“बाल विकास चक्र भौं बालों को कम करने और विकारों को कम करने”

यह एक ऐसी स्थिति है जो केवल पुरुषों में होती है। यह 20 वर्ष की उम्र से बुढापे तक कभी भी उत्पन्न हो सकती है। पुरुष पैटर्न गंजेपन का सही कारण अभी तक ज्ञात नहीं है। सिर्फ इतना ज्ञात है कि यह आनुवंशिकी से तथा टेस्टोस्टेरोन स्तरों से भी जुड़ा है। निस्संदेह पुरुष गंजेपन का कोई न कोई आनुवंशिक घटक होता है – पहले ऐसा माना जाता था कि यह मुख्यतः माता के पक्ष से आनुवंशिक होता है किन्तु अब यह ज्ञात है कि गंजेपन के जीन या तो माता के या फिर पिता के पक्ष की आनुवंशिकता के फलस्वरूप प्राप्त होते हैं। यह भी ज्ञात है कि यह टेस्टोस्टेरोन से जुड़ा है चूँकि एंटी-टेस्टोस्टेरोन दवाएं गंजेपन के लौट आने का कारण होती हैं। किन्तु यह कितने सटीक ढंग से इससे जुड़ा है, यह ज्ञात नहीं है, चूँकि उनके बीच टेस्टोस्टेरोन स्तरों में कोई ज्ञात अंतर नहीं है, जो गंजे हो रहे हैं या जो नहीं हो रहे हैं।

1 चम्मच सरसों के पाउडर को २ चम्मच जैतून के तेल, 1 अंडे और पानी की कुछ बूंदों के साथ मिलाएं। इन्हें अच्छे से मिलाएं तथा बालों पर पूरी तरह लगाएं। इस समय सिर की त्वचा पर ज़्यादा ध्यान दें। एक शावर कैप लगाएं तथा इसे 20 से 30 मिनट के लिए छोड़ दें। बाद में अपने बालों को एक सौम्य शैम्पू से धो लें। सरसों रक्त के संचार में वृद्धि करता है और इस तरह बालों की बढ़त में भी सहायता करता है।

कई आधुनिक शोधों से यह बात सामने आई है कि टेस्टोस्टेरॉन और गंजेपन में संबंध होता है। गंजे पुरुषों में सामान्यत: टेस्टोस्टेरॉन का स्तर अधिक होता है। हालांकि महिलाओं में भी टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन पाया जाता है, लेकिन उनमें इसका स्तर कम होता है, इसलिये उनमें गंजेपन की समस्या भी पुरुषों के मुकाबले कम होती है।

——तनाव कम कर, उचित आहार लेकर, बाल संवारने की उचित तकनीक अपनाकर और यदि संभव हो तो बालों को झड़ने से रोकनेवाली दवाइयों का उपयोग कर बालों के झड़ने की समस्या को रोका जा सकता है। फफूंद संक्रमण की वजह से बालों को झड़ने की समस्या को बालों की सफाई पर ध्यान देकर, दूसरों के ब्रश, कंघी, टोपी आदि का उपयोग न कर बचा जा सकता है। दवाइयों की सहायता से वंशानुगत गंजेपन के कुछ मामलों को रोका जा सकता है।

हमारे सिर पर लाखों की संख्या में बाल होते है और हर रोज 50 से 100 बाल गिरना नार्मल होता है। मौसम या फिर जगह में बदलाव के कारण कई बार ज्यादा बाल झड़ते है पर अगर आपको बालों का झड़ना सामान्य नहीं लग रहा तो इसके अन्य कारण भी हो सकते है।

दालचीनी और शहद को एक साथ मिलाकर बालों में लगाइए। यह बलों को झड़ने से रोकने में शक्षम है. इसके अलावा गरम जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर उनका पेस्ट बनाइए। नहाने से पहले इस पेस्ट को सिर पर लगाइए और कुछ समय बाद सिर को धो लीजिए। कुछ महीने ऐसा करने से झड़ते बलों को कम किया जा सकता है।

दवाओं का लगातार सेवन करने के कारण भी हेयर फॉल अधिक होता है। जैसे की दर्दनाशक या तनाव कम करने वाली दवा। अगर आपको कोई दवा लेने के बाद अधिक बाल झड़ने जैसे समस्या हो रही है, तो अपने डॉक्टर  को इसकी जानकारी जरूर दे।

नाक की पियर्सिंग बहुत सामान्‍य है और लोकप्रिय भी, अब अधिक सुरक्षित तकनीकों और आधुनिक सुरक्षा उपायों के चलते यह कम जोखिम भरा हो गया है, लेकिन वर्तमान में यह कितनी नुकसानदेह है, इसके बारे में इस लेख में पढ़ें।..

तेल से मालिश करना हमारे शरीर के लिए के लिये बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन काफी तेजी से बढ़ता है. वही अगर यह मालिश सिर में बालों में की जाये तो यह सोंने में सुहागा है. अगर आपके बाल निरन्तर झड़ रहे है तो आप सरसों के तेल को हल्का गरम करके सिर की मालिश करे.

बालों का झड़ना काफी बड़ी समस्या है और बाज़ार के बेहतरीन उत्पाद भी इस मामले में आपकी ज़्यादा मदद नहीं कर सकते। आपको रोज़ ही कंघी करते वक़्त  उसमें कुछ बाल दिख ही जाते हैं। इस समस्या का लोगों के मन पर काफी प्रभाव पड़ता है। एक बार बाल तेज़ी से झड़ने पर आप इससे बचने के उपाय खोजते हैं और इस प्रक्रिया में आप घरेलू नुस्खों का प्रयोग शुरू कर देते हैं।

चीनी मृत त्‍वचा को हटाकर अनचाहे बालों को जड़ से निकाल देती है। इसके लिए अपने चेहरे को पानी से गीला करके, उस पर चीनी लगा कर रगडिये। ऐसा हफ्ते में कम से कम दो बार जरुर करें। image courtesy : gettyimages.in

आजकल की भागती-दौड़ती और जटिल होती जीवनशैली में किसी भी व्यक्ति के पास अपनी सेहत का ध्यान रखने का समय नहीं है. यही वजह है कि जहां पहले बालों का झड़ना एक उम्र पर निर्भर करता था लेकिन आज तो प्राय: हर वर्ग के लोग अपने अनमोल बालों को खोने के गम में परेशान रहते हैं.आपकी इसी समस्या को सुलझाने और आपको अपने प्रिय बालों से वापस मिलवाने के लिए आज बाजार में झड़ते बालों को रोकने और उन्हें अपने स्थान पर वापस लाने के लिए कितने ही शैंपू, तेल और अन्य सामग्रियां उपलब्ध हैं.

गीले बालो (Wet hair) को कपडे सेआराम से सुखाए। गीले बालो में कंगी न करे। गीले बाल नाजुक होते है और आसानी से टूट या गिर सकते है। कंगी करने के लिए मोटे दातो वाला कंगा इस्तेमाल करे। बाल सुखाने के बाद बालो कि अच्छे से मसाज करे। नारियल तेल से मसाज करने से बालो कि जड़ो तक Blood circulation बढ़ता है और बाल बढ़ते और मजबूत होते है।

Men’s Rogaine Extra solution is the liquid version of our top pick. It did not make our final cut because it incorporates propylene glycol. , which causes sensitivity in roughly one-third of its users, With that aid, Dr. Wolfiedld finds that it can be even more efficient in practical daily use. In his experience. The solution can penetrate and get into your scalp a little bit better ” than the foam – especially if you are not taking the time and effort to apply the foam accurately. This seems odd to us since the foam quickly dissolves into a liquid during the test, however, if you are worried, try a one- month supply of the liquid an make the shift to foam if you notice any irritation.

कई यौगिक हैं जो आपके बालों के रोमियों द्वारा अपने बाल की मोटाई बढ़ाने के लिए आवश्यक हैं, लेकिन आपके बालों की वजह से बालों के झड़ने या ऐसे आवश्यक संयुक्कों की कमी के चलते बाल गिरने लग सकते हैं। कई पुरुष आमतौर पर सर्जरी या बाल प्रत्यारोपण सहित तरीकों का चयन करते हैं, लेकिन ये विकल्प होते हैं जो उन्हें अल्पकालिक लाभ प्रदान कर सकते हैं लेकिन लंबे समय तक चलने के लिए नहीं।

यहाँ पर दी गयी कोई भी जानकारी केवल Educational Purpose के लिये है | यहाँ पर दी गयी जानकारी को किसी भी तरह से प्रमाणित नहीं किया गया है, इसलिए आपसे अनुरोध है कि यहाँ दी टिप्स या सलाह को इस्तेमाल करने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें |

शोध के अनुसार जो औरते अपने जीवन में अधिक तनाव में रहती है, या जिनको समय समय पर मानसिक परेशानियों जैसे पति की मृत्य या किसी अपने को खोना, तलाक हो जाना, या किसी कार्य में लगातार असफल होना, आदि से गुजरना पड़ता है, उन महिलाओं के बाल झड़ने लगते है| ऐसी महिलाये बहुत आसानी से मिडलाइन हेयर लॉस का शिकार हो जाती है|

महिलाओ में विशेष कर हेयर फाल का प्रमुख कारण Hypothyroidism ही है। अगर आप Dandruff कि समस्या से परेशान है तो डॉक्टर से इसका इलाज करवाए। आप Dandruff से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार Ketoconazole युक्त shampoo का उपयोग हफ्ते में दो बार कर सकते है।

यह एक भारतीय मसाला है जो मेथी के नाम से जाना जाता है । यह प्रोटीन का एक समृद्ध श्रोत है और इसलिए बालों के विकास के लिए महत्वपूर्ण श्रोत का काम करता है । यह बालों को चमक और मजबूती देने में मदद करता है और रुसी के उपचार में भी कारगर होता है । एक कप मेथी के बीज को पानी में रात भर भिंगो कर छोड़ दें । इससे एक मिश्रण बना लें । बालों को तेल से मालिश करें और फिर मिश्रण से बालों पर एक मास्क बना दें । एक घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर शैम्पू से इसे धो लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *