“बाल विकास प्रगति ब्लॉग एस्ट्रोजेन से बालों के झड़ने”

अगर आप भी अपने मन में लम्बे और सुन्दर बाल पाने की इच्छा रखती हैं तो आपको अपने बालों की अच्छे तरीके से देखभाल भी करनी पड़ेगी। इसके लिए आपको अपने खानपान की आदतों से लेकर बालों पर ध्यान देने के तरीकों पर भी नज़र डालनी होगी। बाल लम्बे कैसे करे, नीचे लम्बे तथा मज़बूत बाल पाने के कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में बताया गया है।

सिर में नए बाल फिर से उगाने के लिए -New hair to grow again in the head -सिर में नए बाल उगाने के लिए आसान घरेलू उपाय-Simple home remedy for growing new hair in the head-नये बाल कैसे उगाए-बाल उगाने के घरेलू उपाय-बाल उगाने की दवा-बाल उगाने का घरेलु उपाय-बालों को घना-गंजे सिर पर बाल-गंजेपन की दवा-गंजेपन का घरेलू उपचार-बाल वृद्धि के आयुर्वेदिक घरेलू उपचार

मिनॉक्सीडिल लोशन चार महिलाओं में एक के आसपास बाल विकसित कर सकता है जो इसका इस्तेमाल करते हैं, और यह धीमा या अन्य महिलाओं में बालों के झड़ने को रोक सकता है। सामान्य तौर पर, पुरुषों की तुलना में महिलाएं मिनिएक्सिडील से बेहतर प्रतिक्रिया देती हैं पुरुषों के रूप में, आपको किसी भी प्रभाव को देखने के लिए कई महीनों तक मिनॉसिडिल का उपयोग करना होगा।

बच्चे के जन्म – बाल जन्म नुकसान हो सकता है बाल महिला परिणाम में अचानक. यह आम है कई महिलाओं को गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने की सूचना के लिए – 3 महीने के बाद वे एक बच्चा मिला है. यह भी, हार्मोन के कारण होता है. लेकिन यह चिंता की बात नहीं है. गर्भावस्था के दौरान, सामान्य बालों के चक्र के दौरान छप्पर बाल हार्मोन का उच्च स्तर की में मंद है. एक बार हार्मोन पूर्व गर्भावस्था के स्तर को लौट आए हैं, यह अतिरिक्त बाल बाल विकास और नुकसान की सामान्य चक्र समय के साथ लौटने के साथ बहा रहा है.

निवेदन- आपको How To Control Hair Loss In Hindi / Balo ko Jhadne Se Kaise Roke ये आर्टिकल कैसा लगा हमे अपने कमेन्ट के माध्यम से जरूर बताये क्योंकि आपका एक Comment हमें और बेहतर लिखने के लिए प्रोत्साहित करेगा.

Pregnancy के बाद देखा जाता है कि कई महिलाओ में अधिक हेयर फालहोता है। इसकी खास वजह है आयरन , कैल्शियम, प्रोटीन कि कमी। Pregnancy के दौरान, Breast feeding करते समय और उसके 3 महीने बाद तक  आयरन , कैल्शियम, प्रोटीन प्रचुर मात्रा में लेना चाहिए। Typhoid के संक्रमण के बाद भी अधिक हेयर लोस  होता है। इसमें भी संतुलित आहार और पोषण जरुरी है।

अश्‍वगंधा सीधा बालों की जड़ों पर काम करता है और उन्‍हें मजबूत बनाता है। अश्‍वगंधा में कुछ जड़ी-बूटियां मिलकार उसमें नारियल तेल डालकर लगा सकते हैं। इससे बालों के झड़ने की समस्‍या दूर होती है। अश्‍वगंधा बालों की जड़ों को मजबूत कर बालों में मेलानिन की मात्रा को बढ़ाने मे मदद करता है। इससे बालों की पकड़ मजबूत होती है।

प्रक्रिया त्वचा के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की आपूर्ति है, जिससे शरीर के कचरे को नष्ट करने, झुर्रियों को कम करने और रक्त परिसंचरण बढ़ रही है. यहां दिए गए हैं आपकी त्वचा exfoliating के लिए कुछ सरल घरेलू उपचार. आगे बढ़ो और एक ताजा, युवा और स्वस्थ त्वचा को देख पाने के लिए नियमित रूप से छूटना.

बिल्कुल खास तरह के आयुर्वेदिक उपचारों की मदद से आप अपने बालों को शानदार और लंबे बना सकते हैं। छोटे बालों वाली महिलाएँ अपने लंबे बालों की ख्वाहिश अच्छे देखभाल की कमी की वजह से पूरा नहीं कर पातीं। बालों के बढ़ने के लिए आयुर्वेदिक उपचार हमेशा से मौजूद थे लेकिन उन्हें अपनाया नहीं गया। लेकिन आज इनके इस्तेमाल से ज्यादा से ज्यादा लोग फायदा उठा रहे हैं। आइए कुछ आयुर्वेदिक सुझावों की तरफ ध्यान देते हैं। बाल लम्बे कैसे करे :-

Strip transplant surgery also has a long recovery time, especially compared to FUE. FUE leaves some initial bleeding, but usually recovery is complete within 7 days. However, with strip harvesting, as a part of the scalp is removed, it can take weeks for the scars to heal over.

एक और बात कि महंगे उपचारों को अपनाने से पहले यदि आप घरेलू नुस्खों को आजमा लें तो यह ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि देखा जाता है, कि कई बार बहुत से लोगों पर यह घरेलू नुस्खे बहुत अच्छे से काम करते हैं। साथ ही आप एक बार डॉक्टर से चेक अप करा कर बाल झड़ने के कारणों का भी पता कर लें।  

किसी के लिए भी बालों का झड़ना, चिंता का विषय है। प्रदूषण, सफाई न रहना या अस्‍वास्‍थ्‍यकर आदतों के कारण बालों का टूटना, झड़ना, रूखा – सूखा होना आदि समस्‍याएं दिनों – दिन बढ़ती जा रही है। अगर आपको अपने बाल मजबूत, चमकदार और स्‍वस्‍थ बनाने है तो उनकी केयर करने की आवश्‍यकता है।

करौंदे के बीज (cranberry seeds) बालों की देखभाल में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। करौंदे के बीज (cranberry seeds) के तेल को उँगलियों पर लेकर सिर पर अच्छे से मालिश करें। यह बालों को पोषण दें कर इसे सूखेपन से मुक्त करने का एक काफी प्रभावी तरीका है। इस तेल को गर्म करके भी इसका फायदा उठाया जा सकता हैं।

तेल से मालिश करना हमारे शरीर के लिए के लिये बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन काफी तेजी से बढ़ता है. वही अगर यह मालिश सिर में बालों में की जाये तो यह सोंने में सुहागा है. अगर आपके बाल निरन्तर झड़ रहे है तो आप सरसों के तेल को हल्का गरम करके सिर की मालिश करे.

पानी पीने से से न केवल आपकी प्यास बुझती है बल्कि आप हाइड्रेटेड भी रहते हैं। लेकिन इसके अलावा यह शरीर के विभिन्न कार्यों में भी सहायता करता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह बालों के लिए बहुत अच्छा है। हर दिन कम से कम 10 गिलास पानी पिएं। 

50-100 कि बाल बाल thinning के बिना महिलाओं दैनिक खो से अधिक – जिन महिलाओं को महिला पैटर्न गंजापन, या androgenetic खालित्य है, के बारे में 150 बाल एक दिन खो देते हैं। और दुर्भाग्य से, एक बार उन बालों को खो रहे हैं, यह एक लंबे समय के लिए उन्हें वापस जाना है, इसलिए हो रही है बालों के झड़ने उपचार जल्दी सबसे अच्छी रणनीति है लेता है।

English: Treat Male Pattern Hair Loss, Español: tratar la pérdida de cabello en hombres, Italiano: Intervenire contro la Calvizie Maschile, Русский: бороться с облысением по мужскому типу, Português: Tratar a Calvície Masculina, Deutsch: Männer, so könnt ihr etwas gegen Haarausfall tun, Français: guérir la perte de cheveux chez les hommes, Čeština: Jak léčit mužskou plešatost, Nederlands: Haaruitval bij mannen behandelen, Bahasa Indonesia: Mengatasi Kebotakan Pada Pria, العربية: علاج الصلع عند الرجال, Tiếng Việt: Điều trị hói đầu ở đàn ông, 한국어: 남성형 탈모를 치료하는 법, 中文: 治疗男性型脱发

खोपड़ी के संक्रमण और रूसी के कारण बालों का झड़ना हो सकता हैं। नीम में महान जीवाणुरोधी गुण हैं जो बालों के झड़ने को कम करने में मदद कर सकते हैं। इस शक्तिशाली प्राकृतिक विकल्प के लिए रासायनिक तरीके से बालों के बाहरी हिस्से धोएं। नीम के चार पत्तों का एक कप पानी के साथ उबाल लें, इस मिश्रण को ठंडा करें, इस पानी के बाद शैम्पू के साथ अपने बाल धुलें। पुरुषों और महिलाओं के लिए यह बालों के झड़ने का इलाज है जो आपकी सिर को हल्का बना देगा और बालों को झड़ने से रोकेगा। आप नीम के तेल के साथ आयुर्वेदिक तरीके से सिर की मालिश भी कर सकते हैं।

डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा, “फाइब्रॉएड का उपचार लक्षणों, आकार, उम्र और रोगी के सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। यदि कोई कैंसर पाया जाता है, तो यह रक्तस्राव अक्सर हार्मोनल दवाओं द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है।”

Humidity is a very great factor which ruins our scalp, so it is advisable for everyone to keep your scalp oil balance by regular shampoo and keep your hair dry after the shampooing. Always style your hair when it gets completely dry. As the wet hair takes more time in this season to get completely dry it is good to use a blow dryer to dry your hairs. Before blowing, dry your hair you can also use serum on the length of your hair so that it will not become frizzy after drying. Always choose a mild shampoo according to your hair type and use the shampoo which has low amount of sodium laurel sulphate. It is highly recommended for the people having dandruff to solve this problem soon before you can get a fungal infection with it.

Ayurvedic Herbs for Hair Fall and Growth Ayurveda is the science of life. It is one of the oldest medicinal systems and is believed to have been passed on by God himself. Ayurveda focuses on the correct balance between mind, body and soul. For treatment, Ayurveda holds the knowledge of using natural herbs and their extracts. This healthcare system offers a wide range of herbs with built-in medicinal properties…………

हमारा यकीन मानिये कि अगर आपके बाल तेजी से झड़ रहे हैं तो आपको महंगे हेयर प्रोडक्‍ट लगाने की जरुरत नहीं है क्‍योकि आपके घर पर ही ऐसी चीज़ें मौजूद हैं जो आयुर्वेद के अनुसार आपका गंजापन तुरंत ही दूर कर सकता है। आज कल महिलाओं के बीच में आयुर्वेदिक प्रोडक्‍ट काफी लोकप्रिय बन रहे हैं तो ऐसे में हमने सोंचा कि क्‍यों ना आपको उन आयुर्वेदिक चीजों के बारे में बताएं, जिससे बालों की खूबसूरती बढेगी और गंजे लोंगो की खोपड़ी पर बाल उगाने के काम आएगा। तो आप भी आजमाए ये आयुर्वेदिक उपचार…

बालों के गिरने की एक अहम् वजह तनाव भी है। तनाव से कई और बीमारियाँ भी पैदा होती हैं, इसीलिए इन बीमारियों से बचने के लिए, और बालों को गिरने से बचाने के लिए तनाव से दूर रहिये। हालांकि ऐसा कहना बहुत आसान होता है, लेकिन अगर आप पूरी तरह स तनाव से छुटकारा नहीं पा सकते तो इसे कम तो कर सकते हैं। और तनाव कम करने के लिए आपको अपनी सोच को बदलना होगा, और योग, मेडीटेशन, वगैरह जैसे उपायों से इसे कम कर सकते हैं।

बालों को झड़ने से बचाने के लिए बनी हुई चाय का प्रयोग करें। चाय लें और उसमें 1 नींबू निचोड़कर डालें। इसे अच्छे से मिलाएं तथा शैम्पू के बाद इस मिश्रण को अपने बालों में लगाएं। अब बालों को ताज़े पानी से धो लें। शैम्पू को चाय से धोने के बाद प्रयोग ना करें।

यदि पुरे में दिन में ५० से १५० के बिच बाल झड़ते हैं तो यह आम समस्या हैं लेकिन यदि १५० से अधिक बाल झड़ते हैं तो यह एक घम्भीर समस्या हैं | यदि आप रोज भी इसको मापना चाहे तो नहीं माप पाएंगे | लेकिन यदि आप हेयर ब्रश को चेक करे तो आपको पता लग जायेगा की कितने बाल आपके झड़ते हैं |

अगर आपके परिवार में कोई भी एलोपेसिया का शिकार हुआ है तो आपके बाल झड़ने की संभावना इससे बढ़ जाती है महिलाओं में हम एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया नहीं देख पाते जिससे कि पूर्ण गंजापन होता है, परन्तु आप उनके बाल पतले होते महसूस कर सकते हैं।

कपूर के तेल को बालों की जड़ों में लगाएं और 15 से 20 मिनट तक सिर की हल्की मसाज करें। फिर पांच मिनट तक छोड़ दें। इसके बाद आप बालों पर स्टीम दें या फिर गुनगुने पानी में तौलिया भिगोकर बांलों पर पांच मिनट के लिए बांधें और बालों पर शैंपू करें।

एलो वेरा शरीर की लिए बहुत ही ज्यादा लाभकारी होता है क्योंकि इसमें ७५ विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो हमारे शरीर के छिद्रों को साफ करने में तथा पि.एच संतुलन को बनाये रखने में मदद करते हैं । यह बालों के झड़ने के उपचार के लिए उत्कृष्ट होता है और इसमें कुछ ऐसे एंजाइम होते हैं जो खोपड़ी से मृत त्वचा को साफ करते हैं ।

खोपड़ी में कमी में मुकुट से गंजे खोपड़ी के टुकड़े को निकालने और सिर के ऊपर सिर के बालों वाले हिस्सों को एक साथ मिलकर निकालना शामिल होता है। यह ढीली त्वचा काटकर और खोपड़ी को वापस एक साथ सिलाई करके किया जा सकता है, या यह ऊतक विस्तार द्वारा किया जा सकता है।

कच्‍चे पपीते में पैपेन नामक सक्रिय एंजाइम होता है जो बालों के कूप को निष्‍पक्ष करने और बालों के विकास को सीमित करने में सक्षम होता है। पपीता संवेदनशील त्वचा के लिए अपेक्षाकृत अधिक उपयुक्त होता है। इसके पैक को बनाने के लिए दो बड़े चम्‍मच पपीते का पेस्ट और आधा चम्मच हल्दी पाउडर लेकर पेस्‍ट बना लें। 15 मिनट के लिए इस पेस्ट से अपने चेहरे पर मसाज करें और पानी से धो लें। बेहतर परिणाम के लिए इसे एक सप्ताह में दो बार करने की कोशिश करें। image courtesy : gettyimages.in

7 पीला ततैया खाली घोंसला 25 ग्राम और गुड़हल (हिबिस्कुस रोजा साइनेसिस) के 10-15 पत्ते लें। आधा लीटर नारियल तेल में इनको मिलाएं और एक धीमी आंच पर उबालें। जब पीला ततैया घोंसला काले रंग के हो जाते हैं तो मिश्रण नीचे उतार लें। ठंडा होने पर इसे फिल्टर करके एक छोटी बोतल में जमा करें। गंजापन का इलाज करने के लिए सिर पर इस तेल से रोज़ मालिश करें। इससे सिर पर फिर से बालों को उगने में मदद मिलेगी।

—-कुछ लोग बालों में बार-बार कंधी करते हैं,ये सोचकर कि इससे बाल लंबे होंगे या फिर बाल सुलझें रहेंगे लेकिन आपको बता दें इससे भी कई बार बाल झड़ते है। आपको बालों को दिन में कम से कम 2-3 बार कंधी करें, इससे आपके बाल कम से कम उलझेंगे और बाल कम टूटेंगे। यानी बाल सुलझे भी रहेंगे और बालों के टूटने का डर भी खत्म।

2. बालों की सेहत के लिए शहद का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद है. आधे कप प्याज के रस में दो से चार चम्मच शहद मिलाकर उसे अच्छी तरह फेंट लें. इस पेस्ट को बालों की जड़ों में लगाएं. इससे बालों की ग्रोथ तो अच्छी होगी ही साथ ही उन्हें आवश्यक पोषण भी मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *