“हेयरलाइन regrowth उत्पादों -बाल विकास दर आहार”

इस अनचाही दुविधा से इलाज के लिए एक नवीनतम चिकित्सा क्रम तैयार कर लिया गया है। जो एक तकनीक है यह शरीर में कई विकारो से उत्पन्न होने वाले गंजापन, बाल गिरने, बाल झड़ने के खिलाफ उपचार प्रदान करता है और इसलिए इसे स्टेम सेल थेरेपी कहा जाता है।

नहाते वक्त या बाल धोते समय बालो पर कभी भी बहुत अधिक गरम पानी का उपयोग न करे. अधिक गरम पानी से बाल कमजोर और नाजुक बन जाते है. नहाते वक्त सिर्फ ठन्डे या हल्के गुनगुने पानी का प्रयोग करे. ऐसा करने से आपके बालों पर ज्यादा जोर नहीं पड़ेगा जिस कारण वे मजबूत बने रहेंगे और गिरेंगे नहीं.

एक कटोरी में एक अंडे की सफेदी लें और उसमें एक छोटा चम्मच ऑलिव ऑयल डालकर अच्छी तरह फेंटकर मिला लें। इस मिश्रण को सिर पर और बालों में अच्छी तरह से लगाकर पंद्रह से बीस मिनट के लिए सूखने के लिए छोड़ दें। उसके बाद पानी से बालों को धोने के बाद माइल्ड शैंपू से साफ कर लें।

बालों के कम होने का मुख्य कारण हॉर्मोन की असमानता होती है। जापान के वैज्ञानिकों के मुताबिक़ 4 – अल्फा रेडक्टेस बढ़ाने के लिए सिर में तेल की अतिरिक्त मात्रा उत्पन्न होती है। इस शोध में पाया गया वसा के सेवन से सीबम की मात्रा बढ़ती है।

1. अंडा और जैतून तेल: अंडे का सफेद भाग ले कर उसके साथ 2 चम्?मच जैतून का तेल मिक्?स करें। अब इस मिश्रण को सिर पर अच्?छी तरह से लगाएं। 20 मिनट के बाद बालों को ठंडे पानी और शैंपू से धो लें। कुछ हफ्तो तक ऐसा करने से बालों की ग्रोथ होना शुरु हो जाएगी।

हल्‍दी एक बेहतरीन एंटीसेप्टिक होने के साथ ही अनचाहे बालों को भी दूर करती है। इसे लगाने से चेहरे पर बाल नही उगते और त्‍वचा की रंगत भी निखरती है। रोज पांच से दस मिनट हल्दी का लेप लगाएं। image courtesy : gettyimages.in

जैतून खाने के काम भी आता है तथा त्वचा और बालों के लिए काफी लाभकारी है। आप बाज़ार में भांति भांति के तेल पा सकते हैं जिनमें जैतून मिला हो। बालों के लिए प्रयोग में आने वाले जैतून के तेल को चुनें और इसे बालों पर लगाएं। यह बालों को जड़ से मज़बूत करता है तथा इसे मुलायम भी बनाता है। अच्छे परिणामों के लिए एक छोटे पात्र में जैतून का तेल गर्म करें तथा इसे बालों की जड़ तक अच्छे से लगाएं। मालिश करने के बाद ३ मिनट तक छोड़ दें। इसके बाद एक सौम्य शैम्पू से बाल धो लें। इससे बालों का घनत्व बढ़ेगा।

गंजा होना प्रायः हेयरलाइन के कम होने से शुरू होता है। शुरुआत में हेयरलाइन M-आकार का पैटर्न बनाते हुए कनपटी के क्षेत्र में कम होती जाती है। धीरे धीरे बीच का भाग भी एक उलटा-U पैटर्न बनाते हुए गायब हो जाता है। इसके अतिरिक्त, चोटी के सम्मुख भाग में भी बाल झड़ जाते हैं। कुछ लोगों में चोटी के बालों का झड़ना प्रमुख या पूर्ण पैटर्न बन सकता है, जबकि अन्य में चोटी के बाल झड़ने के बजाय केवल सम्मुख भाग के बाल झड़ सकते हैं।

हर व्यक्ति घने काले बालो कि चाहत रखता है। कोई नहीं चाहता कि बालो का असमय झड़ना / Hair loss कि वजह से वह 25 साल कि उम्र में 40 साल का दिखाई दे। कम उम्र में सिर के बालो का गिरना या hair loss होना बहुत tension देने वाली problem है। 

अगर आपको कोई मेडिकल प्रॉब्लम यानि कोई बीमारी है तो आप बालों की लंबाई बढ़ाने के कितने भी प्रयास कर लें, बालों में ग्रोथ नहीं होगी। जिसे थाइरॉयड की शिकायत है, हार्मोनल असंतुलन हो, पुरानी कोई लाइलाज बीमारी हो या फिर कोई संक्रमण हो तो उसके बालों में ग्रोथ नहीं होता है। अगर आप गर्भ निरोधक या स्टेरॉइड की गोली ले रहे हैं तो आपको बाल के झड़ने और गिरने की शिकायत हो सकती है।

सहजन या मुनगा- इसकी पत्तियों के रस को लगा कर प्रतिदिन नहाने से सिर से रूसी या डेंड्रफ़ खत्म हो जाती है। इस रस का इस्तेमाल कम से कम एक सप्ताह तक करना जरूरी है। सहजन की फलियों को उबालकर पल्प तैयार किया जाए और नहाते वक्त इस पल्प को सिर पर शैंपू की तरह इस्तेमाल किया जाए तो यह बाजार में उपलब्ध किसी भी विटामिन ई युक्त शैंपू से बेहतर साबित होगा। आधुनिक विज्ञान भी सहजन में पाए जाने वाले विटामिन ई को बालों के लिए लाभकारी मानता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *