“बालों के झड़ने की रोकथाम क्रीम |हर्बल उपचार”

खोपड़ी और बालों की समस्याओं के लिए नींबू के रस का उपयोग एक बहुत ही आम और पहले से परिक्षण किया हुआ नुस्खा है । यह एक एंटीऑक्सीडेंट है और विटामिन से भरपूर होता है । यह न केवल बालों के गिरने को नियंत्रित करने में मदद करता है , बल्कि यह रूसी को कम और नियंत्रित करने में भी मदद करता है । यह खोपड़ी में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है और इसलिए बालों के गिरने को कम करने में मदद करता है । इसे लगाने के लिए १ चम्मच निम्बू के रस को २ चम्मच नारियल या जैतून के तेल में मिलाएं और मालिश करें । इसे एक घंटे के लिए छोड़ दें और फिर हलके शैम्पू से धो लें ।

बाल झड़ने की समस्या को रोकने में यह उपाय बहुत कारगर साबित होगा। तीन चम्मच दही के साथ काली मिर्च पाउडर के 2 चम्मच को मिलाएं। मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद इस पेस्ट की सिर पर हल्के से मसाज करें और फिर एक घंटे छोड़ने के बाद शैम्पू कर लें।

बाल गिरने से पीड़ित लोगों के लिए अमला या भारतीय करौदा एक आशीर्वाद है। यह विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट है कि बालों के झड़ने रिवर्स कर सकते हैं अगर यह अपनी प्रारंभिक अवस्था में है के साथ पैक किया जाता है।

अंडे के मास्‍क को आप वैक्‍स की तरह इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसे बनाने के लिए एक अंडे के सफेद भाग को फेंटकर अपने चेहरे पर लगाये और सूखने पर गुनगुने पानी से धो लें। इससे अनचाहे बाल निकलने के साथ झुर्रियों की समस्‍या से भी निजात मिल जाता है। image courtesy : gettyimages.in

मूलैठि की जड़ को पीस कर लगाएँ, जो बालों को ठंडक या आराम पहुँचाता है और जलन कम करता है। 1बड़ा चम्मच पिसी मूलैठि की जड़, केसर 1/4 छोटा चम्मच और एक कप दूध को अच्छे से मिलाएँ। इस मिश्रण को बिना बाल वाले हिस्से पर लगा कर रात भर के लिए छोड़ दें। सवेरे इसको धो दें। इसे हफ़्ते में एक या दो बार दोहराएँ।

इस पोस्ट में हमने आपको बाल झड़ने के कारण के बारे में बताया| विटामिन की कमी के कारण भी बाल झड़ते है| अगर आपके बाल किसी विटामिन की कमी के कारण झड़ रहे है, तो आप उस विटामिन को अपनी डाइट में शामिल करके अपने बालो को झड़ने से रोक सकते है| आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी और इससे आपको कितना फायदा हुआ, इसके बारे में हमें कमेंट करके बताये|

क्?या आप बालों की सफेदी के बारे में फैली अलग-अलग बातों को लेकर संशय में रहते हैं और इसके पीछे की हकीकत जानना चाहते हैं। तो, नीचे दिये लेख को पढ़ें और बालों को सफेद होने से रोकने के उपायों के बारे में जानें। खूबसूरत बाल तो कुदरती तोहफा माना जाता है और हम भी अपने बालों को हमेशा चमकदार और काला घना बनाये रखना चाहते हैं। लेकिन, रोज हानिकारक कैमिकल्स के संपक में आने, अपर्याप्त आहार, तनाव और अन्?य कई कारणों से हमारे बाल समय से पहले ही सफेद होने लगते हैं। तो, बालों के असमय सफेद के पीछे कई मिथ भी चले आते हैं, जो पीढ़ी दर पीढ़ी चले आते हैं और लोग उन्हें सच मानने लगते हैं। जी हां, इन मिथों में कई सच्चाइयां भी छुपी होती हैं, लेकिन सभी बातें पूरी तरह सच नहीं होतीं। अगर आप इन बातों का सही प्रकार से ध्यान न रखें तो आप गलत रास्ते पर जा सकते हैं, जिससे आपको काफी नुकसान हो सकता है। तो जरूरी है कि आप मिथ और हकीकत के फक को समझें। और बालों के असमय सफेद के पीछे के जरूरी कारणों और इलाजों को जानें।

June 24, 2016   |   Author: admin   |   3 comments   |   Categories: hair transplant • hair transplantation • Uncategorized   |   Tags: baldness • female hair loss • Hair fall • hair growth • hair line • hair loss treatment • hair regrowth • hair transplant in indore • male pattern baldness. • PRP for hair loss • PRP therapy • PRP Treatment

1. बालों के झड़ने की स्थिति में मेथी काफी लाभदायक होती है। मेथी के बीज में काफी शक्तिशाली हॉर्मोन के गुण होते हैं जो बाल बढ़ाने में तथा बालों की जड़ों को स्वस्थ बनाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनमें निकोटिनिक एसिड और प्रोटीन के गुण होते हैं जो बालों को शक्ति देते हैं। मेथी के बीजों को रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह उसका एक महीन पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों में लगाएं और ३० मिनट तक छोड़ दें। अब बालों को धो लें और अच्छे परिणामों के लिए १ महीने तक इस प्रक्रिया का प्रयोग करें।

साथ ही ये भी कहा जाता है कि गंजा सिर ज़िंदगी भी बचाता है. बच्चों में प्रोस्टेट ग्लैंड पैदा करने के लिए डीहाइड्रोटेस्टोस्टेरॉन (DHT) जिम्मेदार होता है. जिससे बच्चों के घने बाल उगते हैं. लेकिन व्यस्क लोगों में यही DHT ट्यूमर भी पैदा करता है. जिससे प्रोस्टेट कैंसर होता है और हर साल करीब तीन लाख लोग इस बीमारी से मर जाते हैं.

पुरुष पैटर्न गंजापन अधिकांश मामलों में, लगभग 90% में देखने को मिलता है। मुख्यतः दो प्रकार के मरीज़ होते हैं, पहले प्रकार में 20 वर्ष से कम उम्र वाले युवा जिनमें गंजेपन का उच्च स्तर विकसित हो चुका है तथा दूसरे में 40 वर्ष से कम उम्र के वे व्यक्ति हैं जो अपनी उम्र के अनुसार औसत बालों से अधिक खो चुके होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *