारक माना जाता है. आप कई महीनों के सकारात्मक परिणाम देखने के लिए ले जा सकते हैं. दिया है कि इस दवा के हार्मोनल प्रभाव, यह घटी हुई यौन इच्छा और यौन कार्य पैदा कर सकते हैं. एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि finasteride महिलाओं द्वारा उपयोग के लिए अनुमोदित नहीं है, विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं, के बाद से यह कई जन्म दोष पैदा कर सकते हैं.

हमारे हेयर बहुत ही नाजुक होते है और थोड़ी सी भी लापरवाही करने पर या बालों की केयर न करने पर बाल बेजान या टूटने लग जाते है. इसलिए अपने बालों को किसी भी प्रकार की समस्या से बचाने के लिए बालों की देखभाल बहुत जरुरी है.

पुरुष पैटर्न गंजापन अधिकांश मामलों में, लगभग 90% में देखने को मिलता है। मुख्यतः दो प्रकार के मरीज़ होते हैं, पहले प्रकार में 20 वर्ष से कम उम्र वाले युवा जिनमें गंजेपन का उच्च स्तर विकसित हो चुका है तथा दूसरे में 40 वर्ष से कम उम्र के वे व्यक्ति हैं जो अपनी उम्र के अनुसार औसत बालों से अधिक खो चुके होते हैं।

बाल विकास के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार मे हम आमला, शिकाकाई, रीठा, भृंगराज, मंजिष्ठा, रक्त चंदन, जटामांसी और नीम जैसे कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का प्रयोग कर सकते हैं। ये आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां आसानी से घर में उपलब्ध होती हैं। और बाल विकास के लिए अति उपयोगी हैं।

आजकल हमारी लाइफस्टाइल तेजी से बदल रही है जिसकी वजह से हमारा खान पान भी अनियमित हो गया है, और यही कारण है की बहुत से लोग बाल झड़ने, बाल टूटने और गंजापन जैसी परेशानियों जूझ रहे है, इसलिए हेल्थी कहना खाये और अपने बालों की देखभाल करते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *