“बालों के झड़ने का त्वचाविज्ञान -अंडे के साथ बाल विकास”

हेलो सब लोग! बाल गिरने, बालों के झड़ने कुछ है जो हमें बल दिया छोड़ सकते है। इसका कारण यह है कि हमारे बाल अपनी तरफ से पूरी सामान है कि हमारे चेहरे beautifies में से एक है। लेकिन कुछ कारणों की वजह से बाल गिर जाएगा और हम भी कई बाल किस्में घरों में शौचालय हैं। कुछ बाल गिर जाते हैं एक दिन में 50-70 किस्में जैसे बहुत सामान्य है कि राशि से अधिक है कि परेशानी हो सकती है लेकिन। आप आंवला, त्रिफला, bhringraj आदि जैसे प्राकृतिक उत्पादों के साथ उपचार जैसे विभिन्न बाल गिर जाते हैं उपचार के बारे में सुना होगा, लेकिन यहाँ एक और उपाय है कि बालों के पतन के लिए भी उतना ही अच्छा है। यह प्राकृतिक उत्पाद अंडा है। हाँ, अंडा आप बाल गिरने के इलाज के लिए सबसे अच्छी सामग्री में से एक है। जब आप अंडे में मदद मिलेगी कि आप प्राकृतिक शक्ति पाने के साथ बाल गिरावट के लिए बाल उपचार करते हैं और यह भी बाल गिरावट में पर्याप्त राहत देता है। तो, क्या बाल गिरावट के लिए इन अंडा उपचार कर रहे हैं चलो।

करौंदे के बीज (cranberry seeds) बालों की देखभाल में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। करौंदे के बीज (cranberry seeds) के तेल को उँगलियों पर लेकर सिर पर अच्छे से मालिश करें। यह बालों को पोषण दें कर इसे सूखेपन से मुक्त करने का एक काफी प्रभावी तरीका है। इस तेल को गर्म करके भी इसका फायदा उठाया जा सकता हैं।

हर व्यक्ति घने काले बालो कि चाहत रखता है। कोई नहीं चाहता कि बालो का असमय झड़ने कि वजह से वह 25 साल कि उम्र में 40 साल का दिखाई दे। कम उम्र में सिर के बालो का गिरना या hair loss होना बहुत टेंशन  देने वाली प्रॉब्लम  है। वर्तमान समय में यह समस्या युवाओं में बहुत तेजी से बढ़ रही है। बाल झ़डना लगभग एक आम समस्या बन गयी है फिर भी लोग इसे रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं करते है। आज इन्टरनेट पर भी रोजाना लाखों लोग इस समस्या का समाधान  सर्च करते हैं और यह बात यही दर्शाती है की युवा आयु में ही हेयर फॉल होना एक गंभीर समस्या बनती जा रही हैं।

बाल प्रतिस्थापन भट्ठा कलम बांधने का काम, पंच ग्राफ्टिंग, और सूक्ष्म ग्राफ्टिंग सहित तरीकों, की एक किस्म का उपयोग किया जा सकता है। बिना बाल पुरुषों के बहुमत बाल रिप्लेसमेंट सर्जरी के लिए अच्छा उम्मीदवार हैं, वहीं महिलाओं के बहुमत नहीं हैं।

—-प्रदूषण से भी बालों की सेहत खराब होती है, जिसका नतीजा बालों के पतझड़ के रूप में सामने आता है। स्टाइल की मार, फैशन के चक्कर में लोग अपने बालों में कलरिंग, स्ट्रेटनिंग, रिबॉन्डिंग आयरनिंग आदि कराते रहते हैं। इनसे बाल खराब होते हैं और झड़ते भी हैं। इनसे बचना ही बेहतर है। आजकल कई कलर अमोनिया फ्री का दावा कर बेचे जा रहे हैं, लेकिन लगभग सभी तरह के हेयर कलर्स में लेड होता है, जिससे बाल खराब होते हैं और गिर जाते हैं। कैंसर, टीबी, टायफायड जैसी बीमारियों के दौरान भी बाल झड़ने लगते हैं, लेकिन बीमारी ठीक होने के बाद बालों की ग्रोथ सामान्य हो जाती है। कोलेस्टेरॉल घटाने वाली दवाएं, पाकिंüसन, ऑर्थराइटिस और अल्सर के इलाज में दी जाने वाली दवाएं विटामिन ए से बनी कुछ दवाएं, हाई ब्लडप्रेशर रोकने वाली बीटा ब्लॉकर दवाएं और एंटीथायरॉइड एजेंट्स की वजह से भी बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं। हालांकि बीमारी ठीक होने पर ये बाल अक्सर दोबारा आ जाते हैं। आजकल लड़कियां खूब डाइटिंग करती हैं और इस दौरान उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। बिना डॉक्टरी सलाह के की जाने वाली डाइटिंग के फेर में सूखे बेजान बाल या बालों का झड़ना देखा जाता है। बालों को खींचकर बांधने से भी बाल कमजोर होकर टूटने या गिरने लगते हैं। इसके अलावा मौसमी बदलाव से भी बाल झड़ सकते हैं लेकिन ऎसा कुछ ही दिन के लिए होता है।

I have done hair transplant in marmm klinik i fully satisfied with hair transplant treatment & i thankful to marmm klinik for providing me best result in less cost and specially thanks to Dr. Amit porwal.

बालों के असमय सफेद होने की समस्या से बचा सकता है। इसका उपचार है, बशर्ते समय पर सही इलाज लिया जाए। उन्होंने बताया कि सही डाइट इसका सबसे बेहतर उपचार है। इसके अलावा थाइराइड व ब्लड जांच करवाना भी इसके बचाव में शामिल है।चिंता , भय ,तनाव ,सोच ,प्रदूषण से बच कर रहना भी हल हो सकते है

९. बीटरूट का रस(beetroot juice to control hair fall): बीटरूट में फॉस्फोरस, कैल्शियम, प्रोटीन, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन बी और सी के गुण होते हैं। ये सारे गुण बालों के बढ़ने हेतु काफी आवश्यक हैं। रोज़ाना बीटरूट का रस पियें या फिर बालों को बढ़ाने के लिए इसे अपने खानपान में शामिल करें। आप बीटरूट की पत्तियों का भी प्रयोग कर सकते हैं। बीटरूट की पत्तियों को पानी में उबालें तथा इन्हें हेना के साथ मिलाएं। इस गाढ़े पेस्ट को सिर पर लगाएं और २० मिनट के लिए छोड़ दें। अब बालों को ठन्डे पानी से धो लें। बालों की अच्छी बढ़त के लिए इसे हफ्ते में २ बार प्रयोग करें।

अगर हम 25 वर्ष के उस व्यक्ति के अनुभव की बात करें जिसके माथे से बाल कम होते जा रहे थे, तो उसे उसके बालों के भाग पर इंजेक्शन (injection) का उपचार प्रदान किया गया, जिससे 6 महीने में उसे अच्छे परिणाम दिखना शुरू हो गया। 6 महीनों के बाद जो प्रभाव उसे अपने बालों में दिखा, वह काफी बेहतरीन था। असल में अगर हम किसी बड़ी क्लिनिक से स्टेम सेल की पद्दति का प्रयोग करने वाले लोगों के अनुभव की बात करें, तो इनमें से ज़्यादातर लोगों का अनुभव खुशगवार ही रहा है।

बच्चे के जन्म – बाल जन्म नुकसान हो सकता है बाल महिला परिणाम में अचानक. यह आम है कई महिलाओं को गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने की सूचना के लिए – 3 महीने के बाद वे एक बच्चा मिला है. यह भी, हार्मोन के कारण होता है. लेकिन यह चिंता की बात नहीं है. गर्भावस्था के दौरान, सामान्य बालों के चक्र के दौरान छप्पर बाल हार्मोन का उच्च स्तर की में मंद है. एक बार हार्मोन पूर्व गर्भावस्था के स्तर को लौट आए हैं, यह अतिरिक्त बाल बाल विकास और नुकसान की सामान्य चक्र समय के साथ लौटने के साथ बहा रहा है.

हमारे बालों का रंग काला मेलानिन पिगमेंट Melanin Pigment के कारण होता है यह पिगमेंट चमड़ी के अंदर जहाँ बाल का अंदरूनी भाग होता है जिसे बाल कूप या पुटक (follicle) कहते हैं मे होता है |मेलानिन पिगमेंट वर्णक के कारण बालों मे रंग होता है

सरदर्दएलर्जीत्वचा के दाने कॉन्टैक्ट डरमिताईतिस (सम्पर्क से होने वाला चर्मरोग)महिलाओं के चेहरे और शरीर पर असामान्य बालों की वृद्धिहृदय दर में वृद्धिद्रव प्रतिधारणएडीमा बालों की मलिनकिरणपेरीकार्डिनल एफ़्यूज़नहाइपर ट्रीकोसिसफ्लशिंग (चेहरे, कान और गर्दन में गर्मी की भावना)सूजन या परिपूर्णतासूजनसांस लेने में तकलीफवजन बढ़नाछाती में दर्दइसके दुष्प्रभाव कितने गंभीर थे? (1 से 10 तक मापें)

जब बात बालों की जड़ों को मजबूत करने की आती है तो लहसुन बालों को झड़ने को रोकने के साथ साथ काफी कारगर सिद्ध होता है। इसमें सल्फर ज़्यादा मात्रा में होती है जो असमय बालों के टूटने को रोकता है और बालों के रोम क्षिद्र को अधिक मजबूत बनाता है।

बालों के झड़ने- गिरने और टूटने की बड़ी वजह तनाव है। यह माना जाता है कि तनाव की वजह से बालों के बढ़ने का जो सामान्य चक्र होता है वह रुक जाता है। तनाव बढ़ते ही बालों का चक्र टेलोजेन फेज में पहुंच जाता है़ जिसमें बाल झड़ने और गिरने की बीमारी शुरु हो जाती है। तनाव को कम करने का सबसे आसान उपाय है ध्यान। ध्यान लगाने और अच्छी नींद लेने से बालों के बढ़ने के लिए उत्तरदायी हार्मोन के स्राव की गति तेज हो जाती है।

बहरहाल, जिन लोगों के बाल खत्म होने लगे और चमचमाता सिर नज़र आने लगा है, उनके लिए ख़ुशख़बरी है. एक रिसर्च में पाया गया है कि गंजे लोग ज़्यादा समझदार, रसूख वाले होते हैं. वो लंबे समय तक जीते हैं. यहां तक कि गंजे लोगों में महिलाओं को लुभाने की क्षमता भी ज़्यादा होती है.

कई महिलाओं को प्रसव के बाद बालों के झड़ने की समस्‍या होती है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि गर्भावस्‍था के दौरान महिला के शरीर में एस्‍ट्रोजन की मात्रा बहुत ज्‍यादा बढ़ जाती है। डिलीवरी के बाद शरीर सामान्‍य हो जाता है और इस परिवर्तन को झेल नहीं पाते हैं।

इंसान की खूबसूरती में चार चांद लगाने में बाल अहम किरदार निभाते हैं. लोग बालों को बचाने के लिए और उगाने के लिए तरह-तरह के नुस्खे भी अपनाते हैं. ऐसा नहीं है कि ये नुस्खे आज के ज़माने में ही अपनाए जा रहे हैं बल्कि पुराने वक़्त में भी लोग अपने बालों को बचाने के लिए तरह-तरह की तरक़ीबें आज़माते थे.

#HomeRemediesForBaldness #CureHairBaldness # #CureAlopecia #HairLoss #Baldness #Hair #HairFall #HairGrowth #HairRegrowth #ItchyScalp #Inflammation #HairLossTreatment #ControlsHairFall #Scalp #PromoteHairRegrowth #HairFallTreatment #RemovesDandruff #CureHairLoss #HairFallTips #HowToStopHairFall #Balding #FastHairGrowth #PromotesHairRegrowth #HowToRegrowHair #HowToGrowHairFast #BaldHead #HaircareTips #HomeRemedyForHairLoss

टोपी: नियमित रूप से टोपी पहनना वास्तव में गंजेपन को ढँकने का सबसे साधारण तरीका है। यह प्रभावी है, किन्तु यह एक ऐसा स्टाइल नहीं है जिसे ज्यादा लोग अपनाना चाहेंगें। एक व्यक्ति के लिए हमेशा ऑफिस, मीटिंग, सामाजिक सभाओं, आदि में टोपी पहनना उसके कैरियर में बहुत मददगार नहीं होता है।

बाल प्रत्यारोपण सर्जरी: बाल प्रत्यारोपण शल्य चिकित्सा भी काफी प्रसिद्ध है, लेकिन केवल एक अंतिम उपाय के रूप में व्यवहार किया जाना चाहिए क्योंकि इसकी दरें हद से अधिक कर रहे हैं और कि यह थोड़ा जोखिम भरा हो सकते हैं।

आंवला हमारे शरीर में Vitamin C की कमी को पूरा करता है. यह आंवला हमारे बालों को भी चमकदार और मजबूत बनाता है तथा बालों को काले रखने में बहुत हेल्प करता है. आप आंवले का तेल बालों के लिए use कर सकते है और आंवले को खाया भी जा सकता है. आंवले का लगातार प्रयोग आपके बालों में बहुत ही Helthi Changes कर देगा जिससे आपके बाल कमजोर नहीं होंगे और बाल को एक नयी चमक भी मिलेगी.

आप ताजा नींबू का रस या नींबू का तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि बाल की गुणवत्ता और विकास को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। नींबू का तेल आपकी स्वस्थ खोपड़ी बनाए रखने और बाल विकास को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है। शैम्पू से 15 मिनट पहले अपने सिर और बाल में ताजा नींबू का रस लग्गएं। आप एक बाल मास्क के रूप में एक वाहक तेल में  कुछ बूंदे नींबू एसेंसिअल तेल का उपयोग कर सकते हैं।

होम्योपैथिक गोलियां जो शरीर में संयोजी ऊतकों के कामकाज में सुधार करती हैं और इस तरह बाल विकास की समस्याओं का समाधान करती हैं। हेयर फॉलिकल्स को मजबूत करने के लिए सिलिसिया, अच्छी तरह से ज्ञात बायोकेमिक नमक है

We are one of the top media broadcast and news providing agency. We believe in fast delivery of news as news is something which impact a large amount of people at a time. If you are willing to work with us, Feel Free to drop us your resume on our email.

1) FUT प्रक्रिया को स्ट्रिप प्रक्रिया भी कहते हैं क्यों की इसमें सिर के पीछे से बालों की स्ट्रिप निकाली जाती है।सबसे पहले मरीज को local anesthesia देकर अचेत (सुन्न) कर दिया जाता है। फिर मरीज के डोनर एरिया से एक 1.6-1.7 cm चौड़ी स्ट्रिप निकाली जाती है। आधे इंच की एक स्ट्रिप में आम तौर पर दो से ढाई हज़ार follicles हो सकते हैं और एक फॉलिकल में दो से तीन बाल होते हैं। जहां फॉलिकल्स लागए जाते हैं वहां पर एक रात के लिए पट्टिआं लगा दी जाती हैं जिन्हे अगले दिन क्लिनिक जाकर उतरवाया जा सकता है।फॉलिकल्स लगाने के बाद डोनर एरिया (Donor Area ) में टाँके लगा दिए जाते हैं। यह टाँके कुछ एक से दो हफ़्तों में सामान्य हो जाते हैं। पर इस प्रक्रिया मंं दर्द FUE से ज़्यादा होता है।

हाल में हुए एक शोध में यह पाया गया है कि पल्मेट्टो नामक एक दवा के सेवन से लोगों में बालो का बढ़ना ज़्यादा होता है। जिन लोगों ने ४०० मिलीग्राम पल्मेट्टो तथा १०० मिलीग्राम बीटा साइटोस्टेरॉल रोज़ाना लिया उनके बालों में वृद्धि हुई। प्राचीन काल से पल्मेट्टो का प्रयोग बाल उगाने के लिए किया जाता है।

अन्यं आवश्येकताओं की तरह बालों को विडामिन डी की भी आवश्यचकता होती है । ये भी एक तरह का निशुल्क नुस्खा है और बालों को गिरने से रोकता है। असल में विटामिन डी बालों को बढ़ने में काफी मददगार साबित होता है और बालों को बढ़ने के लिए यह बहुत ज़रूरी भी है। यह अपने आप में आयरन और कैल्शियम को सोख लेता है। आयरन की कमी भी बालों के गिरने की वजह होती है। लेकिन जब आप अपने शरीर पर कम से कम 15 मिनिट के लिए भी सूर्य की किरणें पड़ने देते हैं, तो आपको उस दिन के लिए ज़रूरी मात्रा में विटामिन डी की खुराक मिल जाती है। लेकिन एक बात याद रहे, जब बहुत ही ज्यादा गर्मी हो तो आप अपने सिर और त्वचा को सूर्य की किरणों से बचाकर रखिये। बहुत ज्यादा गर्मी या तपती धूप आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। तो बेहतर यही होगा की आप सूर्य की किरणों का फायदा या तो सुबह उठाइए या शाम को।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *