“रांची में बालों के झड़ने वाले चिकित्सक |पीसीओ के लिए बाल विकास युक्तियाँ”

बालों के झड़ने का मुख्य कारण शारीरिक गतिविधियों की कमी है। अगर आप किसी भी रूप में कसरत या व्या याम नहीं करते तो आपके अन्दर रक्तसंचार कमज़ोर पड़ जाता है जिसकी वजह से उन छिद्रों को, जहाँ से बाल उगते हैं, ज़रुरत के हिसाब से पोषक तत्त्व नहीं मिल पाते क्योंकि सही रक्तसंचार ना होने की वजह से खून सही मात्रा में सिर तक नहीं पहुँचता और नतीजन बालों की जड़ें कमज़ोर हो जाती हैं और बाल गिरने लगते हैं। बालों को गिरने से रोकने के लिए रोजाना कम से कम पैंतालीस मिनिट तक कसरत करनी चाहिए। अगर आप कोई शोर्टकट या सरल रास्ता अपनाएंगे तो आपको फायदा होने से रहा। गोलियां और दवाइयां कुछ हद तक आपको राहत दिला सकते हैं, लेकिन कसरत की कमी से आपके बाल दोबारा झड़ना शुरू हो जायेंगे।

सभी कॉस्मेटिक उत्पादों के साथ साथ वर्तमान समय में हेयर ट्रांसप्लांट की प्रसिद्धि में भी वृद्धि हो रही है। चूँकि लोगों के पास अधिक लक्जरी और अतिरिक्त समय है, इसलिए कोई भी सफलता और ख़ुशी पाने की दौड़ में पीछे नहीं रहना चाहता। 2010 में अमेरिका में लगभग 100,000 हेयर ट्रांसप्लांट तथा दुनिया भर में लगभग 280,000 ट्रांसप्लांट किये गए थे। यह पिछले तीन वर्षों में एशिया में बहुत तेजी से प्रगति कर रहा है, और भारत में भी इसमें तीव्र विकास देखने को मिल रहा है। न केवल पुरुषों का गंजापन बल्कि महिलाओं के हेयर लॉस और भौहों तथा पलकों के ट्रांसप्लांटेशन की प्रक्रिया भी तेजी से लोकप्रिय होती जा रही है। सभी कॉस्मेटिक प्रक्रियाओं की तरह ही यह एक व्यक्तिगत पसंद है। उनके लिए जो गंजेपन को एक बंधन समझते हैं, हेयर ट्रांसप्लांटेशन न्यूनतम दुष्प्रभावों या नुकसानों के साथ एक सुरक्षित एवं प्रभावी प्रक्रिया के रूप में उभरा है।

बालों का झड़ना और कुख्यात घटता सिर के मध्य उन है कि इस आम हालत से ग्रस्त अक्सर शर्मिंदा और संकोची उनकी उपस्थिति के बारे में छोड़ दिया जाता है emergencies- चिकित्सा नहीं हो सकता। चिकित्सा उपचार मौजूद हैं, लेकिन निषेधात्मक लागत जा सकता है। बालों के झड़ने और फिर से बढ़ रही बाल रोक के लिए घर उपचार के लाभ साबित किया गया है।

विटामिन सी (Vitamine C) – बालो का रुखा और बेजान होना बाल झड़ने का बड़ा कारण है| विटामिन सी से बालो को भरपूर पोषण मिलता है, जिसके कारण बाल रूखे और बेजान नहीं होते| बालो को मजबूत बनाने और झड़ने से रोकने के लिए विटामिन सी युक्त आहार ले|

१८. अंगूर के बीज का तेल (Grapeseed oil solution for hair fall): अन्य तेलों के मुकाबले अंगूर के बीज का तेल काफी सस्ता होता है। यह बालों का अच्छे से उपचार करता है। यह बालों का प्राकृतिक कंडीशनर और मॉइस्चराइज़र है। इस तेल से बालों का झड़ना, डैंड्रफ और बालों के कमज़ोर होने जैसी समस्याएं दूर होती हैं। आप रोज़ाना इस उत्पाद का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके प्रयोग से बाल स्वस्थ, आकर्षक और मज़बूत बनते हैं।

हम ऐसे संगठनों और पर बालों के झड़ने परियोजनाओं की एक विस्तृत सूची है हमारी 10 बेस्ट बालों के झड़ने मंच की पृष्ठ. हम आपको अपने प्रयास के साथ सबसे अच्छा इच्छा एक बालों के झड़ने उपाय है कि अपनी आवश्यकताओं को पूरा खोजने के लिए.

कोलंबिया। क्या आप गंजेपन से परेशान हैं? हर तरह का इलाज कराने के बाद भी बाल प्राकृतिक ढंग से नहीं आ रहे? अगर हां, तो शायद ये खबर आपको राहत देने वाली है। क्योंकि कोलंबिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने ऐसी दवा खोज ली है, जो महज 21 दिनों में ही सर पर बाल ला देगी। खास बात तो है कि ये दवा शुरुआती चरण में बहुत ही कारगर रही है। यानि टेस्टिंग का पहला चरण पार कर चुकी है। ऐसे में उम्मीद है ये दवा जल्द ही आम लोगों के उपयोग के लिए बाजार में आ जाएगी।

इसके अलावा, ये घरेलु उपचार जो बालों को झड़ने से रोकते हैं और बालों को फिर से विकसित करते हैं, बहुत ही सस्ते और सबके पहुँच में होते हैं इसलिए आपके जेब में सुराख़ भी नहीं करते । ऐसे कई सारे घरेलु उपचार हैं जो इस समस्या को बहुत की कम समय में सुलझाने में मदद करते हैं ।

हालांकि, यह सिद्ध नहीं हुआ है कि दीथ्रानोल क्रीम दीर्घ अवधि में काफी प्रभावी है। यह त्वचा की खुजली और स्केलिंग भी पैदा कर सकता है और खोपड़ी और बालों को दाग सकता है इन कारणों के लिए, डायथ्रानोल व्यापक रूप से उपयोग नहीं किया जाता है।

आमला, शिकाकाई, रीठा और दूसरों सीधे प्रकृति से उपलब्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां बाल विकास के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार में प्रयोग की जाती हैं। रात में इन जड़ी बूटियों को पानी में भिगों दे और सुबह इस जड़ी बूटियों के पानी का उपयोग करें। अगले उपयोग के लिए जड़ी बूटियों के ठोस भाग को निकाल ले और फिर दोबारा भिगोकर उपयोग करें। और जब इन जड़ी बूटियों का प्रभाव पूरी तरह से समाप्त हो जाये तो आप इन्हे निकालकर फेंक दे और नई जड़ी बूटियों को प्रयोग करे।

चूंकि डेंगू मच्छरों द्वारा संक्रमित होता है इसलिए सबसे अधिक जरूरी है कि मच्छरों को घर में बिल्कुल न होने दें। सर्वप्रथम यह प्रयास करें कि अपने घर के आसपास पानी न जमा होने दें। यदि आसपास कोई गड्ढा हो, तो उसे मिट्टी से भर दें जिससे उनमें पानी न रूके और मच्छरों को पनपने का अवसर न मिले। यदि यह सम्भव न हो, तो उसमें उसमें मिट्टी का तेल अथवा पेट्रोल डाल दें।

Posted in Androgenetic Alopecia, Hair Loss Tagged androgenetic alopecia, finasteride, genetic pattern hair loss, Men’s Rogaine Unscented Foam, Propecia, rogain, seborrheic dermatitis, telogen effluvium, Women’s Rogaine Foam

यह इस तरह के रूप में और अधिक जटिल और गंभीर उपचार की बात आती है बाल प्रत्यारोपण या micrografts, जानना बाल प्रत्यारोपण लागत महंगी होती हैं और आप पा सकते हैं, कई अन्य लोगों की तरह, समय की अवधि के बाद, आप एक दूसरे सत्र की आवश्यकता होती है.

नई – बालों के झड़ने और Finasteride रिस्पांस के लिए जेनेटिक टेस्ट – पहले आनुवंशिक परीक्षण भविष्य में बालों के झड़ने की भविष्यवाणी अब बाल बहाली चिकित्सकों से पुरुषों और महिलाओं के लिए उपलब्ध है. एक साधारण, गैर इनवेसिव गाल – झाड़ू सही महत्वपूर्ण गंजापन के लिए एक व्यक्ति के जोखिम से पहले संकेत और लक्षण गंभीर हैं, जो भी सबसे अच्छा समय चिकित्सा आरंभ होना होता है की भविष्यवाणी कर सकते हैं. Finasteride रिस्पांस टेस्ट सही भविष्यवाणी कितनी अच्छी तरह एक आदमी के साथ इलाज finasteride (है मर्क Propecia ™ में सक्रिय संघटक) का जवाब करने के लिए बाल नुकसान को रोकने सकता है.

१५. अंडे का सफ़ेद भाग (Egg white): अंडे के सफ़ेद भाग में उपचार करने के गुण होते हैं। अंडे के सफ़ेद भाग को बालों पर लगाने पर बालों में नयी जान आती है और वे चमकदार और मुलायम बनते हैं। अगर आप लम्बे और मज़बूत बाल चाहते हैं तो इस नुस्खे का प्रयोग करें। कुछ अण्डों को तोड़ें और पीले भाग को छोड़ दें। सफ़ेद भाग का प्रयोग करें और बालों का मास्क बनाएं। १५ मिनट बाद शैम्पू कर लें। आपको अपने बाल मज़बूत और स्वस्थ महसूस होंगे। बालों को तेज़ी से बढ़ाने के लिए हफ्ते में एक बार इस नुस्खे का प्रयोग करें।

भ्रंगराज नाम है जड़ी बूटियों के राजा का जिसमें बालों की लंबाई बढ़ाने का बेहतरीन गुण है। लंबे बाल के उपाय, इसके पत्तों को धो कर पेस्ट बना लें। जिन्हें यह पत्तियाँ न मिलें वे आयुर्वेदिक दुकानों से इसका पाउडर ले सकते हैं। इसकी 5-6 चम्मच पाउडर को गर्म पानी में डालकर पेस्ट बना लें और फिर बालों में लगाकर 20 मिनट तक रखें।

बालों रंग काला मेलानिन के कारण होता हैं, जो हमारी त्वचा के पिगमेंट में होता है। जिनके बालों का रंग हल्का काला होता है उनमें मेलानिन की कमी होती है। आप देखते हो न कि बड़े लोगों के बाल सफेद या ग्रे हो जाते हैं, असल में उनमें मेलानिन पिगमेंट खत्म हो जाता है, इसलिए उनके बाल सफेद हो जाते हैं। बालों का रंग अक्सर त्वचा के रंग पर निर्भर करता है। अगर आपका रंग फेयर है तो बालों का रंग सुनहरा होगा और अगर आप सांवले हैं तो बालों का रंग काला होगा। ज्यादातर देखा जाता है कि बच्चों के बालों का रंग उनके माता-पिता से विरासत में मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *