“बाल regrowth शैम्पू यह काम करता है -बाल विकास तेजी से बालों के झड़ने”

हमेशा जोश और जुनून से सराबोर रहने वाली युवा पीढ़ी देश की सबसे बड़ी पूंजी होती है| लेकिन अाज हमारी युवा पीढ़ी कई बीमारियों का शिकार हो रही है | जिसका कारण भी उन्हें नही पता चलता और समय के साथ वो बढ़ जाती है |

कार्न फ्लोर का स्‍क्रब बनाकर लगाने से अनचाहे बालों से छुटकारा मिल जाता है। इसे बनाने के लिए एक कटोरे में 1 अंडे का सफेद भाग, थोड़ी सी चीनी और कार्न फ्लोर को मिलाकर स्‍क्रब बना लें। फिर इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगाकर 15 मिनट मसाज करें। फिर सूखने के लिए छोड़ दें, और सूखने के बाद पानी से धो लीजिये। ऐसा हफ्ते में तीन बार करें। image courtesy : gettyimages.in

गुड़हल में विटामिन सी, फॉस्फोरस और राइबोफ्लेविन जैसे ज़रूरतमंद पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बालों को चमकदार और मजबूत बनाने में मदद करते हैं। गुड़हल का फूल परिसंचरण को बढ़ाता है जिससे बालों को झड़ने से रोकने में मदद मिलती है। 

पुरुष पैटर्न गंजापन अधिकांश मामलों में, लगभग 90% में देखने को मिलता है। मुख्यतः दो प्रकार के मरीज़ होते हैं, पहले प्रकार में 20 वर्ष से कम उम्र वाले युवा जिनमें गंजेपन का उच्च स्तर विकसित हो चुका है तथा दूसरे में 40 वर्ष से कम उम्र के वे व्यक्ति हैं जो अपनी उम्र के अनुसार औसत बालों से अधिक खो चुके होते हैं।

उम्र बढ़ने के साथ साथ ही हमारे बाल भी सफ़ेद होने लगते हैं, पर इस प्रक्रिया को धीमा करने में तिल के बीज (sesame seeds) काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 1 महीने तक रोज़ 1 चम्मच तिल के बीजों का सेवन करें और फर्क देखें। इसके अलावा इन्हें बालों के pack में भी डाल सकते हैं, या फिर इससे अलग से बालों का pack भी बना सकते हैं।

बहेडा – इसके बीजों के चूर्ण को नारियल या जैतून के तेल में मिलाकर गुनगुना गर्म किया जाए और इस तेल को बालों पर लगाया जाए तो बाल चमकदार हो जाते हैं। साथ ही, इनकी जडें भी मजबूत हो जाती हैं। बालों की समस्याओं में हर्बल जानकारों के अनुसार त्रिफला का सेवन हितकर माना गया है।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्श्री डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, “फाइब्रॉएड गर्भाशय की मांसपेशी के ऊतकों में शुरू होते हैं। वे गर्भाशय की कैविटी में, गर्भाशय की दीवार की मोटाई या पेट की गुहा में बढ़ सकते हैं। फाइब्रॉएड के लिए मेडिकल शब्द है- लेय्योमायोमा। फाइब्रॉएड शरीर में स्वाभाविक रूप से उत्पादित हार्मोन एस्ट्रोजन द्वारा उत्तेजना की प्रतिक्रियास्वरूप विकसित होते हैं। इनकी वृद्धि 20 साल की उम्र में दिख सकती है, लेकिन रजोनिवृत्ति के बाद ये सिकुड़ जाते हैं, जब शरीर एस्ट्रोजेन का बड़ी मात्रा में उत्पादन बंद कर देता है।”

यदि आप रिफॉलियम की कीमत के बारे में चिंतित हैं तो आपको अत्यधिक तनाव नहीं लेना चाहिए। भारत में रिफॉलियम कैप्सूल की कीमत काफी सस्ती है और इस प्रकार आपको महंगी उपचार या सर्जरी पर भरोसा करने की आवश्यकता नहीं है। बस इन कैप्सूल का उपयोग शुरू करें और जल्द से जल्द अपने इच्छित परिणाम प्राप्त करें

इसके तहत सिर के उन हिस्सों, जहां बाल अब भी सामान्य रूप से उग रहे होते है, से केश-ग्रंथियां लेकर उन्हें गंजेपन से प्रभावित हिस्सों में ट्रांसप्लांट किया जाता है। इसमें त्वचा संबंधी संक्रमण का खतरा बहुत कम होता है और उन हिस्सों में कोई नुकसान होने की संभावना कम होती है जहां से केश-ग्रंथियां ली जाती है।

वर्णकों के कारण बाल काला, भूरा, या लाल हो सकता है। यह वर्णक वल्कुट की कोशिकाओं में निक्षिप्त होता है। बाल क्यों सफेद हो जाता है, इसका सही कारण ज्ञात नहीं है। यह संभव है कि उम्र के बढ़ने, रुग्णता, चिंता, शोक, आघात, और कुछ विटामिनों की कमी से ऐसा होता हो। डाक्टरों का मत है बाल का सफेद होना वंशागत होता है।

CNN name, logo and all associated elements ® and © 2017 Cable News Network LP, LLLP. A Time Warner Company. All rights reserved. CNN and the CNN logo are registered marks of Cable News Network, LP LLLP, displayed with permission. Use of the CNN name and/or logo on or as part of NEWS18.com does not derogate from the intellectual property rights of Cable News Network in respect of them. © Copyright Network18 Media and Investments Ltd 2016. All rights reserved.

आयरन मेटाबोलिज्म : आयरन मेटाबोलिज्म में कमी भी बाल झड़ने का कारण बन सकती है। भले ही एनीमिया जैसी कोई समस्या न हो, फिर भी आयरन मेटाबोलिज्म में समस्यायें बाल झड़ने की समस्या को बढ़ा सकती हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल : उच्च कोलेस्ट्रॉल बाल झड़ने का एक महत्वपूर्ण कारण है। इसके चलते रक्त आपूर्ति कमजोर हो जाती है तथा यह सिर की त्वचा में बालों के पतले होने का कारण बनता है।

बिल्कुल खास तरह के आयुर्वेदिक उपचारों की मदद से आप अपने बालों को शानदार और लंबे बना सकते हैं। छोटे बालों वाली महिलाएँ अपने लंबे बालों की ख्वाहिश अच्छे देखभाल की कमी की वजह से पूरा नहीं कर पातीं। बालों के बढ़ने के लिए आयुर्वेदिक उपचार हमेशा से मौजूद थे लेकिन उन्हें अपनाया नहीं गया। लेकिन आज इनके इस्तेमाल से ज्यादा से ज्यादा लोग फायदा उठा रहे हैं। आइए कुछ आयुर्वेदिक सुझावों की तरफ ध्यान देते हैं। बाल लम्बे कैसे करे

चिकित्सा शर्तों और तनाव के मूल्यांकन और आगे करने के लिए इन मुद्दों से संबंधित बालों के झड़ने को रोकने में मदद करने के लिए देखभाल करने के लिए की जरूरत है। याद रखें कि कुछ, लेकिन सभी नहीं, दवाएं बालों के झड़ने का कारण बन कर सकते हैं; इसलिए, एक अलग दवा बालों के झड़ने से संबंधित नहीं की कोशिश कर आगे की हानि को रोकने में मदद हो सकता है।

खालित्य के सबसे आम प्रकार भी कहा जाता है “आम गंजापन”. यह लगभग एक-तिहाई पुरुषों और महिलाओं को प्रभावित करता है. Downside की यह है कि यह आमतौर पर स्थायी है. पुरुषों के लिए जो आम तौर पर इस प्रकार के बालों के झड़ने से पीड़ित यह विशेषता विरासत में मिला है. हम जानते हैं कि लगभग सभी पुरुषों बालों के झड़ने अपने जीवन के अंत में आम है, लेकिन जब हम androgenetic खालित्य के निदान के बारे में बात करते हैं, इस प्रकार का अर्थ है गंजापन, आप बालों के झड़ने के रूप में जल्दी के रूप में अपने किशोर साल अनुभव कर रहे हैं. पुरुषों में, गंजापन के इस प्रकार आम तौर पर मंदिरों और सिर के मुकुट पर शुरू होता है. महिलाओं के इस प्रकार खालित्य के साथ एक स्लिमिंग सामने बालों के झड़ने के लिए आम तौर पर सीमित कर रहे हैं, पक्षों या मुकुट.

मेहंदी भारत का एक चचित हब है। इसमें औषधीय गुण तो होता ही है, साथ ही शादी विवाह में इसका इस्तेमाल टैटू बनाने के लिए किया जाता है। सरसों के तेल में मेहंदी की पत्ती को उबाल लें। ठंडा हो जाने के बाद इसमें हेयर आयल खासकर नारियल का तेल मिलाकर नियमित रूप से इस्तेमाल करें।

डिस्पेंस्सीप्रोन (डीपीसीपी) नामक एक रासायनिक समाधान को गंजा त्वचा के एक छोटे से क्षेत्र में लागू किया जाता है। हर बार डीपीसीपी की एक मजबूत खुराक का उपयोग करके हर हफ्ते यह दोहराया जाता है समाधान अंततः एक एलर्जी प्रतिक्रिया का कारण बनता है और त्वचा हल्के एक्जिमा (जिल्द की सूजन) विकसित करती है। कुछ मामलों में, यह लगभग 12 हफ्तों के बाद बाल regrowth में परिणाम है।

2. बालों की सेहत के लिए शहद का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद है. आधे कप प्याज के रस में दो से चार चम्मच शहद मिलाकर उसे अच्छी तरह फेंट लें. इस पेस्ट को बालों की जड़ों में लगाएं. इससे बालों की ग्रोथ तो अच्छी होगी ही साथ ही उन्हें आवश्यक पोषण भी मिलेगा.

धूम्रपान वाले पदार्थों में उपस्थित जीनोटॉक्सिकेंट्स (genotoxicants) बालों के रोम के डी एन ए को नष्ट कर देता है। आपके बाल इन्हीं बालों के रोमों से बने होते हैं। यही बालों के बढ़ने का कारण होते हैं। अगर ये एक बार नष्ट हो जाते हैं तो आपके बालों का बढ़ना धीमा हो जाता है या बंद हो जाता है। (और पढ़ें – धूम्रपान छोड़ने के सरल तरीके)

बालो का असमय झड़ना hair loss रोकने के लिए यह जरुरी है कि पहले आप पता करे कि ऊपर दिए गए कारणो में से किस कारण आपके बाल अधिक झड़ रहे है। जब तक मूल कारण का उपचार न किया जाए हेयर लोस  रोकना कठिन कार्य है। हेयर लोस  होने के मूल कारण का उपचार करने के साथ निचे दिए गए अन्य उपाय का उपयोग कर आप हेयर लोस  की  रोकथाम कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *