“भारत में बाल विकास कैप्सूल +घाना में सर्वश्रेष्ठ बाल विकास क्रीम”

बाल तोड़ होने पर सुबह तड़के उठकर बिना कुछ करे। मुंह में 15-20 गेहूं दानों को बारीक चाबायें। फिर थूक लार से मिश्रित गेहूं पेस्ट / Wheat Spit Saliva  बालतोड़ जगह पर लगाने से मात्र 48 घण्टे में बाल तोड़ विकार ठीक करने में सहायक है।

इन विधियों को संबोधित सभी या कुछ अद्वितीय प्रमुख तत्वों बाल विकास, उनमें से प्रत्येक के अद्वितीय पेशेवरों और बुरा, विभिन्न परिणामों और साइड इफेक्ट, अलग लागत और गारंटी है। सर्वोत्तम विधिका चयन करने के लिए कैसे? कैसे बंद करो बालों के झड़ने के लिए?

लौकी के बीज protein से भरे होते हैं और इनमें minerals की मात्रा भी काफी अधिक होती है। इस वजह से ये बीज बालों के लिए काफी अच्छे होते हैं। इस बीज का प्रयोग करना शुरू करने पर आपको बाल झड़ने की समस्या में कमी आती दिखना शुरू हो जाएगा। इस बीज के इस्तेमाल से मर्द Prostatic Hyperplasia की स्थिति से भी बच सकते हैं।

प्राकृतिक और कुछ घरेलु तरिको से झड़ चुके बालों को फिर से उगाया जा सकता है। लेकिन इन तरिको से रातो रात या एक दो दिनो में बालों को नहीं उगाया जा सकता है। इसमें आपको महीना दो महीना या इससे अधिक दिनों का समय लग सकता है। घरेलु तरिको से बाल उगाने में आपको कुछ महीनो तक इंतजार करना पड़ेगा तभी इन उपायों का आपको पूरा पूरा फायदा मिल सकता है। तो आइये जानते है किन किन घरेलु और प्राकृतिक तरिको से झड़ चुके बालों को फिर से उगाया जा सकता है।

यह किसी भी tangles रिलीज करने के लिए बालों के माध्यम से कंघी, लेकिन मुख्य रूप से सिर के लिए बेहतर बाल विकासको उत्तेजित करता है। आप अभी भी सही ढंग से खाने के लिए और स्वस्थ बाल विकास, रूप में अच्छी तरह के लिए एक शैम्पू अपने बाल और खोपड़ी के ख्याल विटामिन का उपयोग करने के लिए है।

आप ताजा नींबू का रस या नींबू का तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि बाल की गुणवत्ता और विकास को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। नींबू का तेल आपकी स्वस्थ खोपड़ी बनाए रखने और बाल विकास को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है। शैम्पू से 15 मिनट पहले अपने सिर और बाल में ताजा नींबू का रस लग्गएं। आप एक बाल मास्क के रूप में एक वाहक तेल में  कुछ बूंदे नींबू एसेंसिअल तेल का उपयोग कर सकते हैं।

Sirf baalo ko jhadne se rokna kaafi nahin hai baal ugane ke upay hindi me jo batae ja rahe hai enka bhi prayog kare. Saath me aap ke bal atishay jhad gaye hai to bal ko ugane ke nuskhe or बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय ka bhi prayog kare to jane hair fall treatment in hindi me:

लहसुन का खाने में अधिक प्रयोग करें। उड़द की दाल उबाल कर पीस लें। इसका सोते समय सिर पर गंजेपन की जगह लेप करें। हरे धनिए का लेप करने से भी बाल आने लगते हैं। केले के गूदे को नींबू के रस के साथ पीस लें और लगाएं, इससे लाभ होता है। अनार के पत्ते पानी में पीसकर सिर पर लेप करने से गंजापन दूर होता है।

इसे बनाने के लिए गेहूं के पत्ते, दूर्वा घास, अरबी के पत्ते, गुड़हल के पत्ते, नीबू के छिलके, संतरे के छिलकों को थोड़ा-थोड़ा लें और पानी में उबाल लें। पानी को छानकर बालों की जड़ों में हल्के हाथों से लगाएं और धीरे-धीरे मसाज करें। पांच मिनट के लिए लगा रहने दें और पानी से सिर धो लें।

—बालों पर कलर करने से भी बाल खराब हो जाते हैं और जल्दी टूटने भी लगते हैं। इसीलिए बालों को कलर करने से पहले ध्यान रखें कि डाई में अमोनिया की मात्रा कम से कम हो यानी आप प्राकृतिक कलर मेहदी आदि को ही बाल कलर करने के लिए चुनें। इससे आपके बाल प्रभाव ढंग से हेल्दी् और स्वस्थ रहेंगे।

आमला, शिकाकाई, रीठा और दूसरों सीधे प्रकृति से उपलब्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां बाल विकास के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार में प्रयोग की जाती हैं। तो आप बेहतर परिणाम के लिए इन ताजा जड़ी बूटी जमा कर सकते हैं।  आमला, शिकाकाई, रीठा और अन्य बाल उत्पादों जो ठोस रूप में उपलब्ध हैं, उन्हे 3-4 बार के लिए उपयोग किया जा सकता है।  रात में इन बालों की देखभाल की जड़ी बूटियों को पानी में भिगों दे और सुबह इस जड़ी बूटियों के पानी का उपयोग करें। अगले उपयोग के लिए जड़ी बूटियों के ठोस भाग को निकाल ले और फिर पानी के मिश्रण को उपयोग करें।  और जड़ी बूटियों के ठोस भाग को दुबारा पानी में भिगों दे। जब इन जड़ी बूटियों का प्रभाव पूरी तरह से समाप्त हो जाये तो आप इन्हे निकालकर फेंक दे और नई जड़ी बूटियों को प्रयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *