“बाल विकास विटामिन याहू |भौहें और आंखों पर बालों के झड़ने”

बालों के झड़ने का मुख्य कारण शारीरिक गतिविधियों की कमी है। अगर आप किसी भी रूप में कसरत या व्या याम नहीं करते तो आपके अन्दर रक्तसंचार कमज़ोर पड़ जाता है जिसकी वजह से उन छिद्रों को, जहाँ से बाल उगते हैं, ज़रुरत के हिसाब से पोषक तत्त्व नहीं मिल पाते क्योंकि सही रक्तसंचार ना होने की वजह से खून सही मात्रा में सिर तक नहीं पहुँचता और नतीजन बालों की जड़ें कमज़ोर हो जाती हैं और बाल गिरने लगते हैं। बालों को गिरने से रोकने के लिए रोजाना कम से कम पैंतालीस मिनिट तक कसरत करनी चाहिए। अगर आप कोई शोर्टकट या सरल रास्ता अपनाएंगे तो आपको फायदा होने से रहा। गोलियां और दवाइयां कुछ हद तक आपको राहत दिला सकते हैं, लेकिन कसरत की कमी से आपके बाल दोबारा झड़ना शुरू हो जायेंगे।

चिकित्सकीय गुणों से भरपूर नींम पेस्ट स्काल्प के क्षारीय संतुलन को बहाल करने में मदद करता हैं और बालों को झड़ने से रोकता है। इसे और भी ज्यादा असरदार बनाने के लिए नीम पेस्ट में शहद और जैतून के तेल को भी मिला लें।

तंत्र विद्या और बालों के उगने में बहुत महत्वपूर्ण संबंध है. हमारी मान्यता है कि जीवन के हर क्षेत्र में मंत्रोच्चारण बहुत प्रभावकारी सिद्ध होता है. ऐसा ही बालों के गिरने और उगने के साथ भी है. तंत्र शास्त्र के अतंर्गत कुछ ऐसे टोटके भी हैं जिनसे आप अपने झड़ते हुए बालों को रोक सकते हैं. इसके अलावा पहले से ज्यादा घने और मुलायम बालों के स्वामी भी बन सकते हैं.

 लंबी बीमारी, बड़ी शल्य क्रिया अथवा गंभीर संक्रमण जैसे बड़े शारीरिक तनाव से दो या तीन महीने के बाद बालों का झड़ना एक सामान्य प्रक्रिया है। हार्मोन स्तर में आकस्मिक बदलाव के बाद भी यह हो सकता है, विशेषकर स्त्रियों में शिशु को जन्म देने के बाद यह हो सकता है। साधारण तरीके से बाल झड़ते रहते हैं किन्तु गंजापन दिखाई नहीं देता है।

उसकी बेल्ट के अंतर्गत रोगियों के हजारों की सफलता के साथ और प्रसारण मीडिया अनुभव के घंटे के सैकड़ों लॉग, डा. Bauman विशेषज्ञ चिकित्सा कमेंटरी के एक उत्कृष्ट स्रोत है, उच्च आदर्श है और प्रिंट, रेडियो और प्रसारण मीडिया की जरूरतों और मांगों को समझता है .

अवरोधित धमनियां (Clogged arteries) पुरुषों के बालों के झड़ने का कारण बन सकती हैं। वास्तव में इसके कारण पुरुषों में पैर के बालों के झड़ने की भी समस्या होती है। द आर्काइव्ज ऑफ़ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित 2000 के अध्ययन में पाया गया की पुरुषों में गंजेपन और कोरोनरी हृदय रोग दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। अपने बहुमूल्य बालों की रक्षा करने के लिए अपने दिल की देखभाल करना भी महत्वपूर्ण है। अपने हृदय की समय समय पर जांच कराते रहिये। साथ ही धूम्रपान और मदिरा के सेवन से बचें। रोजाना व्यायाम करें और अपने दिल की हालत में सुधार करने के लिए अपने शरीर से वसा कम करें। (और पढ़ें – क्षतिग्रस्त बालों (Damaged Hair) के लिए आसान सा घरेलू उपचार)

ब्रेट के अनुसार, ‘’इस उपचार की खासित है इस दवा का को साइड इफेक्ट नहीं है। इसी कारण हम इसे दूसरे मरीजों पर भी आजमाने का प्रयास करेंगे।’’ उन्होंने इस दवा की मदद से गंजेपन के उपचार के लिए क्रीम बनाने की भी सिफारिश की है।

The material in this site is intended to be of general informational use and is not intended to constitute medical advice, probable diagnosis, or recommended treatments. See the Terms of Use and Privacy Policy for more information. Submit an article

Si la línea del cabello sólo ha retrocedido un poco, hay otro procedimiento que usted puede considerar. Reducción del cuero cabelludo se corta la parte calva y cose la frente y el resto del cuero cabelludo de nuevo juntos. Es una buena opción para los hombres cuyos rayitas han disminuido ligeramente, cuando se lleva a cabo por un cirujano experimentado.

वह दिन लद गए जब पुरुषों के शरीर के बाल को पसंद किया जाता था लेकिन आधुनिक विज्ञापन और फिल्मों की दुनिया अब युवाओं को शरीर से बाल हटाने के लिए के प्रेरित कर रहा है। इसलिए देखा गया है कि जो काम कुछ साल पहले महिलाएं किया करती थी वह काम आज पुरुष भी कर रहे हैं। आज बाजार ऐसे कई सारे उपकरण मौजूद है जिसके जरिए छाती, पीठ, हाथ और पैरों के बाल हटाए जा सकते हैं।

बाल विकास के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार मे हम आमला, शिकाकाई, रीठा, भृंगराज, मंजिष्ठा, रक्त चंदन, जटामांसी और नीम  जैसे कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का प्रयोग कर सकते हैं।  ये आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां आसानी से घर में उपलब्ध होती हैं। और बाल विकास के लिए अति उपयोगी हैं। ये प्राकृतिक जड़ी बूटियों गैर विषाक्त प्रकृति की हैं।

➤  अगर आपके बाल ज्यादा और हर जगह से झड़ चुके है तो प्याज के रस को निकालकर उसे अपने सिर में अच्छी तरह से लगाये, करीब 30 मिनट के बाद धो ले। इस प्रक्रिया को नियमित रूप से रोज महीना दो महीना तक करे, नये और काले बाल उगने लगेंगे।

आंवले को छोटे छोटे टुकड़ों में काटें तथा इसे उबलते हुए नारियल के तेल में डालें। इस घोल को छानें तथा इसे एक एयर टाईट डिब्बे में रखें। नहाने से पहले इस मिश्रण से सिर की त्वचा की मालिश करें। इसे 15 मिनिट तक लगा रहने दें तथा बाद में सिर को शैंपू से धो डालें।

आजकल हमारी जीवनशैली इस प्रकार बदल चुकी है कि हमें अपने स्वास्थ्य की परवाह ही नहीं होती है जिसका Result यह होता है कि हमें कई छोटी – छोटी स्वास्थ्य समस्याओ का सामना करना पड़ता है. इन्ही समस्याओ में से एक है- पाचन तंत्र (हाजमे) का ठीक न होना.

८. जपाकुसुम के पौधे या फूल (hibiscus for hair regrowth): जपाकुसुम के फूल तथा पौधों में प्राकृतिक गुण होते हैं बालों का झड़ना रोकते हैं तथा बाल बढ़ाते भी हैं। जपाकुसुम के फूल दोमुंहे बालों तथा डैंड्रफ को भी ठीक करता है और बालों को घना करता है। नारियल के तेल में जपाकुसुम के फूल को गर्म करें और इसे निचोड़कर तेल को निकालें। जपाकुसुम की पत्तियों को प्रयोग करने के लिए पानी में इन पत्तियों को उबालें। अब पत्तियों को पानी से निकालें तथा इनका एक महीन पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को अपने सिर पर लगाएं तथा ३० मिनट तक छोड़ दें। अब बालों को ठन्डे पानी से धो लें। इससे बाल रेशमी होते हैं तथा डैंड्रफ से मुक्ति मिलती है। ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *