“बालों के झड़ने खालित्य शैंपू दाढ़ी बाल विकास तेल विकी”

बाल विकास की गोलियाँ: विभिन्न प्रकार के बालों के विकास की गोलियाँ रहे हैं आसानी से बालों के झड़ने की समस्याओं के लिए सबसे लोकप्रिय काउंटर क्योंकि वे मुख्य रूप से आर्थिक, सुविधाजनक और अत्यधिक प्रभावी रहे हैं।

अगर आप अपने बालों को मजबूत और चमकदार बनाना चाहते हैं तो आपको एलोवेरा का इस्तेमाल करना चाहिए। एलोवेरा जेल से सिर पर अच्छे से मालिश करनी चाहिए जब आप सप्ताह में दो बार एलोवेरा जेल से मालिश करते हैं तब आपके बाल झड़ना बंद हो जाते हैं। साथ ही इससे रूखे बालों को भी पोषण मिलता है।

बाल खूबसूरती का पैमाना होते हैं और कई मामलों में सेहत का भी। लेकिन, आजकल प्रदूषण की मार हमारे बालों को भी प्रभावित कर रही है। और ऊपर से हानिकारक कैमिकल युक्‍त उत्‍पादों का इस्‍तेमाल बालों पर और भी बुरा असर डालते हैं। नतीजा, समय से पहले ही बाल पककर सफेद होने लगते हैं। लेकिन, बालों को वक्‍त से पहले ही सफेद होने से बचाने के लिए कई घरेलू नुस्‍खे बहुत कारगर साबित होते हैं।

आमला के नाम से भारतीय में लोकप्रिय इस आयुर्वेदिक जड़ी को शरीर में अपच की हालत का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है । यह वास्तव में बाल गिरने को नियंत्रित करने में बहुत प्रभावी है। आज भी महिलाओं के बालों में हिना के साथ आंवला पाउडर इस्तेमाल करतीं हैं। इस प्राकृतिक उत्पाद में विटामिन सी भरपूर होता है।

3. ट्रैक्शन एलोपेसिया – यह लंबे समय तक एक ही ढंग से बाल के खिंचे रहने के कारण होता है। जैसे, कोई खास तरह से हेयरस्टाइल या चोटी रखना। लेकिन हेयरस्टाइल बदल देने यानी बाल के खिंचाव को खत्म कर देने के बाद इसमें बालों का झड़ना रुक जाता है।

आपको पता है लहसुन आपके बालों को झड़ने से कैसे रोक सकता है? आपको पता होना चाहिए कि इसका इस्तमाल कैसे होगा। लहसुन का रस निकाल कर इसे अपने शैम्पू में मिला लें। आप लहसुन के रस में शहद और अदरक मिला कर सीरम भी बना सकते हैं ताकि लहसुन का गंध चला जाए।

उन लोगों के मुताबिक, जीनोने किसी बड़े क्लिनिक में अपना इलाज करवाया है. यह पद्दति काफी कारगर साबित होती है। इसके परिणाम पहले सेशन के 3 से 6 महीने के अन्दर दिखना शुरू हो जाते हैं। इस पद्दति का प्रयोग कई ऐसे लोगों पर किया जा चुका है, जिनके बाल पूरी तरह झड़ने की कगार पर पहुँच चुके थे और पूरी तरह से होने वाले गंजेपन का भी इस पद्दति की मदद से सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है।

नई दिल्ली : जिन महिलाओं के बाल लगातार झड़ते हैं, उनमें गैर-कैंसर वाले ट्यूमर का खतरा बना रहता है। यह ट्यूमर गर्भाशय की दीवारों के भीतर होता है। सेंट्रल सेंट्रीफ्यूगल सिकेट्रिशियल एलोपेसिया (सीसीसीए) वाली महिलाओं में गर्भाशय के अंदर ट्यूमर का जोखिम पांच गुना अधिक होता है। एक नए शोध में यह पता चला है।

फोलिक एसिड (Folic Acid) – शरीर में फोलिक एसिड की कमी होने के कारण बाल झड़ने और समय से पहले सफ़ेद होने लगते है| शरीर में फोलिक एसिड का संतुलन बहुत जरुरी है, इसका संतुलन बिगड़ने के कारण भी बाल झड़ने लगते है| फोलिक एसिड की मात्रा आपको कितनी लेनी होगी, इसके लिए किसी डायटिशियन से सलाह ले| हरी सब्जियों, दाल और ब्रोक्ली जैसी चीजों का सेवन करने इसकी कमी को दूर किया जा सकता है|

I have done hair transplant in marmm klinik i fully satisfied with hair transplant treatment & i thankful to marmm klinik for providing me best result in less cost and specially thanks to Dr. Amit porwal.

2. एलोपेसिया एरीटा – इसमें सिर के अलग-अलग हिस्सों में जहां-तहां के बाल गिर जाते हैं, जिससे सिर पर गंजेपन का पैच लगा सा दिखता है। इसकी वजह अब तक अनजानी है, पर माना जाता है कि यह शरीर की रोगप्रतिरोधी शक्ति कम होने के कारण होता है।

किसी भी प्रकार की शारीरिक चोट जैसे सर्जरी, कार दुर्घटना, गंभीर बीमारी या फ़्लू के कारण भी बाल झड़ते हैं। यह एक प्रकार का टेलोजेन एफ्लुवियम (Telogen effluvium) है जिसमें सिर की त्वचा विश्रामावस्था (Telogen phase) में जल्दी चली जाती है अर्थात और बालों का बनना रोक देती है। अगर आप इस तरह की किसी परिस्थिति का शिकार हैं तो इससे आपके बालों के जीवन चक्र पर असर पड़ेगा। न्यूयॉर्क शहर के त्वचा विशेषज्ञ के अनुसार, किसी भी दुर्घटना के तुरंत बाद यह पता नहीं चलता। 3-6 महीनों के उपरांत आपको परिवर्तन देखने को मिलता है। लेकिन जैसे ही हार्मोन सामान्य हो जाते हैं बालों के झड़ने की समस्या भी ठीक हो जाती है। (और पढ़ें – ये आम गलतियाँ जो आपके बालों को करती हैं खराब)

Since androgenetic alopecia is a condition that gradually worsens over time, it is better to seek treatment earlier. If you are losing your hair due to genetic reasons, starting a treatment of Propecia or Minoxidil is the most effective when you start early. Because everyone loses hair in different timelines, you can not rely on statics to tell you when you should start treatment. Some men start to notice things in their early 20s while other will maintain thick hair well into their 50s. If you suspect that you start to loss and want to stop it you should act quickly.

चिकित्सकीय गुणों से भरपूर नींम पेस्ट स्काल्प के क्षारीय संतुलन को बहाल करने में मदद करता हैं और बालों को झड़ने से रोकता है। इसे और भी ज्यादा असरदार बनाने के लिए नीम पेस्ट में शहद और जैतून के तेल को भी मिला लें।

जब बात खासकर महिलाओं की हो रही हो तो घने बाल काफी खूबसूरत माने जाते हैं। पुराने ज़माने में शादियों के समय लड़के वाले लड़की के बाल की जाँच करते थे कि वे घने, काले तथा सुन्दर हैं या नहीं। अगर बाल सुन्दर हों तो लड़के के घरवाले भी लड़की का खुले दिल से स्वागत करते थे।

कई लोग बालों की झडने का शिकार गलत खाने की वजह से होते हैं। ऐसा नहीं है की वे पौष्टिक खाने पर खर्च नहीं कर सकते लेकिन आदतन वे जंक फ़ूड पर पैसे बर्बाद करते हैं बनिबस्त पौष्टिक आहार पर खर्च करने के । जंक फ़ूड , डब्बाबंद आहार, तैलीय खाना, वगैरह में पौष्टिक तत्वों की कमी होती है लेकिन कई लोग इन्हें बड़े मज़े से खाते हैं। नतीजा यह होता है कि आपके शरीर को सही मात्रा में आयरन, कैल्सियम , जिंक , विटामिन सी और प्रोटीन वगैरह नहीं मिल पाते। यह सब बालों के बढ़ने के लिए बहुत ज़रूरी होते हैं इसीलिए जहाँ तक हो सके ऐसे पोषण रहित आहार का बहिष्कार किजिये और हरी सब्जियां, फल, सूखे मेवे, दूध, अंडे खाइए जिससे कि आपके जीवन में पौष्टिक आहारों की कमी पूरी हो सके।

शरीर और त्वचा की देखभाल शरीर की देखभाल चेहरे की देखभाल आंख की देखभाल होठों की देखभाल मुंह की देखभाल हाथों की देखभाल पैरों की देखभाल शरीर और त्वचा का उपचार बालों की देखभाल बालों का तेल शैम्पू कंडीशनर मेंहदी बालों के रंग

7. मुलेठी की जड़: मुलेठी एक जड़ीबूटी है जो बालों का झड़ना तथा अन्य कोई नुकसान रोकती है। इसमें सुकून देने वाले गुण होते हैं जो रोमछिद्रों को खोलते हैं, खुजली दूर करते हैं और सिर को राहत देते हैं। डैंड्रफ से भी बाल झड़ते हैं और गंजापन आ जाता है, अतः इसे ठीक करने के लिए मुलेठी की जड़ का प्रयोग करें। मुलेठी की जड़ को दूध के साथ मिलाएं तथा सोते समय सिर के बाल रहित भागों पर अच्छे से लगाएं। इसे रातभर छोड़ दें और सुबह शैम्पू कर दें।

शिकाकाई- शिकाकाई के बीजों को कुचलकर, एक कटोरे में लेकर पानी में डुबो दिया जाए और सारी रात रख दिया जाए। सुबह इस पानी से बालों की धुलाई की जानी चाहिए। ये एक नेचुरल शैम्पू होता है। आदिवासी जानकारों के अनुसार इसका इस्तेमाल बालों को चमकदार और स्वस्थ बनाने के साथ, बालों का दोमुंहा होना बंद कर देता है।

छह से नौ महीने तक ऐक्रेलिक विग्स वे असली बालों से बने wigs की तुलना में आसानी से देख रहे हैं क्योंकि उन्हें स्टाइल की ज़रूरत नहीं है हालांकि, ऐक्रेलिक wigs खुजली और गर्म हो सकते हैं, और वास्तविक बाल से बने wigs की तुलना में अधिक बार प्रतिस्थापित करने की आवश्यकता है।

हर व्यक्ति घने काले बालो कि चाहत रखता है। कोई नहीं चाहता कि बालो का असमय झड़ना / Hair loss कि वजह से वह 25 साल कि उम्र में 40 साल का दिखाई दे। कम उम्र में सिर के बालो का गिरना या hair loss होना बहुत tension देने वाली problem है। 

आपको अपने आहार में सब्जिया, सलाद, अंकुरित अन्न, मौसमी फल, और High Protein Diet लेना चाहिए। आपको अनानास , आवला, गाजर, ओट्स (Oats), पालक, टमाटर, चना, प्याज, अदरक, राजमा और सोयाबीन का अधिक सेवन करना चाहिए।प्रोटीन से भरपूर चीजों का सेवन अधिक करें इससे हेयर फॉलिकल्स मजबूत होते हैं। बालो के बढ़ने और मजबूत होने के लिए Protein, Vitamin A, Vitamin B COMPLEX, Vitamin C, Vitamin E, और Iron कि विशेष आवश्यकता होती है, इसलिए आहार में ऐसे अन्न का समावेश होना जरुरी है जिनमे इन सभी आहार पदार्थो कि प्रचुर मात्रा हो।

इस अनचाही दुविधा से इलाज के लिए एक नवीनतम चिकित्सा क्रम तैयार कर लिया गया है। जो एक तकनीक है यह शरीर में कई विकारो से उत्पन्न होने वाले गंजापन, बाल गिरने, बाल झड़ने के खिलाफ उपचार प्रदान करता है और इसलिए इसे स्टेम सेल थेरेपी कहा जाता है।

नाक की पियर्सिंग बहुत सामान्‍य है और लोकप्रिय भी, अब अधिक सुरक्षित तकनीकों और आधुनिक सुरक्षा उपायों के चलते यह कम जोखिम भरा हो गया है, लेकिन वर्तमान में यह कितनी नुकसानदेह है, इसके बारे में इस लेख में पढ़ें।..

काबुली चने के आटा का शरीर के अनचाहे बालों को दूर करने और रोकने के लिए पारंपरिक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। इसे बनाने के लिए आधा कटोरी चने का आटा, आधा कटोरी दूध, एक चम्‍मच हल्‍दी और एक चम्‍मच क्रीम लेकर इसे मिक्‍स करके चेहरे पर लगाएं। आधा घंटा लगे रहने के बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें। image courtesy : gettyimages.in

महिलाओं के शरीर में जीवन के हर चरण में विशेष परिवर्तन होते रहते हैं। यही परिवर्तन उनके बालों के झड़ने का कारण होते हैं। लेकिन इस समस्‍या को सही करने के लिए, हमें सबसे पहले यह जानना होगा कि किन कारणों से महिलाओं के बाल ज्‍यादा झड़ते हैं। ताकि उनका सही तरीके से उपचार किया जा सकें।

आजकल की भागती-दौड़ती और जटिल होती जीवनशैली में किसी भी व्यक्ति के पास अपनी सेहत का ध्यान रखने का समय नहीं है. यही वजह है कि जहां पहले बालों का झड़ना एक उम्र पर निर्भर करता था लेकिन आज तो प्राय: हर वर्ग के लोग अपने अनमोल बालों को खोने के गम में परेशान रहते हैं.आपकी इसी समस्या को सुलझाने और आपको अपने प्रिय बालों से वापस मिलवाने के लिए आज बाजार में झड़ते बालों को रोकने और उन्हें अपने स्थान पर वापस लाने के लिए कितने ही शैंपू, तेल और अन्य सामग्रियां उपलब्ध हैं.

भारतीय अमला प्राकृतिक घटक है इसमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो बालों के रोम को मजबूत और बालों के जड़ों को मजबूत बनाता है। आप इसे खा सकते है और सिर पर लगा भी सकते हैं। एक चम्मच अमला और एक चम्मच नींबू का रस मिलाएं और सिर पर लगाएं। थोड़ा पानी के साथ बाल का मालिस करें। इसे रातभर छोड़ दें। सुबह में शैंपू लगाकर धो दें।

बाल उगाने के उपाय : आजकल बाल झड़ना और बाल टूटना एक गंभीर समस्या बनी हुई है जो धीरे धीरे गंजापन का रूप ले लेती है। कुछ साल पहले गंजापन समस्या उम्र दराज लोगो में ही देखने को मिलती थी पर अब नौजवानों में भी ये समस्या देखने को मिल रही है। बाल झड़ने से महिला और पुरुष दोनों ही परेशान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *