“बालों के झड़ने के चिकित्सक क्वीन |बालों के झड़ने की गारंटी उपचार”

नित्य बालों पर नया प्रयोग या उन्हें स्ट्रेटनिंग और ड्रायर की सहायता से सुन्दर बनाने की चाहत आपको बहुत बड़ा नुकसान दे सकती है। इन सभी उपकरणों और अत्यधिक शैम्पू, कलर आदि के उपयोग से भी बाल बेजान हो जाते हैं और अपनी प्राकृतिक चमक खो देते हैं। ये सभी केमिकल युक्त पदार्थ होते हैं जो सीधा बालों की जड़ों को प्रभावित करते हैं।

महिलाओं में भी गंजापन विकसित होता है, किन्तु यह पुरुषों की तुलना में बहुत कम होता है। यद्यपि महिलाओं में गंजेपन का पैटर्न भिन्न होता है। महिलाओं में एक विशेष पैटर्न के बजाय पूरे सिर में बालों की कमी होने लगती है। इसे महिला पैटर्न गंजापन कहा जाता है। महिला पैटर्न गंजापन भी जेनेटिक होता है, किन्तु सीधे हार्मोंस से संबंधित नहीं होता।

बाल झड़ना कैसे रोके, आप बाल झड़ने की स्थिति में दही का प्रयोग कर सकते हैं। दही एक बेहतरीन उत्पाद है जो बालों की गुणवत्ता में वृद्धि करता है। यह बालों का झड़ना रोकने का काफी प्रभावशाली तरीका है। दही एक प्रकार से बालों का कंडीशनर है और इसी वजह से इसके बालों  पर इतने लाभ होते हैं। सबसे पहले दही को काली मिर्च के साथ मिलाएं। इसके बाद इसे बालों पर लगाएं। एक बार दही के सूख जाने के बाद इस बात का ध्यान रखें कि बालों की धुलाई सही प्रकार से हो, जिससे कि बालों से सारी दही निकल जाए। आप दही को शहद के साथ मिलाकर भी बालों पर लगा सकते हैं। एक बार दही को शहद या नींबू के रस के साथ मिला लेने पर बालों को सही मात्रा में नमी मिलती है। दही बालों को चमकदार भी बनाता है। यह ऐसा प्राकृतिक उत्पाद है जो बालों से डैंड्रफ भी दूर करता है। एक बार डैंड्रफ के चले जाने परआपको बालों के झड़ने की समस्या से भी मुक्ति मिल जाएगी।

एफयूटी या कूपिक इकाई (फ़ॉलिक्युलर यूनिट) ट्रांसप्लांटेशन या पट्टी (स्ट्रिप) विधि में, 1 सेमी चौड़ी त्वचा की एक पट्टी पश्चकपाल एवं कनपटी के क्षेत्रों से काटी जाती है। टेक्नीशियन उसके बाद इस पट्टी को व्यक्तिगत बाल कूपिकों में विभाजित करते हैं। इन कूपिकों को द्वितीय स्तर में गंजे क्षेत्रों में ट्रांसप्लांट किया जाता है।

असली सौंदर्य प्रसाधन सामग्री सह।, लिमिटेड सुंदर वसंत शहर में स्थित-कुनमिंग, युन्नान, चीन है। हम हर्बल कॉस्मेटिक अनुसंधान और उत्पादन में समृद्ध अनुभव है, हमारे उत्पादों को दुनिया भर में 57 से अधिक देशों को बेच दिया गया.

5. दही भी बालों के झड़ने का अच्छा उपचार है। इससे बाल रेशमी और मुलायम बनते हैं। दही ना सिर्फ बालों का झड़ना रोकता है बल्कि चमकदार बाल भी प्रदान करता है। दही को सरसों के साथ या काली मिर्च के साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं। आप बालों को नमी देने के लिए दही और शहद का पेस्ट भी बना सकते हैं। बालों में लगाएं और ३० मिनट बाद शैम्पू कर लें। यह बालों के मास्क की तरह प्रतीत होता है।

लाभ: प्राकृतिक नारियल तेल में पाया सामग्री बाल के regrowth को बढ़ावा देने के। नारियल तेल आवश्यक वसा, खनिज और बालों के झड़ने और टूटना कम करने के लिए आवश्यक प्रोटीन में समृद्ध है। लोहा और पोटेशियम सामग्री की सहायता से बाल टिप को जड़ से मजबूत।

बालों के झड़ने- गिरने और टूटने की बड़ी वजह तनाव है। यह माना जाता है कि तनाव की वजह से बालों के बढ़ने का जो सामान्य चक्र होता है वह रुक जाता है। तनाव बढ़ते ही बालों का चक्र टेलोजेन फेज में पहुंच जाता है़ जिसमें बाल झड़ने और गिरने की बीमारी शुरु हो जाती है। तनाव को कम करने का सबसे आसान उपाय है ध्यान। ध्यान लगाने और अच्छी नींद लेने से बालों के बढ़ने के लिए उत्तरदायी हार्मोन के स्राव की गति तेज हो जाती है।

Bal jhadne se rokne ke upay mein pehle to aahar ko sudhare. Fresh fruit aur sabji ko dakhil kare taaki vitamins aur minerals mile. Saath me protein ki maatra badhaye aur iron jyada ho aise palak, beetroot ko khane me shamil kare. 

बालों के असमय सफेद होने की समस्या से बचा सकता है। इसका उपचार है, बशर्ते समय पर सही इलाज लिया जाए। उन्होंने बताया कि सही डाइट इसका सबसे बेहतर उपचार है। इसके अलावा थाइराइड व ब्लड जांच करवाना भी इसके बचाव में शामिल है।चिंता , भय ,तनाव ,सोच ,प्रदूषण से बच कर रहना भी हल हो सकते है

निवेदन- आपको How To Control Hair Loss In Hindi / Balo ko Jhadne Se Kaise Roke ये आर्टिकल कैसा लगा हमे अपने कमेन्ट के माध्यम से जरूर बताये क्योंकि आपका एक Comment हमें और बेहतर लिखने के लिए प्रोत्साहित करेगा.

मिनॉक्सीडिल एक लोशन के रूप में उपलब्ध है जो आप हर रोज आपके सिर पर रगड़ते हैं। यह बिना किसी पर्चे के फार्मेसियों से उपलब्ध है यह स्पष्ट नहीं है कि कैसे minoxidil काम करता है, लेकिन साक्ष्य यह बताता है कि यह कुछ पुरुषों में बाल regrowth पैदा कर सकता है।

लंबे और घने बालों के लिए डाईट में प्रोटीन, विटामिन्स और मिनरल्स जरुरी है। अपनी डाईट में वैसे फूड को शामिल करें जिसमें विटामिन ए, बी, सी, ई के साथ-साथ आयरन, जिंक, मैग्नेशियम और सेलेनियम जैसे तत्वों की अच्छी मात्रा मौजूद हो।

जुओं का उपचार : जुएँ काफी छोटे कीड़े जैसे जीव होते हैं, जो आपके सिर की त्वचा पर पैदा होकर आपका खून पीते हैं। इनके सिर की त्वचा पर अतिरिक्त रूप से काटने पर घाव हो जाता है, जिससे एक व्यक्ति को काफी दर्द होता है। अतः अपने बालों और सिर को जुओं के प्रभाव से मुक्त रखना ही बेहतर विकल्प होता है। आप नीम के तेल का अपने बालों की जड़ों में प्रयोग करके जुओं को दूर रख सकते हैं। क्योंकि इस तेल की कोई एलर्जिक (allergic) प्रतिक्रिया नहीं होती, अतः आपकी सिर की त्वचा का प्रकार चाहे जो भी हो, आप इसे अपने सिर में लगा सकते हैं।

फ्रिज़ी बालों का उपचार : बालों में निरंतर हानिकारक रसायनों और सौन्दर्य उत्पादों का प्रयोग करने पर आपके सिर पर फ्रिज़ी और रूखे बाल पैदा हो जाते हैं। आप अब इस स्थिति का नीम के तेल से आसानी से उपचार कर सकते हैं। आप इस तेल को या तो सीधे अपने सिर पर लगा सकते हैं, या फिर इसकी कुछ बूंदों का मिश्रण अपने शैम्पू (shampoo) में भी कर सकते हैं। अगर आप नीम के तेल को शैम्पू के साथ मिश्रित कर रहे हैं तो ऐसा निरंतर अपने रोजाना प्रयोग में लाये जा रहे शैम्पू की मात्रा को निकालकर करें। इस तरह इस शैम्पू से बालों को धोने पर आप पाएँगे कि एक बालों के सूख जाने पर वे किस तरह चमकदार बन जाते हैं।

आयुर्वेद बाल धोने के बाद तेल लगाने की हिमायत करता है। महाभृंगराज या ब्रा±मी तेल से बालों को अच्छा पोषण मिलता है। इसमें त्रिफला होता है, जो बालों की सेहत के लिए अच्छा है। महाभृंगराज तेल से बालों का कालापन भी बढ़ता है, हालांकि यह सफेद बाल काले नहीं कर सकता।आयुर्वेद के मुताबिक हफ्ते में एक-दो बार तेल लगाकर अच्छी तरह सिर की मसाज करें। मसाज किसी भी तेल से कर सकते हैं लेकिन आंवला, ऑलिव, नारियल या तिल का तेल अच्छा है। रात भर तेल रखकर सुबह किसी अच्छे हर्बल शैंपू से बाल धो लें। इसके बाद एक लोशन लगाएं।

गीले बालो (Wet hair) को कपडे सेआराम से सुखाए। गीले बालो में कंगी न करे। गीले बाल नाजुक होते है और आसानी से टूट या गिर सकते है। कंगी करने के लिए मोटे दातो वाला कंगा इस्तेमाल करे। बाल सुखाने के बाद बालो कि अच्छे से मसाज करे। नारियल तेल से मसाज करने से बालो कि जड़ो तक Blood circulation बढ़ता है और बाल बढ़ते और मजबूत होते है।

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस) महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या का एक अन्य रूप है। एण्ड्रोजन (पुरुष हॉर्मोन) की अधिकता के कारण महिलाओं में ओवरियरन सिस्ट या ओवरियन कैंसर, वज़न बढ़ना, मधुमेह की सम्भावना, मासिक धर्म में परिवर्तन, बांझपन, साथ ही साथ बालों का पतला होना आदि समस्याएं होती हैं क्योंकि पीसीओएस में पुरुष हॉर्मोन अधिक प्रभावी होता है। इसी के प्रभाव स्वरुप महिलाओं के शरीर और चेहरे पर बाल आते हैं। (और पढ़ें – बांझपन का घरेलू इलाज) 

निर्माता रेकवेग ने उच्च गुणवत्ता वाले मानकों के लिए निर्मित प्रभावी उत्पादकों में गिना जाता है, रेकवेग वैश्विक उत्पादन 40 देशों में बेची जाती है और विकसित की है जो जर्मन (फार्माबेटर), इंटरनेशनल (जीएमपी, पीआईसी) मानकों से पुष्टि करती है। होम्योपैथिक विशेषज्ञों और डॉक्टरों द्वारा भरोसा प्राप्त ब्रांड है

चिकित्सकीय गुणों से भरपूर नींम पेस्ट स्काल्प के क्षारीय संतुलन को बहाल करने में मदद करता हैं और बालों को झड़ने से रोकता है। इसे और भी ज्यादा असरदार बनाने के लिए नीम पेस्ट में शहद और जैतून के तेल को भी मिला लें।

स्थानीय संवेदनाहारी (दर्दनाक दवा) के तहत, एक छोटे से खोपड़ी (लगभग 1 सेमी चौड़ा और 30-35 सेंटीमीटर लंबा) उस क्षेत्र से हटा दिया जाता है जहां बहुत बाल होते हैं खोपड़ी का टुकड़ा एकल बाल या बाल के छोटे समूहों में बांटा गया है, जो उन क्षेत्रों पर बने हैं जहां बाल नहीं हैं।

बालों में खुश्की या खुजली हो रही हो, तो नीम के पत्तों को पानी में उबालें। उस पानी में थोड़ी-सी हल्दी मिलाकर छान लें। इससे सिर धोएं, खारिश दूर हो जाएगी। बालों में दही या छाछ लगाने से बाल चिकने होते हैं। बालों को रीठा, शिकाकाई से धोना अच्छा है। एलोवेरा जेल या गुड़हल के पत्तों को मसल कर बालों की जड़ों में लगा लें। इससे कूलिंग इफेक्ट मिलता है।

खोपड़ी और जड़ों सभी बाल पहले से अधिक पर लागू करें। तब जो कुछ छोड़ दिया है बाल किस्में पर लागू होते हैं कि। आपको लगता है कि अंडा कम हो रही है, तो एक और खुला टूट गया। एक और अंडा उपलब्ध नहीं है तो पतला या अंडे में कुछ शहद और दूध का उपयोग करने के कुछ नींबू का रस का उपयोग करें।

कई लड़कियां या महिलाएं, बालों की सही तरीके से देखभाल नहीं करती हैं। वे उन पर किसी भी तरह के रंग या डाई को लगा लेती हैं या फैशन के चक्‍कर में गर्म रोलर से कर्ल कर लेती हैं। कसकर चोटी बनाने या गलत तरीके से कंघी करने से भी बाल बहुत ज्‍यादा टूटते हैं।

आइये दादी मां की पोटली से निकले कुछ ऐसे ही नुस्‍खों के बारे में जानते हैं जो, वक्‍त से पहले आपके बालों को पकने से रोकेंगे। और सफेद बालों को काला करने में भी मदद करेंगे वो भी बिना किसी हानिकारक केमिकल के। ये उपाय बरसों से आजमाये जाते रहे हैं और भी काफी प्रचलित हैं।

आज के दौर में स्वस्थ बाल होना एक वरदान के समान ही है। हममें से कई लोग बाल झड़ने की छोटी या बड़ी समस्या का शिकार हुए हैं। एक हद तक बालों का झड़ना आपको परेशान नहीं करता, पर अगर यह समस्या आपको गंजेपन की तरफ ले जाती है तो आपको कुछ कदम उठाने की आवश्यकता है।

मेथी: मेथी में विटामिन और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो हेयर फॉलिकल्स को उत्तेजित करता है। इसमें पाए गए पोषक तत्व बालों के विकास के लिए अच्छा होता है साथ ही बालों को घना और मुलायम करने में भी मदद करता है। [ये भी पढ़ें: वेरिकोस वेंस के उपचार के लिए उपयोगी घरेलू उपाय]

मिनॉक्सिदिल को नर और मादा-पैटर्न दोनों गंजेपन के इलाज के लिए लाइसेंसीकृत किया गया है, लेकिन विशेष रूप से खालित्य आकाओं के इलाज के लिए लाइसेंस प्राप्त नहीं है। इसका अर्थ यह है कि इस उद्देश्य के लिए पूरी तरह से चिकित्सा परीक्षण नहीं किया गया है।

गंजेपन को एंड्रोजेनिक अलोपेसिया नाम देकर ऐसा प्रचार किया जाने लगा है, जैसे कि आपको कोई बहुत बड़ी बीमारी हो गई है. बालों को फिर से उगाने के लिए जो दवाएं इस्तेमाल की जाती हैं, उनके बहुत से नुक़सान भी होते हैं.

पारिजात- आदिवासी हर्बल जानकारों के अनुसार पारिजात की पत्तियों और बीजों का चूर्ण तेल में मिलाकर प्रतिदिन रात को बालों की जडों में मालिश करने से बालों का पुन: उगना शुरू हो जाता है, साथ ही, बालों के झडने को रोकने में मदद करता है।

अरंडी तेल  (Castor Oil) में विटामिन ई के साथ बालों की ग्रोथ के लिए जरुरी औमेगा फैटी-9 एसिड रहता है। इस तेल से बालों के स्कैल्प की मसाज करने से बाल कुदरती तरीके से लंबे और घने होते हैं। वैसे अरंडी का तेल काफी गाढ़ा होता है, अगर इसके साथ बराबर मात्रा में नारियल तेल, जैतून का तेल और बादाम का तेल मिला लिया जाए तो यह और असरदार हो जाता है। सभी तेलों को मिलाकर 5 मिनट तक बालों के स्कैल्प की मसाज करें। चालीस मिनट बाद माइल्ड शैम्पू से बालों को धो लें। ऐसा नियमित करने से जल्द ही बालों की लंबाई में असर दिखने लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *